http://blogsiteslist.com
अचल लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
अचल लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

रविवार, 25 दिसंबर 2011

पहचानो ना

अंकपत्र
हाईस्कूल 
प्रमाणपत्र
राशनकार्ड 
मतदान
पहचान पत्र
टेलीफोन
का बिल

बैंक की
पासबुक

अंगूठे का
निशान

आदमी की
पहचान


सब के
सब अचल

जो चलता है
मतलब
दिमाग से है

बेकार की
एक चीज


दिमाग किसी
आदमी 
की
आईडेंटिटी नहीं

हो सकता कभी
पता ही नहीं है
दिमाग आदमी को
चलाये या आदमी
दिमाग को चलाये

चलता दिमाग
किसी को भी
अच्छा नहीं लगता
एक कूड़ा
दिमाग बौस

मातहत के
दिमाग 
को
हलुवा मानता है

जिसे कोई
भी पकाये

कोई भी खाये

दिमाग को
आडेंटिटी

नहीं बना सकते
पल में जनवरी
पल में दिसम्बर
हो जाता है दिमाग

अन्ना को कोई राय
नहीं दे सकता
फिंगर प्रिंट की
जगह मेंटल
प्रिंट करवायें
दिमाग 
हर क्षण
बदलता है दिमाग


और वाकई में
हो जाये ऎसा
तो दिमाग
पागल का

होगा एक
पहचान

और बाकी
छानते

फिरेंगे
कूड़ा
अपनी

पहचान
के लिए।

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...