http://blogsiteslist.com

बुधवार, 31 अगस्त 2016

मरे घर के मरे लोगों की खबर भी होती है मरी मरी पढ़कर मत बहकाकर

अखबार के
मुख्य पृष्ठ पर
दिख रही थी
घिरी हुई
राष्ट्रीय
खबरों से
सुन्दरी का
ताज पहने हुऐ
मेरे ही घर की
मेरी ही
एक खबर

हंस रही थी
बहुत ही
बेशरम होकर
जैसे मुझे
देख कर
पूरा जोर
लगा कर
खिलखिलाकर

कहीं पीछे के
पन्ने के कोने में
छुप रही थी
बलात्कार की
एक खबर
इसी खबर
को सामने
से देख कर
घबराकर
शरमाकर

घर के लोग सभी
घुसे हुऐ थे घर में
अपने अपने
कमरों के अन्दर
हमेशा की तरह
आदतन
इरादातन
कुंडी बाहर से
बंद करवाकर

चहल पहल
रोज की तरह
थी आँगन में
खिलखिलाते
हुऐ खिल रहे
थे घरेलू फूल
खेल रहे थे
खेलने वाले
कबड्डी
जैसे खेलते
आ रहे थे
कई जमाने से
चड्डी चड़ाये हुए
पायजामों के
ऊपर से
जोर लगाकर
हैयशा हैयशा
चिल्ला चिल्ला कर

खबर के
बलात्कार
की खबर
वो भी जिसे
अपने ही घर
के आदमियों
ने अपने
हिसाब से
किया गया
हो कवर
को भी कौन सा
लेना देना था
किसी से घर पर

‘उलूक’
खबर की भी
होती हैं लाशें
कुछ नहीं
बताती हैं
घर की घर में
ही छोड़ जाती हैं
मरी हुई खबर
को देखकर
इतना तो
समझ ही
लिया कर ।

चित्र साभार: worldartsme.com

शुक्रवार, 26 अगस्त 2016

समाज की बहती हुई किसी धारा में क्यों नहीं बहता है बेकार की बातें फाल्तू में रोज यहाँ कहता है

हर किसी
को दिखाई
देती है अपने
सामने वाले
इन्सान में
इशारों इशारों
में चल देने
वाली एक
आधुनिक कार

जिसके गियर
स्टेरिंग क्लच
और ब्रेक उसे
साफ साफ
नजर आते हैं


वो बात
अलग है
बारीक
इन्सान
जानते हैं
सारी
बारीकियाँ


किसके
हाथ से
बहुत दूर से
बिना चश्मा
लगाये भी
क्या क्या
चल पाता है

और
किस आदमी
से कौन सा
आदमी
रिमोट
से ही
घर बैठे
बैठे कैसे
चलाया
जाता है


समाज की
मुख्य धाराओं
में बह रहे
इन्सानो को
जरा सा भी
पसन्द नहीं
आते हैं
अपनी
मर्जी से
धाराओं के
किनारे खड़े
हुऐ दो चार
प्रतिशत
इन्सान
जो मौज में
मुस्कुराते हैं


जिस समाज
की धाराओं
के पोस्टर
गंगा के
दिखाई
देते हैं
भगीरथ के
जमाने के
होते हैं
 मगर
आज के
और
अभी के
बताये
जाते हैं


और

तब से
अब तक
के सफर
में जब
गंगा घूम
घाम कर
जा भी
चुकी
होती है
बस रह
गई होती हैं
धारायें
इन्सानी
सीवर की
जिसकी
खुश्बू को
भी सूँघने
से लोग
कतराते हैं


सीवर
नीचे से
निकलने
वाले मल
का होता
तब भी
अच्छा होता
उसमें बहने
से कुछ
तो मिलता
इन्सान को
ना सही
उसके
आस पास
की मिट्टी
को ही सही


पर सीवर
और गंगा
नंगे इन्सानों
के ऊपर
के हिस्से
में बह रही
गंदगी का
होता है

नजर वाले
ही
देखने में
सोचने में
धोखा
खाते हैं


हर कोई
डुबकी
लगा रहा
होता है
मजबूरी
होती है
लगानी
पड़ती है
नहीं लगाने
वाले किनारे
फेंक दिये 

जाते हैं

करम में
भागीदारी
कर नहीं
तो मर
करमकोढ़ियों
को जरा
सा भी
पसन्द नहीं
आते हैं
वो इन्सान
जो धाराओं
से दूर
रहते हैं
किनारे
खड़े हुए 

होते हैं

इसीलिये
उनको
सुझाव
दिया
जाता है

समाज में
रहना
होता है
तो किसी
ना किसी
धारा में 

बहना
होता है


‘उलूक’
तुझे क्या
परेशानी है
तू तो
जन्मजात
नंगा है
छोटी सी
बात है
तेरी छोटी
सी ही तो
समझदानी है 


जहाँ सारे
कपड़े
पहने हुए
धारा में
तैरते नजर
आ रहे
होते हैं
हिम्मत
 करके
थोड़ा सा
सीवर में
कूदने में
क्या जाता है
क्यों नहीं कुछ
थोड़ा सा
सामाजिक
तू भी
नहीं हो
जाता है ?

