http://blogsiteslist.com
आँधी लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
आँधी लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

मंगलवार, 3 जून 2014

अपना समझना अपने को ही नहीं समझा सकता

उसने कुछ लिखा
और मुझे उसमें
बहुत कुछ दिखा
क्या दिखा
अरे बहुत ही
गजब दिखा
कैसे बताऊँ
नहीं बता सकता
आग थी आग
जला रही थी
मैं नहीं
जला सकता
उसके लिखे में
आग होती है
पानी होता है
आँधी होती है
तूफान होता है
नहीं नहीं
कोई जलजला
मैं यहाँ पर
लाने का रिस्क
नहीं उठा सकता
पता नहीं
वो लिखा भी
है या नहीं
जो मुझे दिखा है
किसी को बता
भी नहीं सकता
इसी तरह रोज
उसके लिखे
को पढ़ता हूँ
जलता हूँ
भीगता हूँ
सूखता हूँ
हवा में
उड़ता हूँ
और भी बहुत
कुछ करता हूँ
सब बता के
खुले आम
अपनी धुनाई
नहीं करवा सकता ।

बुधवार, 23 सितंबर 2009

करवट

अचानक
उन टूटी
खिड़कियों
का उतरा
रंग चमकने
लगा

शायद
जिंदगी ने
अंगड़ाई ली

शमशान की
खामोशी नहीं
शहनाईयां
बज रही हैं
आज

फिर से
आबाद
होने
को है
उसका
घरौंदा

कल तक
रोटी कपडे़
के लिये
मोहताज
हाथों में
दिखने
लगी हैं
चमकती
चूड़ियां

जुल्फें
संवरी हुवी
होंठो पे
लाली भी है

लेकिन
कहीं ना
कहीं
कुछ
छूटा
हुवा
सा
लगता है

चेहरे पे
जो नूर था
रंगत थी
आंखों में

आज वो
उतरा हुवा सा
ना जाने
क्यों लगता है

बच्चों के
चीखने
की आवाज
अब नहीं आती

बूड़े माँ बाप
के चेहरों पे
खामोशी सी
छाई है

शायद किसी
आधीं ने उड़ा
दिया सब कुछ

अपनी जगह पर
ही है हर
एक चीज
हमेशा की तरह

पर कुछ तो
हुआ है
ना जाने

जो महसूस तो
होता है
पर दिखता नहीं है 

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...