http://blogsiteslist.com

मंगलवार, 29 अक्तूबर 2013

बात ही अजीब हो तो कोई कैसे समझ पायेगा

कई बार बहुत सारे
विषय हो जाते हैं
लिखने लिखने तक
सारे के सारे ही
भूले जाते हैं
सोच ही रहा था
आज उनमें से
किस पर अच्छा सा
कुछ लिखा जायेगा
किसे मालूम था
कुत्ता आज ही
कहीं से मार खा
कर चला आयेगा
जानता था विज्ञान को
समझना बहुत मुश्किल
नहीं कभी हो पायेगा
पता नहीं था
आस पास का
मनोविज्ञान ही
हमेशा कुछ
यूं घुमायेगा
और एक अजीब सा
इत्तेफाक ये हो जायेगा
डाकिया जितनी बार
अच्छी खबर का
एक पोस्टकार्ड ला कर
घर पर दे जायेगा
शुभकामनाओं की उम्मीद
किसी से ऐसे में
कोई कैसे कर पायेगा
जब हर अच्छी
खबर के बाद
किसी के घर का
कुत्ता हमेशा ही
मार कहीं से खा
कर चला आयेगा ।

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...