http://blogsiteslist.com
आदतन लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
आदतन लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

बुधवार, 31 अगस्त 2016

मरे घर के मरे लोगों की खबर भी होती है मरी मरी पढ़कर मत बहकाकर

अखबार के
मुख्य पृष्ठ पर
दिख रही थी
घिरी हुई
राष्ट्रीय
खबरों से
सुन्दरी का
ताज पहने हुऐ
मेरे ही घर की
मेरी ही
एक खबर

हंस रही थी
बहुत ही
बेशरम होकर
जैसे मुझे
देख कर
पूरा जोर
लगा कर
खिलखिलाकर

कहीं पीछे के
पन्ने के कोने में
छुप रही थी
बलात्कार की
एक खबर
इसी खबर
को सामने
से देख कर
घबराकर
शरमाकर

घर के लोग सभी
घुसे हुऐ थे घर में
अपने अपने
कमरों के अन्दर
हमेशा की तरह
आदतन
इरादातन
कुंडी बाहर से
बंद करवाकर

चहल पहल
रोज की तरह
थी आँगन में
खिलखिलाते
हुऐ खिल रहे
थे घरेलू फूल
खेल रहे थे
खेलने वाले
कबड्डी
जैसे खेलते
आ रहे थे
कई जमाने से
चड्डी चड़ाये हुए
पायजामों के
ऊपर से
जोर लगाकर
हैयशा हैयशा
चिल्ला चिल्ला कर

खबर के
बलात्कार
की खबर
वो भी जिसे
अपने ही घर
के आदमियों
ने अपने
हिसाब से
किया गया
हो कवर
को भी कौन सा
लेना देना था
किसी से घर पर

‘उलूक’
खबर की भी
होती हैं लाशें
कुछ नहीं
बताती हैं
घर की घर में
ही छोड़ जाती हैं
मरी हुई खबर
को देखकर
इतना तो
समझ ही
लिया कर ।

चित्र साभार: worldartsme.com

गुरुवार, 21 मई 2015

होती है बहुत होती है अंदर ही अंदर किसी को बहुत ही परेशानी होती है

सार्थक लेखन
की खोज में
निरर्थक भटकने
चले जाना भी
शायद बुद्धिमानी
होती है
बकवास कर
रहा होता है
बेवकूफ कोई कहीं
पीछा करते हुऐ
आदतन खोजना
अर्थ उसमें भी
फिर भी कई
सूरमाओं की
कहानी होती है
टटोलते हुऐ
बिना देखे
खाली फटे
टाट के झोले
में हाथ डालकर
हाथ में आई
हवा को बाहर
निकाल कर
देखने की आदत
बहुत पुरानी
होती है
पता होता है
खिसियाने की
जगह समझाने
की कलाकारी
उसके बाद ही
दिखानी होती है
लिख रहा होता
है बकवास
कह रहा होता
है है बकवास
अपने दिन के
हिसाब किताब
को शाम होते
डायरी में छिपाने
की बेताबी ‘उलूक’
को इसी तरह
बतानी होती है
बैचेनी का आलम
इधर हो ना हो
पता चल जाता है
किसी के लिखने
की आदत से
उस पर ऊपर से
अपना दर्द
होती है
अंदर ही अंदर
किसी को
बहुत ही
परेशानी होती है ।

 चित्र साभार: etc.usf.edu

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...