http://blogsiteslist.com
इतना लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
इतना लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

गुरुवार, 23 जुलाई 2015

कुछ लिखने वाले के कुछ पढ़ने वाले कुछ भी पढ़ते पढ़ते उसी के जैसे हो जाते हैं

इतना इतना
कितना कितना
लिखता है
देखा कर कभी
तो सही खुद भी
पढ़ कर जितना
जितना लिखता है
लिखने का कोई
नियम कहीं भी
किसी भी पन्ने में
नजर नहीं आता है
लगता है बिना
नापे तोले कुछ भी
कहीं से हाथ मार कर
झोले के अंदर
से निकाल कर
ले आता है
कभी सौ ग्राम
लिखने की भी
नहीं सोचता है
हर पन्ना जैसे
एक डेढ़ किलो का
रोज ही बनाना
जरूरी हो जाता है
शब्द भी गिने चुने
दो चार हर बार
वही नजर आते हैं
बार बार कई बार
खुद को बेशर्मी
से दोहराते हैं
बातें जमाने की
वही घिसी पिटी
जो अमूमन सभी
किया करते हैं
तेरे शब्द ही
उसी में से कुछ
खोज निकाल कर
उसी से उलझ जाते हैं
कितने शरीफ होते है
फिर भी पढ़ देने वाले
तेरे लिखे को ‘उलूक’
धन्य हैं कुछ लोग
ज्यादा नहीं भी सही
दो चार रोज फिर भी
कभी इधर से नहीं तो
दो चार कभी उधर के
आ ही आते हैं
झेलते हैं अच्छा है
बहुत ही अच्छा है
लिखने लिखाने के
बाद चले भी जाते हैं
कुछ भी लिख देने
वाले का साथ
यहीं पर दिखता है
कुछ भी पढ़ देने वाले
जरूर निभाते हैं ।

चित्र साभार: jaysonlinereviews.com

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...