चित्र साभार: www.canstockphoto.com

शुक्रवार, 19 अगस्त 2016

अच्छे लोग और उनके उनके लिये मिमियाते बकरे

बकरे कटने
के लिये ही
होते हों
या
बकरे हर समय
हर जगह कटें ही
जरूरी नहीं है
हर कोई
बकरे नहीं
 काटता है
कुछ लोग
जानते हैं
बहुत ही
अच्छी तरह
कुछ बकरे
शहर में
मिमियाने
के लिये
छोड़ने भी
जरूरी होते हैं
जरूरी नहीं
होता है उन्हें
कुछ खिलाना
या पिलाना
कुछ बकरे
खुद अपनी
हरी पत्तियाँ
खाये हुए
पेट भरे होते हैं
बकरे शहर
में छोड़ना
इस लिये भी
जरूरी होता है
ताकि सनद रहे
और
बकरे भी हमेशा
खुद के लिये ही
नहीं मिमियाते हैं
बकरे वो सब
बताते हैं जो
उन्हें खुद
मालूम नहीं
होता है
बकरों को
गलत फहमी
होती है अपने
खुलेआम
आजादी से
घूमने की
वजह की
जानकारी
होने की
अच्छे लोग
बकरों को
कभी काटा
नहीं करते हैं
बकरे हमेशा
बताते हैं
अच्छे लोगों की
अच्छाइयाँ
शहर की
गलियों में
मिमिया
मिमिया कर
देश को भी
बहुत ज्यादा
जरूरत होती है
ऐसे अच्छे
लोगों की
जिनके पास
बहुत सारे
बकरे होते हैं
सारे शहर में
मिमिया लेने वाले
बिना हरी घास
की चिंता किये हुऐ
‘उलूक’
कब से पेड़ पर
बैठा बैठा
गिनती भूलने
लगा है
अच्छे लोगों
और उनके
उनके लिये
मिमियाते
बकरों को
गिनते गिनते ।

चित्र साभार: www.speakaboos.com

गुरुवार, 18 अगस्त 2016

मुर्दा पर्दे के पीछे सम्भाल कर जीना सामने वाले को पर्दे के सामने से समझाना होता है

मेहनताना
खेत खोदने
का अगर
मिलता है
चुपचाप
जेब में
रख कर
आना होता है
किसने
पूछना होता
है हिसाब
घरवालों के
खुद ही बंजर
किये खेत में
वैसे भी कौन सा
विशिष्ठ गुणवत्ता
के धान ने
उग कर
आना होता है
घास खरपतवार
अपने आप
उग जाती है
रख रखाव के
झंझट से भी
मुक्ति मिल
जाती है
छोड़ कर
खेत को
हिसाब किताब
की किताब को
साफ सुथरे
अक्षरों से
सजा कर
आना होता है
झाड़ झंकार
से बनने वाली
हरियाली को
भूल कर
इकतीस मार्च
तक बिल्कुल
भी नहीं
खजबजाना
होता है
सबसे
महत्वपूर्ण
जो होता है
वो खेत
छोड़ कर
और कहीं
जा कर
गैर जरूरी
कोई दीवार
सीढ़ी सड़क
का बनाना
होता है
पत्थर भी
उधर के लिये
खेत में से ही
उखाड़ कर
उठा कर
लाना होता है
चोखे मेहनाताने
पर आयकर देकर
सम्मानित नागरिक
हो जाने का बिल्ला
सरकार से लेते हुए
एक फोटो
अखबार में
छपवाने के वास्ते
प्रसाद और फूल
के साथ दे कर
आना होता है
‘उलूक’
की बकवास
की भाषा में
कह लिया जाये
बिना किसी
लाग लपेट के
अगर सौ बातों
की एक बात
अपने अपने
बनाये गये
मुर्दों को
अपने अपने
पर्दों के पीछे
लपेट कर
सम्भालकर
आना होता है
फिर सामने
निकल कर
आपस में मिलकर
सामने वालों को
मुस्कुराते हुऐ
जिंदगी क्या है
बहुत प्यार से
समझाना होता है ।


चित्र साभार: www.canstockphoto.com

रविवार, 14 अगस्त 2016

एक खयाल आजाद एक खयाल गुलाम एक गुलाम आजाद एक आजाद गुलाम

गुलामों के
गुलामों की
किसी एक
श्रृंखला के
गुलाम
तेरे आजाद
होने के
खयाल को
एक गुलाम
का सलाम
सोच ले
कर ले मनन
लगा ले ध्यान
लिखना चाहे
तो लिख भी
ले एक कलाम
कल के दिन
आने वाली
एक दिन
की आजादी
के जश्न का
आज की शाम
देख कर
दिनदर्शिका में
अवकाश के
दिनों में
दिखाये गये
लाल रंग में रंगे
पन्द्रह अगस्त
का लेकर नाम
कल निकल
जायेगा हाथ से
एक साल तक
नहीं मिलेगा
फिर मौका
हो जायेंगे
तेरे सारे
अरमान धड़ाम
करले करले
बिना शरमाये
किसी बड़े
गुलाम के
छोटे गुलाम को
झंडा तानते समय
जोर से जूता
ठोक कर सलाम
आजाद खयाल
आजाद रूहें
करें अपने
हिसाब किताब
लिये अपने
जारी और रुके
हुए जरूरी
देश के सारे काम
एक गुलाम
‘उलूक’ का
अपने जैसे
गुलामों के लिये
है बस ये
गुलाम खयाल
आजाद पैगाम ।

