http://blogsiteslist.com

मंगलवार, 10 अक्तूबर 2017

सारे विश्व में सुना है मना रहे हैं मानसिक स्वास्थ दिवस आज पागल पागल खेलने का दिन है आ जाओ अब बाज

हिदायतें
दे रहें हैं
चिकित्सक
बहुत सारे
मुफ्त में ही
बेहिसाब

और दिन
का लिखना
अलग बात है
बहुत जरूरी है
लिखनी आज
मन की बात

उधर वो बात
दिमागी सेहत
की बता रहे हैं

खाने पीने को
ठीक रखना है
समझा रहे हैं

अकेलेपन से
निपटना है
भीड़ में
घर की ही सही

हिल मिल कर
कुछ इस तरह
से रहना है
बच्चों को भी
देखना है
बुजुर्गों को भी
थोड़ा बहुत
कुछ कहना है

व्यायाम
करना है
नकारात्मक
विचारों को
दिमाग में
नहीं भरना है
आत्मविश्वास
बनाये रखना है

पागल नहीं
हो रहे हैं
सोच कर
मन को
धैर्य दिलाये
रखना है

सोचिये
एक ही
दिन में
कितना
सारा
क्या क्या
करवाने
वो जा रहे हैं

इधर
नासमझ
लोग हैं
ये बात
वो कहाँ
समझ
पा रहे हैं

इतनी सी
छोटी बातों
को समझने
में ही आधी
जिन्दगी काट
कर यहाँ तक
चले आ रहे हैं

मानसिक रोग
को एक अकेला
नहीं समझ
पा रहा है

भीड़ की
हरकतें
देख कर
सामने खड़े
सभी लोगों
को पागल
बता रहा है

रोज
देखता है
सुनता है
कर रही
होती है
भीड़ कुछ
पागलपन

लाचार दूर से
देखता तमाशा
महसूस कर
रहा होता है
कुछ नहीं
कर पा रहा है

बरसों से यही
सब देखता सुनता
समझता रहता है
पागलों के पागलपन
को लिखता जा रहा है

देखने आ
रही है भीड़
लिखे लिखाये को

एक पागल
लिख रहा है
पागलपन अपना

इधर
से लेकर
उधर तक
भीड़ में
बताया जा
रहा है

इलाज
किसका
होना चाहिये

आज के
विश्व मानसिक
स्वास्थ दिवस के दिन

‘उलूक’
बस यही बात
आज भी नहीं
समझ पा रहा है

इस
सब के
बावजूद
लेकिन

विश्व मानसिक
स्वास्थ दिवस
के संदेश
को लेकर
फिर भी
दो शब्द
लम्बे लम्बे
कर करा कर
यहाँ कुछ
आदतन लिख
कर जा रहा है ।

चित्र साभार: Mental Health Concern

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...