http://blogsiteslist.com
उत्तराखंड लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
उत्तराखंड लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

बुधवार, 9 नवंबर 2016

जन्म दिन राज्य का मना भी या नहीं भी सोलह का फिर भी होते होते हो ही गया है

पन्द्रह पच्चीसी
का राजकुवँर
आज सौलहवीं
पादान पर आ
कर खड़ा
हो गया है

पैदा होने से
लेकर जवानी
की दहलीज पर
पहुँचते पहुँचते
क्या हुआ है
क्या नहीं हुआ है

बड़े घर से
अलग होकर
छोटे घर के
चूल्हे में क्या
क्या पका है
क्या कच्चा
रह गया है

जंगल हरे
भस्म हुऐ हैं
ऊपर कहीं
ऊँचाइयों के
धुआँ आकाश
में ही तो फैला
है दूर तक
खुद को खुद
ही आइने में
इस धुंध के
ढूँढना मुश्किल
भी हो गया है
तो क्या हो गया है

बारिश हुई भी है
एक मुद्दत के बाद
तकते तकते
बादलों को लेकिन
राख से लिपट कर
पानी नदी नालौं
का खारा हो गया है
तो कौन सा
रोना हो गया है

विपदा आपदा में
बचपन से जवानी
तक खेलता कूदता
दबता निकलता
पहाड़ों की मिट्टी
नदी नालों में
लाशों को
नीलाम
करता करता
बहुत ही
मजबूत
हो गया है

ये बहुत है
खाली मुट्ठी में
किसी को
सब कुछ होने
का अहसास
इतनी जल्दी
हो गया है

कपड़े जन्मदिन
के उपहार में
मिले उससे
उतारे भी उसने
किससे
क्या कुछ
कहने को
अब रह गया है

उसकी छोड़
कर गुलामी
बदनसीबी की
अब इसके
गुलाम हो लेने
का मौसम
भी हो गया है

जन्मदिन होते
ही हैं हर साल
सालों साल
हर किसी के
‘उलूक’
इस बार भी
होना था हुआ है

क्या गया
क्या मिला
पुराना इक
हिसाब अगले
साल तक के
लिये पुराने
इस साल के
साथ ही आज
फिर से दफन
हो गया है ।

चित्र साभार: Revolutionary GIS - WordPress.com

शुक्रवार, 29 जनवरी 2016

एक हैं पी0 सी0 तिवारी

वैसे तो कई हैं
जिन्होने
विद्रोही होने के
दावे खुद ही लिख
खुद ही के सीने
पर टांंके हुऐ हैं
दिखते भी हैं
पैसे भी मिलते हैं
या नहीं मिलते हैं
कभी वो नहीं बांंचे है
उन्हीं के बीच के हैं
पी0 सी0 तिवारी
दिखते वो भी
थोड़ा सा बांंकें हैं
राज्यों से टूट
नये उगे राज्य
छत्तीसगढ़ झारखंड
उत्तराखण्ड में से
सबसे ज्यादा
उसी राज्य के
चूसकों के द्वारा
चूसे गये राज्य
का कथित निवासी
कहलाते हैं
कथित कहा
क्योंकि डर लगा
कोई भी
पूछ सकता है यहाँ
किसी से भी
कैसे कह दिया
यहाँ का है
उसके चेहरे पर
कहाँ ऐसा कुछ है
जो लिखा है
यहाँ तेरे मेरे जैसे
लोगों के लगते
फांंके हैं
वैसे भी यहाँ कोई
कुछ नहीं करता है
जिनको लगता है
वो करते हैं
उनसे क्षमा है
मेरा भ्रम भी
हो सकता है
मुझे क्या लगता है
उसके लिये कोई
कुछ नहीं
कर सकता है
यहाँ हर किसी की
नजर किसी
ना किसी
के फटे के
भीतर होती है
अपनी अपनी
मौज होती है
किसी के पास
इसका बिल्ला
होता है
किसी के पास
उसका बिल्ला
होता है
सबसे बड़ी
मौज में
इसका भी
और उसका भी
एक कुत्ते का
पिल्ला होता है
उधर देश के
लिये सरहद पर
कत्ल होने वालों
में पांंच में से चार
की विधवाओं का
पता किसी दूर
पहाड़ी के निर्जन
गाँव जहाँ तक
गाड़ी की सड़क
भी नहीं पहुंंचती है
का मिलता है
युवा यहाँ सोचता नहीं
कहने पर चलता है
ठेकेदारी छोटी मोटी
कर लेने से
उसका काम चल
निकलता है
पी0 सी0 तिवारी
जैसे लोग सत्ता के
काम बिगाड़ते है
झाडू से सफाई
करवाने वाले मंत्री
प्रधानमंत्री लोग
पी0 सी0 तिवारी को
कौन सा पहचानते हैं
उस आदमी की
क्या बात करनी
इस देश में जो
ना सोनिया का है
ना मोदी का है
पी0 सी0 तिवारी 

