http://blogsiteslist.com
उसका लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
उसका लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

गुरुवार, 20 अगस्त 2015

उसके कुछ भद्दे कहे गये पर बौखलाने से कहीं भी कुछ भी नहीं होता है

तुम्हारे
बौखलाने से
अगर उसे
या
उसके जैसे
सभी अन्य
लोगों को
कोई असर
होने वाला होता
तो वो पहले ही
कोशिश करता

एक
भद्दा गाना
नहीं गाता
ऐसा एक ना
एक गाना
रोज ही
उसके ही किसी
स्टूडियो में
जानबूझ कर
तैयार किया
जाता है

और उसकी
जैसी सोच के
सभी लोगों
की सहमति
के साथ
उसके ही
बाजार में
पेश कर
दिया जाता है

तुम सुनो
ना सुनो
नाक भौं
सिकौड़ो
उसे कोसो
गालियाँ दो
अखबार
में लिखो
आकाशवाणी
दूरदर्शन
में खुली
बहसें रखो
ब्लाग में
पोस्ट करो
उसके बाद
चर्चा में
उसे लाकर
सजाकर धरो

इसके गुस्से
पर किसी
उसकी टिप्प्णी
उसके
खिसियाने पर
किसी इसकी
झिड़कियों
को पढ़ो
कुछ लिखो

होना कुछ
नहीं है
सारी
मसालेदार मिर्ची
भरी तीखी
फूहड़ बातें
करते समय
उसके दिमाग
में अपने जैसे
उसके सभी
वो लोग होते हैं
जिन्होने उसे
और उसके
जैसे लोगों को
ताज पहना कर
बादशाह
बनाया होता है

और
उनकी
अपेक्षाओं में
खरा उतरने
के लिये बहुत
जरूरी होता है

कुछ ऐसी भद्दी
बात कर देना
जिससे
कहीं ना कहीं
कोई नंगा होता है

और इसी सीढ़ी
पर चढ़ कर
उसे अगली बार
कुर्सी पर
चढ़ना होता है

इसलिये
फिर से सुन लो
थोड़े तुम्हारे
हमारे जैसों
के बौखलाने
से उसके
और उसके
समर्थकों का
हौसला बुलंद
ही होता है

हम्माम
भी उसका
पानी भी
उसका
नहाना
उसमें उसे
और उसके
जैसे लोगों
को ही होता है

उसके कुछ
भद्दे कहे गये
पर बौखलाने
से कहीं भी
कुछ भी
नहीं होता है ।

चित्र साभार: www.123rf.com

मंगलवार, 11 अगस्त 2015

छोटे चोर चकारों के स्टिंग करने से ना तेरा कुछ भला होगा ना उनका ही भला हो पायेगा

इस गलतफहमी में
क्यों रहता है कि कोई
स्टिंग आपरेशन तेरे लिये
भी कभी किया जायेगा
और फिर उसकी एक
सी डी बना कर कोई
मीडिया को जाकर
भी दे कर आयेगा
बड़े लोगों के बड़े
कामों के लिये
ये सब काम
किये जाते हैं
ऐसे कामों को
करने कराने में बड़े
बड़े खर्चे हो जाते हैं
इस दल के लिये
उस दल का कोई
चूहेदानी बनवा
कर लगवाता है
किसी बीच के
आदमी को ठोक
पीट बजा कर
काम दिया जाता है
अब इतने सारे बबाल
तेरे जैसे फालतू
निर्दलीय के लिये
बता कौन करायेगा
डेढ़ रुप्पली के घपले
करने की आदत
हो जिसको उसे
देख कर स्टिंग करने
वाले के साथ का कैमरा
और कैमरे वाला
भी शर्मायेगा
कितना कर लेगा
एक मकान उधर
एक दो स्कूटर कार इधर
खरीद बेच कर दिखायेगा
चीनी और नमक की
बीमारी से पहले
से ही ग्रस्त है
लौकी और खिचड़ी
खाना भी बंद हो जायेगा
बराबरी मत किया कर
डेढ़ की जगह ढाई का
घपला कर लिया कर
बड़े करेगा तो किसी
बड़े के हाथों कहीं ना
कहीं फंसा दिया जायेगा
लगा रह छोटे छोटे
ही को छीलने में
किसी को पता भी
नहीं चल पायेगा
छीलनों से ही
किसी ना किसी दिन
तेरा बोरा गले गले
तक भर ही जायेगा
छोटे चोर चकारों के
स्टिंग करने से
ना तेरा ही कुछ भला होगा
ना उनका ही भला हो पायेगा ।

चित्र साभार: www.beyazpsikoloji.com

बुधवार, 29 अप्रैल 2015

इसका और उसका रहने दे ना देश सुना है जलजले से दस फिट खिसका है

नाम से लिखने पर
बबाला हो जाता है
इस और उस से
काम चलाया जाये
तो क्या जाता है
अंधे देख रहे हैं
अपने अपनो
के कामों को
कुछ कहना हो तो
बहुत ही सोचना
पड़ जाता है
वैसे भी चम्मचें
फैली हुई हैं इंटरनेट
की दुनियाँ में
गरीब और उसकी सोच
पर बात करने वाला
सबसे बड़ा पागल
एक हो जाता है
टी वी पर बहस देखिये
इसका भी होता है
उसका भी होता है
देखने वाले पागलों
को क्या कहा जाता है
बूंद बूंद से भरता है घड़ा
यही बताया यही
समझाया भी जाता है
बूंद पाप की होती है
बहुत छोटी सी
उसको अंदेखा करना
अभिमन्यू की तरह
पेट के अंदर ही
सिखाया जाता है
नाम नहीं ले रहा हूँ उसका
घिन आती है
ओले पकड़ने के लिये
खेतों में क्यों नहीं जाता है
उसकी बात कही है मैंने
तेरी समझ में आ गया होगा
मेरी समझ में भी आता है
कुछ कहने की हिम्मत
नहीं है तुझ में
तेरे को क्या मतलब है
चमचे तुझे तो उसके लिये
देश को रौंदना
अच्छी तरह आता है ।


