http://blogsiteslist.com
इस बार लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
इस बार लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

गुरुवार, 31 दिसंबर 2015

स्वागत: चलें बिना कुछ गिने बुने सपने एक बार फिर से उसी तरह

पिछली बार
वो गया था
इसी तरह से
जब सुनी थी
उसने इसके
आने की खबर
ये आया था
नये सपने
अपने ले कर
अपने साथ ही
वो गया अपने
पुराने हो चुके
सपनों को
साथ ले कर
इसके सपने
इसके साथ रहे
रहते ही हैं
किसे फुर्सत है
अपने सपनों
को छोड़
सोचने की किसी
और के सपनों की
अब ये जा रहा है
किसी तीसरे के आने
के समाचार के साथ
सपने इसके भी हैं
इसके ही साथ में हैं
उतने ही हैं जितने
वो ले कर आया था
कोई किसी को कहाँ
सौंप कर जाता है
अपने सपने
खुद ही देखने
खुद ही सीँचने
खुद ही उकेरने
खुद ही समेटने
पड़ते हैं
खुद के सपने
कोई नहीं खोलना
चाहता है अपने
सपनों के पिटारों को
दूसरे के सामने
कभी डर से
सपनों के
सपनों में मिल
कर खो जाने के
कभी डर से
सपनों के
पराये हो जाने के
कभी डर से
सपनों के
सच हो खुले आम
दिन दोपहर मैदान
दर मैदान
बहक जाने के
इसी उधेड़बुन में
सपने कुछ भटकते
चेहरे के पीछे
निकल कर
झाँकते हुऐ
सपनों की ओट से
बयाँ करते सपनों के
आगे पीछे के सपनों
की परत दर परत
पीछे के सपने
खींचते झिंझोड़ते
सपनों की भीड़ के
बहुत अकेले
अकेले पड़े सपने
सपनों की इसी
भगदड़ में समेटना
सपनों को किसी
जाते हुऐ का
गिनते हुऐ
अंतिम क्षणों को
किसी का समेरना
उसी समय सपनों को
इंतजार में शुरु करने की
अपने सपनों के कारवाँ
अपने साथ ही
बस वहीं तक जहाँ से
लौटना होता है
हर किसी को
एक ही तरीके से
अपने सपनों को लेकर
वापिस अपने साथ ही
कहाँ के लिये क्यों
किस लिये
किसी को नहीं
सोचना होता है
सोचने सोचने तक
भोर हो जाती है हमेशा
लग जाती हैं कतारें
सभी की इसके साथ ही
अपने अपने सपने
अपने अपने साथ लिये
समेटने समेरने
बिछाने औढ़ने
लपेटने के साथ
लौटाने के लिये भी
नियति यही है
आईये
फिर से शुरु करते हैं
आगे बढ़ते हैं
अपने अपने सपने
अपने अपने
साथ लिये
कुछ दिनों के
लिये ही सही
बिना सोचे
लौट जाने
की बातों को
शुभ हो
मंगलमय हो
जो भी जहाँ भी हो
जैसा भी हो
सभी के लिये
सब मिल कर
बस दुआ और
दुआ करते हैं  ।

 चित्र साभार: www.clipartsheep.com

बुधवार, 22 अक्तूबर 2014

दीप जलायें सोच में आशा की रोशनी के परेशानियों को उड़ायें मौज में हजूर इस बार

रोशनी का
त्यौहार
विज्ञापनों से
पटे हुऐ अखबार
दुकाने सजी हुई
भरा हुआ बाजार
सब कुछ पहुँच में
खाली जेबों
के बावजूद
खरीदने में लगा
सब कुछ
खरीददार
मोबाइल में
संदेशों की
भरमार
गली गली
खुले बैंक
पैदल चलने
में लगे कुछ
बेवकूफ
सड़कें पटी
गाड़ियों से
आसानी से
मिले घर
पर ही उधार
दुकान और
बाजार से अलग
आकर्षक सुंदर
और खीँचता
अपनी तरफ
डॉट काम का
कारोबार
मँगा लीजिये
कुछ भी कहीं भी
घर बैठे बैठे
जरूरत नहीं
भेज दीजिये
बटुऐ को
तड़ी पार
तेज रोशनी
सस्ते दीप
विज्ञान का
चमत्कार
मेड इन चाईना
प्रयोग कीजिये
फिर फेंक दीजिये
कूड़े की चिंता
दिमाग से कर
दीजिये बाहर
झाडू‌ लेकर
टाई कोट वाले
भी खड़े हैं
नहीं होते शर्मसार
मेक इन इँडिया
आँदोलन करने
के लिये रहें तैयार
स्वदेशी खरीदने
का हल्ला मचायें
जलूस निकाले
हर जगह बार बार
रोशनी सरसों के
तेल से भरे दीपों
की सोच में लायें
शाँति और सुख
की आशा से
रहें सरोबार
कथनी और करनी
के अंतर को
आत्मसात
कर लेने के
जतन करें
एक हजार
दीपावली मौज
में मनायें सरकार
शुभकामनाऐं
सभी को
ढेर सारी
मित्रों सहित
सपरिवार ।
चित्र साभार: http://www.shutterstock.com

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...