जो जेल में है
आदमी के एक्ट से
आदमी के खेल में है
ईमानदार लोग
जासूस लोग
सब जानते हैं
मजबूर होते हैं
 सरकारी
लोग होते हैं
कुछ नहीं
कर सकते हैं
यही बस
नहीं मानते हैं
बहुत कुछ है
लिखने से
क्या होना है
इस देश में
कुत्तों के लिये
हर जगह सोना है
किसी ने यूँ ही
पूछा ‘उलूक’
से आज भाजपा
का कोई
चप्पा चप्पा
आ रहा है
क्या वहाँ जा रहे हो
‘उलूक’ ने बोला
‘पी सी तिवारी'
जैसे समाज के
आदमी का
आदमी हूँ 
वो खुद ही 
अंदर हो चुका है 
क्या जेल में मुझे भी 
डालने जा रहे हो 
नैनीसार की जमीन 
उत्तराखण्ड की
जमीन ही नहीं है 
मोदी जी और 
रावत जी
भी जानते हैं
तुम में कितनी
हिम्मत है
उत्तराखण्डी
तुम भी अपनी
अपनी औकात 
पहचानते हो ।

रविवार, 9 नवंबर 2014

हैप्पी बर्थ डे उत्तराखंड

अब एक
चौदह बरस
के बच्चे से
क्यों उम्मींदे
अभी से
लगा रहे हो

सपने बुनने
के लिये
कोई सीकें
सलाई की
जरूरत तो
होती नहीं है
इफरात से
बिना रात हुऐ
बिना नींद आये
सपने पकौड़ियों
की तरह पकाये
जा रहे हो

कुछ बालक की
भी सोचो जरा
चौदह साल में
कितने बार
पिताजी बदलते
जा रहे हो
बढ़ने क्यों
नहीं देते हो
पढ़ने क्यों
नहीं देते हो
एक नन्हें बालक
को आदमी
क्यों नहीं कुछ
जिम्मेदार जैसा
होने देते हो

सारे बंजर
पहाड़ों के
खुरदुरे सपने
उसके लिये
अभी से
बिछा रहे हो
माना कि
चौदहवाँ
जन्मदिन है
मनाना
भी चाहिये
कुछ केक सेक
काट कर
जनता में
क्यों नहीं
बटवा रहे हो

अच्छे दिन
आयेंगे के
सपने देख
दिये तुमने
जन्म लेते
ही बच्चे के
इस बात का
कसूरवार
कितनो को
ठहरा रहे हो

घर छोड़
छा‌‌ड़ कर
पलायन करने
के लिये किसी
ने नहीं
कहा तुमसे
अपनी मर्जी से
भाग रहे हो
नाम बेचारी
सरकारों का
लगा रहे हो

समुद्र मंथन में
निकली थी सुरा
किस जमाने में
पहुँचा भी दी
जा रही है
दुर्गम से दुर्गम
स्थानों में
आभार जताने
के बजाये
सुगम दुर्गम के
बेसुरे गाने
गाये जा रहे हो

अभी अभी तो
पर्दा उठा है
नाटक का
मंचन होने से
पहले ही बिना
देखे सुने
भाग जा
रहे हो

मान लो
एक छोटा
सा राज्य है
आपका
और हमारा
ये भाग्य है
खुश होना
चाहिये
आज के दिन
कम से कम
रोना धोना
छोड़ कर
जय हो
उत्तराखंड
देवों की भूमि
की जय हो
के नारे
हम जैसे
यहाँ बसे
सारे असुरों
के साथ
मिल कर
क्यों नहीं
लगा रहे हो ।

चित्र साभार: www.fotosearch.com

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...