चित्र साभार: www.shutterstock.com

शुक्रवार, 12 अगस्त 2016

'उलूक’ पहले अपना खुद का नामरद होना छिपाना सीख

सोच को सुला
फिर लिख ले
जितनी चाहे
लम्बी और
गहरी नींद

 सपने देख
मशालें देख
गाँव देख
लोग देख
गा सके
तो गा
नहीं गा सके
तो चिल्ला
क्राँति गीत

कहीं भी
किसी भी
गिरोह में
जा और देख
गिरोह में
शामिल करते
गिरोहबाजों
की कलाबाजियाँ
पैंतरेबाजियाँ
और कुछ
सीख

हरामखोरियों
की
हरामखोरियाँ
ही सही
सीख

देश राज्य
जिला शहर
मोहल्ले की
जगह अपनी
जगह पर
अपनी जमीन
खुद के नीचे
बचाने
की कला
सीख

कोशिश कर
उतारने की
सब कुछ
कोशिश कर
दौड़ने की
दिन की
रोशनी में
नंगा होकर
बिना झिझक
जिंदा रहने
के लिये
बहुत
जरूरी है
सीख

किसी
भी चोर
को गाँधी
बनाना
और
गाँधी को
चोर बनाना
सीख

इन्सान
की मौत
पर बहा
घड़ियाली
आँसू

कुछ
थोड़ा सा
आदमी का
खून पी
जाना भी
सीख

सब जानते हैं
सब को पता है
सब कुछ बहुत
साफ साफ
सारे ऐसे
मरदों को
रहने दे

‘उलूक’
ये सब
दुनियादारी है
रहेगी हमेशा
पहले अपना
खुद का
नामरद होना
छिपाना
सीख ।

चित्र साभार: www.shutterstock.com

शनिवार, 6 अगस्त 2016

श्श्श्श शोर नहीं मास्साब हैं आँख कान मुँह नाक बंद करके शिष्यों को इंद्रियाँ पढ़ा रहे हैं

दृश्य एक:
बड़े बड़े हैं
बहुत बड़े हैं
बड़प्पन
दिखा रहे हैं
आँख मूँदे
बैठे हैं
कान में
सरसों का
गुनगुना तेल
डलवाकर
भजन
गुनगुना रहे हैं
कुछ उसी
तरह का
दृश्य बन
रहा है जैसे
अफ्रीका के
घने जंगल के
खूबसूरत
बड़े नाखून
और तीखे
दाँतों वाले
बब्बर शेर
परिवार और
मित्रों के साथ
बैठे हुऐ
घास फूस
की दावत
उड़ा रहे हैं


दूसरे दृश्य में :
तमाशा
दिखाने वाले
शेरों के ही
अगल बगल
एक टाँग पर
खड़े हुए कुछ
बगुले दिखा
रहे हैं
सफेद हैं
झकाझक हैं
अपनी दुकानें
सरकारी
 दुकान के
अन्दर के
 किसी कोने
में सजा रहे हैं
बेचने को
बहुत कुछ है
अलग बात है
शेरों का है
खरीदने वालों
को पता है
भीड़ उमड़
रही है
खालें बिक
रही हैं
बोली बढ़ा
चढ़ा कर
लगा रहे हैं
बगुलों की
गरम हो
रही जेबें
किसी को
नजर नहीं
आ रही हैं
बगुले
मछलियों के
बच्चों को
शेरों के दाँतों
की फोटो
बेच कर
पेड़ों में चढ़ने
के तरीके
सिखा रहे हैं
जय हो
जंगल की
जय हो
शेरों की
जय हो
भक्तों की
जय हो
सरकार
और
सरकारी
आदेशों की
जय हो उन
सभी की
जो इन सब
की बत्ती
बनाने वालों
को देख
समझ  कर
खुद
अपने अपने
हनुमानों की
चालीसा
गा रहे हैं


निचोड़:
परेशान नहीं
होना है
आँख और
कान वालो
शेखचिल्ली
उलूक और
उसके
मुँगेरीलाल
के हसीन
सपने
कौन सा
पाठ्यक्रम
में जुड़ने
जा रहे हैं
जंगल
अपनी जगह
शेर
अपनी जगह
बगुले
अपनी जगह
लगे हुऐ
अपनी अपनी
जगह
जगह ही तो
बना रहे हैं ।


सार:
श्श्श्श
शोर नहीं
मास्साब
आँख
कान मुँह
नाक बंद
करके
शिष्यों को
आजकल
इंद्रियाँ
पढ़ा रहे हैं ।

चित्र साभार: country.ngmnexpo.com

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...