http://blogsiteslist.com
इस समय लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
इस समय लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

बुधवार, 18 जुलाई 2012

उस समय और इस समय और दिल

पहलू और उसपर
दिल का होना
पता चल जाता है
जिस दिन से
शुरू हो जाती है
कसमसाहट
हमारे पुराने
जमाने में भी
कोई नया जो
क्या होता था
ऎसा ही होता था
पर थोड़ा सा
परदे में होता था
स्टेज एक में
धक धक करने
लगता था
स्टेज दो में
उछलने लगता था
स्टेज तीन में
किसी के कंट्रोल
में चला जाता था
स्टेज चार में
भजन गाना शुरु
हो जाता था
अब तो डरता
भी नहीं है
बस लटक जाता है
बहुत मजबूती से
बाहर से ही दिखाई
देता है कि है
स्टेज वैसे ही
एक से चार
ही हो रही हैं
गजब का स्टेमिना है
चौथे में जाकर
भी बहार हो रही है
इस जमाने के
कर रहे हों तो
अजूबा सा नहीं लगता
हमारे जमाने के
कुछ कुछ में हलचल
लगातार हो रही है
ऎ छोटे से खिलौने
मान जा इतनी सी
शराफत तो दिखा जा
पुराने जमाने के
अपने भाई बहनों
को थोड़ा समझा जा
अभी भी कटेगा तो
कुछ हाथ नहीं
किसी के आयेगा
फिर से उसी बात
को दोहराया जायेगा
कतरा ए खून ही गिरेगा
वो भी किसी के
काम में नहीं आयेगा
दिल है तो क्या
गुण्डा गर्दी पर
उतर जायेगा।

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...