http://blogsiteslist.com

बुधवार, 20 सितंबर 2017

इज्जत मत उतारिये ‘उलूक’ की बात कर साहित्य और साहित्यकारों की समझिये जरा वो बस अपनी उल्टियाँ लिख रहा है

ना धूल दिख
रही है कहीं
ना धुआँ ही
दिख रहा है
एक बेवकूफ
कह रहा है
साँस नहीं
ली जाती है
और दम
घुट रहा है


हर कोई
खुश है
खुशी से
लबालब है
सरोबार
दिख रहा है

इतनी खुशी है
सम्भलना ही
उनका मुश्किल
दिख रहा है

हर कदम
बहक रहा है
बस एक दो
का नहीं
पूरा शहर
दिख रहा है

देखने वाले
की मुसीबत है
कोई पूछ ले उससे
तू पिया हुआ सा
नहीं दिख रहा है

कोई नहीं
समझ रहा है
ऐसा हर कोई
कह रहा है

अपने अपने चूल्हे हैं
अपनी अपनी आग है
हर कहने वाला
मौका देख  कर
अपनी सेक रहा है

‘उलूक’
देख रहा है
कोई नहीं
जानता है उसको
और उसकी
बकवास को
उसकी तस्वीर
का जनाजा
अभी तक कहीं
नहीं निकल रहा है

क्या कहें दूर
कहीं बैठे
साहित्यकारों से
जो कह रहे हैं
किसी से
मिलने का
दिल कर रहा है

हर शाख पर बैठे
उल्लू के प्रतीक
उलूक को
सम्मानित करने
वाली जनता

‘उलूक’
उल्लू का पट्ठा
कौड़ियों के
मोल का
अपने शहर का

बाहर कहीं
लग रहा है
गलतफहमी में
शायद कुछ
ज्यादा ही
बिक रहा है ।

चित्र साभार:
twodropsofink.com

रविवार, 17 सितंबर 2017

इतना दिखा कर उसको ना पकाया करो कभी खुद को भी अपने साथ लाया करो

अपना भी
चेहरा कभी
ले कर के
आया करो


अपनी भी
कोई एक
बात कभी
आकर
बताया करो

पहचान चेहरे
की चेहरे से
होती है हजूर

एक जोकर को
इतना तो ना
दिखाया करो

बहुत कुछ
कहने को
होता है पास में
खुशी में भी
उतना ही
जितना उदास में

खूबसूरत हैं आप
आप की बातें भी
अपने आईने में
चिपकी तस्वीर
किसी दिन
हटाया करो

खिलौनों से
खेल लेना
जिन्दगी भर
के लिये
कोई कर ले
इस से अच्छा
कुछ भी नहीं
करने के लिये

किसी के
खिलौनों
की भीड़ में
खिलौना हो
खो ना
जाया करो

कहानियाँ
नहीं होती हैं
‘उलूक’ की
बकबक

बहके हुऐ
को ना
बहकाया करो

उसकी बातों
में अपना घर
इतना ना
दिखवाया करो

अपनी ही
आँखों से
अपना घर
देख कर के
आया करो।

चित्र साभार: CoolCLIPS.com

शुक्रवार, 15 सितंबर 2017

अभी अभी पैदा हुआ है बहुत जरुरी है बच्चा दिखाना जरूरी है

जब भी तू
समझाने की
कोशिश करता है
दो और दो चार

कोई भाव
नहीं देता है
सब ही कह देते हैं
दूर से ही नमस्कार

जमाने की नब्ज में
बैठ कर जिस दिन
शुरु करता है तू
शब्दों के
साथ व्यभिचार

जयजयकार गूँजती
है चारों ओर
और समझ में
आना शुरु होता है
उसी क्षण से व्यवहार।

बदलना चाहता है कोई अगर कुछ उसके बदलने से पहले बदलने को ही बदल दो

इससे पहले
कोई समझले
क्या कह
दिया है
विषय ही
बदल दो

समय
रुकता नहीं है
सब जानते हैं
समझते नहीं हैं
मौका देखकर
समय को
ही बदल दो

शातिर कभी
खून
करता नहीं है
खून ही
बदल देता है
सीख लो अगर
सीख सको
मत करो खून
बस खून
ही बदल दो

समय
सिखाता है
परिवर्तन भी
लाता है

सुपारी
देने वाले
बेवकूफ
होते हैं

सुधारवादी
बैठे बैठे
सामने वालों का
बिना कुछ कहे
खून सुखाता है

जरूरी है
कत्ल कर देना
सम्वेदनाओं का

बहुत वेदना देती हैं

सामने सामने
आँखों आँखों में
कह भी
दिया जाता है

कितना
बेवकूफ होता है
मार खाता है
फिर भी अपनों
के पास फिर से
सुखाने
चला आता है

उसका देखना
ही बदल दो

बहुत ही
अपना होता है
पुचकारता
चला जाता है
फाँसी कभी
नहीं होने देगा
खड़े खड़े
समझाता है

लटका दिया
गया है जमीर
‘उलूक’
उसका
बिना पूछे
किसी से

अखबार का
एक समाचार
सुबह का
ये बताता है

अखबार का
कुछ नहीं
कर पायेगा
कहीं कुछ भी
पता होता है

बदल दो कुछ

कोई रस्सी
ही सही
रस्सी
बदल दो ।

चित्र साभार: Dreamstime.com

बुधवार, 13 सितंबर 2017

हजार के ऊपर दो सौ पचास हो गये बहुत हो गया करने के लिये तो और भी काम हैं

कुछ रोज के
दिखने से
परेशान हैं
कुछ रोज के
लिखने से
परेशान हैं
गली से शहर
तक के सारे
आवारा कुत्ते
एक दूसरे
की जान हैं

किस ने
लिखनी हैं
सारी
अजीब बातें
दिल खोल कर
छोटे दिल की
थोड़ा सा
लिख देने से
बड़े दिल
वाले हैरान हैं

बकरियाँ
कर गयी हैं
कल से तौबा
घास खाने से
खड़ी कर अपनी
पिछली टाँगे
एक एक की
एक नहीं कई हैं
घर में ही हैं
खुद की ही हैं
घास की दुकान हैं

पढ़ना लिखे को
समझना लिखे को
पढ़कर समझकर
कहना किसी को
नयी बात कुछ
भी नहीं है इसमें
आज की आदत है
आदत बहुत आम है

 कोई
शक नहीं
‘उलूक’
सूचना मिले
घर की दीवारों
पर चिपकी
किसी दिन
शेर लिखना
उल्लुओं का नहीं
शायरों का काम है ।

 चित्र साभार: Fotosearch

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...