http://blogsiteslist.com
अन्नाभाई लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
अन्नाभाई लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

रविवार, 20 जुलाई 2014

सब इनका किया कराया है फोटो लगा रहा हूँ इनको ढूँढ लो भाई

एक मित्र जब
दूर देश से आकर
मेरे घर पहुँचे
अपनी जिज्ञासा
को शांत करने
के लिये पूछ बैठे
भाई ये रोज रोज
लिखने लिखाने की
बात आपके दिमाग में
कब से और कैसे है आई
कुछ काम धन्धा नहीं है
क्या आपके पास
जो इस फालतू के
काम में भी आपने
अपनी एक टाँग है अढ़ाई
अब क्या बतायें
कैसे बतायें तुझे
मेरे भाई
कि एक करीबी मित्र
श्रीश्री 1008
अविनाश वाचस्पति जी
की है ये सारी लगी लगाई
कभी हो जाते हैं
अन्नाभाई
बहुत मन मौजी हैं
कभी बन जाते हैं
मुन्नाभाई
पता नहीं यहीं कहीं
कभी किसी दिन
चार पाँच साल पहले
कमप्यूटर ने ही
हमारी और उनकी
टक्कर थी करवाई
लिखने लिखाने के
खुद मरीज हैं पुराने
हमारे कुछ लिखे को
देख कर उनके दिमाग में
शायद कोई खुराफत
थी उस समय चढ़ आई
चढ़ा गये ‘उलूक’ को
झाड़ के पेड़ पर
लिखने लिखाने का
वाईरस कर गये थे सप्लाई
और तब से खुद तो
गायब हो गये
नहीं दिये कहीं दिखाई
‘उलूक’ चालू हुआ
तब से रुका नहीं
गाड़ी की थी उन्होने
लिखने की उसे
बिना ब्रेक के सप्लाई
बहुत देर हो चुकी
बात बहुत देर से
समझ में है आई
उसके बाद लिखना
बंद कर दो
जनता बोर हो चुकी है
लिखी उनकी चिट्ठी
पोस्ट आफिस तक
सुना है पहुँची भी है
पोस्ट्मैन ने
पता नहीं क्यों
 घर तक अभी तक
भी नहीं है पहुँचाई ।

सोमवार, 9 अप्रैल 2012

अन्नास्वामी नाराज है

मित्र मेरा मुन्नाभाई
कुछ दिन जब अन्ना
की संगत में आया
अन्नाभाई कहलाया
बाबाओं की जयकारे से
अन्नास्वामी नाम धर लाया
बहुत अच्छा चालक है
ब्लागगाड़ी चला रहा है
अपने ट्रेक में तो माहिर है
इधर उधर की गाड़ियों
को भी ट्रेक दिखा रहा है
कभी कोई ट्रेक से
बाहर हो जाता है
अन्नास्वामी को जोर
का गुस्सा आ जाता है
कल से अन्नास्वामी
नाराज हो रहा है
गुर्रा रहा है पंजे के
नाखून से ब्लाग को
नोचता भी जा रहा है
असल में किसी ब्लागर
का पेट हो गया था खराब
और वो अनर्गल कुछ
बातें ब्लाग में रहा था छाप
अन्नास्वामी नहीं सह पाया
शांत भाव से ब्लागर को
उसने समझाया
पर बीमार कहाँ बिना
दवाई के ठीक हो पाता
बीमार तो बीमार
एक तीमारदार अन्नास्वामी
पर चढ़ के है आता
अन्नास्वामी को जब है
उसने धमकाया तो
हमको भी गुस्सा है आया
अब हम भी मिलकर
जयकारा लगायेंगे
अन्नास्वामी के लिये
जलूस लेकर जायेंगे
'अन्ना तुम संघर्ष करो
हम तुम्हारे साथ हैं'
के नारे भी जोर जोर
से लगायेंगे।

शनिवार, 10 दिसंबर 2011

अन्नाभाई अविनाश जी

अविनाश वाचस्पति
कभी थे मुन्नाभाई
अन्ना का हुवा जब
अवतरण देव रुप सा
चिपका लिया इन्होने
भी अन्नाभाई और
दिया मुन्नाभाई को
विश्राम का आदेश
अभी तक मुलाकात
तो हुवी नहीं पर होंगे
एक अदद आदमी ही
ऎसा महसूस होता
सा रहता है हमेशा
बड़े अजब गजब
से करतब दिखाते हैं
शब्दों के कबूतर
बना यहां से वहां
हमेशा उड़ाते रहते हैं
और हम पकड़ने के
लिये जाल भी बिछा दें
तो भी नहीं पकड़
पाते हैं जब भी करी
कोशिश अपने को ही
शब्दों के मायाजाल
से घिरा पाते हैं
ब्लागिंग का रोग
बहुत फैलाया है
थोड़ा सा वायरस
इधर भी आया है
इनको तो नींद भी
कहाँ आती है
ये तो सोते हैं नहीं
हमें सपने में डराते हैं
इनके ब्लागों में
कितना माल समाया है
हम तो चटके लगाने में
ही भटक जाते हैं
इनके उपर लिखने
के लिये बहुत सामान
हो गया है जमा
अब जरूरत है एक
बड़ी आस की और
एक अदद् राम के
तुलसीदास की।

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...