http://blogsiteslist.com
उबकाइयाँ लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
उबकाइयाँ लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

शुक्रवार, 15 जुलाई 2016

समझने के लिये जरूरी नहीं होती है सारी उल्टियाँ

कब तक
और क्यों
रोज की रोज
लिखी जायें
उबकाइयाँ
इलाज करने
वाले बहुत
होते हैं
इस गली
से लेकर
उस गली तक
फर्क नहीं
पड़ता है
ना ही
समझ में
आती हैं
सभी को
सारी बीमारियाँ
लक्षणों से
बहुत कुछ
पता चलता है
पता होता है
फिर भी
जरूरी नहीं
होता है
हर किसी की
बीमारी
अखबार में आये
बिकने वाली
हर खबर को
देने वाले को
भी देखना
पड़ता है
खबर को
देने के बाद
की क्या
होती हैं
दुश्वारियाँ
 तेरा समझना तेरा
उसका समझना उसका
समझने समझाने में
बिकने बिकाने में
सबसे आसान होता है
लिखा प्यार पर
 इश्क पर और
सबसे ज्यादा
बिकती हैं रुसवाइयाँ
कभी किसी पल
के लिये लिख
लिखाना गाना
दर्दे शहर
किसी को मतलब
नहीं है किस
गली में कपड़े
उधाड़ रही हैं
किसी की
तन्हाइयाँ
कई जोड़े आँखे
टिकी रहती हैं
माँस के एक
लोथड़े पर
कभी भी मत
कह बैठना
गलती से भी
उस मरे टुकड़े
के किसी नस
फड़कने
की बात
लोग बैठे
हुए होते हैं
खबर बनाने
के लिये
अपने हिसाब से
पता होता है
उनको भी
और जिंदा
लाशों को भी
मुर्दों की गिनतियाँ
करने से ज्यादा
ही मिलती हैं
शाबाशियाँ
अपने लिखने
के हिसाब से
उसके लिखने
को तोलना
ठीक नहीं
होता है ‘उलूक’
देखना आँख
बंद कर के
लिखना झूठ
साफ करके
सब देखते हैं
सब कुछ
सब नहीं कहते
सब कुछ
देखा हुआ
सब को
नहीं आती
उल्टी
तू निगल
जितना हो
सके उगलने
के बाद का
मत सोचना
उगला भी
और कुछ
भी नहीं हुआ
जरूरी नहीं
होता है होना
हर किसी के
पास रीड़ का
अच्छा होता है
सरकना साँप
की तरह
फूँकते हुए हवा
में अपनी
अच्छाइयाँ ।


चित्र साभार: www.123rf.com

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...