http://blogsiteslist.com
अक्षर लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
अक्षर लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

बुधवार, 20 मई 2015

रहम कर अक्षरों पर

बस भी कर
रहने दे
परेशान
हो गये हैं
अक्षर
शायद सभी

तेरी बातों
में आकर
तेरे लिये
तेरी बातें
बनाते बनाते

बख्स भी दे
अच्छा नहीं है 

उछल कूद
कराना
इतना ज्यादा

दुखने लगे
हैं जोड़
ऊपर से लेकर
नीचे तक

अक्षरों को
हो सके तो
इतना
मत तोड़
अक्षर भी
जुड़ते हैं
मेहनत से
खुद ही
हर जगह
सबके साथ
सीधे सीधे

सीधे रास्ते के
होते हैं आदी
सीधे अक्षर
सभी जोड़ते हैं
अपने अपने
हिसाब से
कहीं कोई
कष्ट नहीं
होता है

ज्यादातर का
जोड़ घटाना
गुणा भाग
एक सा
होता है
आदत हो
जाती है
अक्षरों
को भी
जोड़ घटाना
गुणा भाग
करने वालों
को भी
एक दूसरे की

तेरा जैसा भी
बहुत सारों
के बीच में
कोई एक
होता है
तोड़ता है
मरोड़ता है
सीधे रास्तों
को छोड़ता है
पकड़ लेता है
कोई ना कोई
खूंटा कहीं

दीवार का
छोड़ कर
पेड़ पर जैसे
टाँक कर
अक्षरों को
छोड़ देता है

कब तक
सहे कोई
होता है
विद्रोही
सीधे साधे
चलने का
आदी अक्षर
जब कभी
बहुत ज्यादा
उन्हे टेढ़ा मेढ़ा
बना कर
टेढ़े मेढ़े
रास्ते में
मजबूरन
चलने के लिये
घुसेड़ देता है

पढ़ने वाला भी
रोज रोज के
टेढ़े मेढ़े को
देख कर
आना ही
छोढ़ देता है

इसीलिये
फिर से सुन
बस भी कर
रहने दे
परेशान
हो गये हैं
अक्षर
शायद सभी
तेरी बातों
में आकर
तेरे लिये
तेरी बातें
बनाते बनाते
किसी दिन
एक दिन
के लिये
ही सही
अक्षरों को
तोड़ना
मरोड़ना
और
निचोड़ना
छोड़ कर
उन्हे भी
कुछ
सीधे रास्ते
का
सीधा साधा
विराम
क्यों नहीं
कुछ दे
देता है ।

चित्र सभार: www.shutterstock.com

सोमवार, 9 जून 2014

दुनियाँ है रंग अपने ही दिखाती है

भैंस के बराबर
काले अक्षरों को
रोज चरागाह पर
चराने की आदत
किसी को हो जाना
एक अच्छी बात है
अक्षरों के साथ
खेलते खेलते
घास की तरह
उनको उगाना
शुरु हो जाना
बहुत बुरी बात है
बिना एक सोच के
खाली लोटे जैसे
दिमाग में शायद
हवा भी रहना
नहीं चाहती है
ऐसे में ही सोच
खाली में से
खाली खाली ही
कुछ बाहर निकाल
कर ले आती है
उसी तरह से जैसे
किसी कलाकार की
कूँची किसी एक को
एक छोटा सा झाड़ू
जैसा नजर आती है
साफ जगह होने से
कुछ नहीं होता है
झाड़ने की आदत
से मजबूर सफाई
को तक बुहारना
शुरु हो जाती है
बहुत कुछ होता है
आसपास के लोगों
के दिमाग में
और हाथ में भी
पर मंद बुद्धी का
क्या किया जाये
वो अपनी बेवकूफियों
के हीरों के सिवाय
कुछ भी देखना
नहीं चाहती है
और क्या किया जाये
‘उलूक’ तेरी इस
फितरत का जो
सोती भी है
सपने भी देखती है
नींद में होने के
बावजूद आँखे
पूरी की पूरी खुली
नजर भी आती हैं ।

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...