http://blogsiteslist.com
असलियत लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
असलियत लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

सोमवार, 20 जनवरी 2014

अच्छा होता है कभी कभी बिजली का लम्बा गुल हो जाना

अपनी इच्छा से
नहीं कर लेना
चाहता है बिजली
गुल कोई कभी
बहुत देर के लिये
पर बिजली आदमी
तो नहीं होती है
फिर भी हो जाती है
बंद भी कभी कभी
दूर बहुत दूर तक
अंधेरा ही अंधेरा
जैसे थम सी
जाती हो जिंदगी
फिर जलते हैं
दिये और मोमबत्ती
जिनकी रोशनी में
कर्कश शोर
नहीं होता है
जो देता है बस
एक सुकून सा
बारिश के बाद
का आसमान
धुला धुला सा
रात को भी काला
नहीं आसमानी
हो उठता है
बहुत साफ नजर
आते हैं तारे
जैसे पहचान के
कुछ लोग मिल
उठे हों एक
बहुत लम्बी सी
जुदाई के बाद
टिमटिमाते हुऐ
जैसे पूछ्ते भी हों
हाल दिल का
इच्छा भी उठती है
कहीं से बहुत तीव्र
देख लेने की और
सोच लेने की
कुछ देर के
लिये ही सही
तारों की बस्ती में
ढूँढ रहा हो कोई
अपना ही अक्स
कुछ ही क्षण में
हो जाता है जैसे
आत्मावलोकन
साफ पानी में
जैसे दिखा रहा हो
सब शीशे की तरह
तेज भागती हुई
जिंदगी का सच
कुछ देर का विराम
बता देता है असलियत
खोल देता है कुछ
बंद खिड़कियाँ
जिनकी तरफ देखने
की भी फुरसत
नहीं होती है
दौड़ते हुऐ दिनों में
और बहना
महसूस होता है
कुछ ठंडी सोच का
कुछ रुक रुक
कर ही सही
बहुत आगे बढ़
जाने के बाद
ऐसे ही समय
महसूस होता है
अच्छा होता है
कभी कभी यूँ ही
लौट लेना
बहुत और बहुत
पीछे की ओर भी
जहाँ से चलना
शुरु हुऐ थे हम कभी
पर ऐसा होता नहीं है
बिजली रोज आती है
जाती बहुत कम है
बहुत कम कभी कभी
बहुत दिनो के लिये ।

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...