http://blogsiteslist.com

शुक्रवार, 9 जून 2017

अपना देखना खुद को अपने ही जैसा दिखाई देता है

बहुत लिखता है
आसपास रहता है
अलग बात है
लिखता हुआ
कहीं भी नहीं
दिखाई देता है

दिखता है तो
बस उसका
लिखा हुआ ही
दिखाई देता है

क्या होता है
अगर उसके
लिखे हुऐ में
कहीं भी
वो सब नहीं
दिखाई देता है

जो तुझे भी
उतना ही
दिखाई देता है
जितना सभी को
दिखाई देता है

आँखे आँखों में
देख कर नहीं
बता सकती
हैं किसी की
उसे क्या
दिखाई देता है

लिखता बहुत
लाजवाब है
लिखने वाला

हर कोई खुल
कर देता है
बधाई पर
बधाई देता है

बहुत
दूर होता है

फिर भी पढ़ने
वाले को जैसे
लिखे लिखाये में
अपने एक नहीं
हजारों आवाज
देता हुआ
सुनाई देता है

बहुत छपता है
पहले पन्ने को
खोलने का जश्न
हर बार होता है

भीड़ जुटती है
चेहरे के पीछे
के चेहरों को
गिना जाता है
बहुत आसानी से

अखबारों के
पन्नों में छपी
तस्वीरों पर
खबर का मौजू
देखते ही
समझ में
आ जाता है

होगा जरूर
कहीं ना कहीं
खबर में चर्चे में

बस चार लाईन
पढ़ते ही पहले
उसका ही नाम
खासो आम जैसा
दिखाई देता है

अपने देखने से
मतलब रखना
चाहिये ‘उलूक’

जरूरी नहीं
होता है हर
किसी को
खून का रंग
लाल ही
दिखाई देता है ।

चित्र साभार: http://www.clipartpanda.com/categories/seeing-clipart

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...