चित्र साभार: www.123rf.com

बुधवार, 10 दिसंबर 2014

कितने आसमान किसके आसमान

मेरे अपने
खुद के कुछ
खुले आसमान
खो गये
पता नहीं कहाँ
याद आया
अचानक आज
शाम के समय
डूबते सूरज
और नीड़ की
ओर लौटते
पक्षियों की
चहचहाट के बीच
सीमाओं से
बंधे हुऐ नहीं
लम्बे काले
गेसुओं के बीच
चमचमाते हुऐ
चाँद को उलझा
के रखे हुऐ हो
कोई छाया सी जैसे
माँ रखती हो
अपने बच्चे को
छुपा कर अपने
आँचल की छाँव में
किसे याद
नहीं आयेगी ऐसे
अद्भुत आसमानों की
बहुत उदास हो
उठी एक शाम
के समय
किसी दिन अचानक
जब कई दिन से
महसूस करता हुआ
गुजरता आसमान
के नीचे से एक राही
जिसे नजर आ रहा हो
हर किसी का नोचना
आसमान को
अपने पैने नाखूँनो से
खीचने के लिये
उसे बस अपने
और अपने लिये
आसमान के दर्द
और चीख
उसके विस्तार में
विलीन हो जाने
के लिये हों जैसे
पता नहीं कैसे कैसे
भ्रम जन्म लेते हैं
हर सुबह और
हर शाम
और कितने
आसमानों का
हो जाता है कत्ल
दर्द ना तारे
दिखाते हैं ना चाँद
ना ही सूरज
उनका आना जाना
बदस्तूर जारी
रहता है
बेबस आसमान बेचारा
एक ऐसी चादर
भी तो नहीं हो सकता
टुकड़ा टुकड़ा फटने
के लिये चाहते हुऐ भी
बट जाना हर किसी
की सोच के
अनुसार उसके लिये ।

चित्र साभार: vector-magz.com

सोमवार, 17 नवंबर 2014

खुद का आईना है खुद ही देख रहा हूँ

अपने आईने
को अपने
हाथ में लेकर
घूम रहा हूँ

परेशान होने
की जरूरत
नहीं है
खुद अपना
ही चेहरा
ढूँढ रहा हूँ

तुम्हारे
पास होगा
तुम्हारा आईना
तुमसे अपने
आईने में कुछ
ढूँढने के लिये
नहीं बोल रहा हूँ

कौन क्या
देखता है जब
अपने आईने में
अपने को देखता है

मैंने कब कहा
मैं भी झूठ
नहीं बोल रहा हूँ

खयाल में नहीं
आ रहा है
अक्स अपना ही
जब से बैठा हूँ
लिखने की
सोचकर

उसके आईने में
खुद को देखकर
उसके बारे में
ही सोच रहा हूँ

सब अपने
आईने में
अपने को
देखते हैं

मैं अपने आईने
को देख रहा हूँ

उसने देखा हो
शायद मेरे
आईने में कुछ

मैं
उसपर पड़ी
हुई धूल में
जब से
देख रहा हूँ

कुछ ऐसा
और
कुछ वैसा
जैसा ही
देख रहा हूँ ।

चित्र साभार: vgmirrors.blogspot.com

शुक्रवार, 25 अप्रैल 2014

उसका आदमी कहता है तुझे कोई तो क्यों शरमाता है यार

एक पत्नी होना
और उसका ही
बस आदमी होना
एक बहुत बड़ी
बात है सरकार
उसके बाद भी
किसी और का
आदमी होना
ही होता है
नहीं हो पाया है
अगर कोई तो
उसका जीना ही
होता है बेकार
अपने नाम से
अपने काम से
अगर जाना जा
रहा है कोई
समझ लेना
अच्छी तरह
किसी काम में
कहीं नहीं लगाया
जा रहा है
भटक रहा है
जैसे होता है
एक बेरोजगार
कुछ भी नहीं
हाथ में आयेगा
इस जीवन में
व्यर्थ में
चला जायेगा
इस पार से
कभी किसी
दिन उस पार
एक आदमी
कहीं ना कहीं
होता ही है
किसी ना किसी
का आदमी
ऊपर से नीचे
तक अगर
देखता चला जायेगा
नीचे वाला
किसका है
साफ पता
चल जायेगा
सबसे ऊपर
वाला किसका
है आदमी
बस यही बात
बताने के लिये
कोई भी नहीं
मिल पायेगा
समय रहते पानी
का देखता
हुआ बहाव
तैरना सीख
ही लेता है
आज का
एक समझदार
निभाता क्यों नहीं

उलूक तू भी किसी
एक इसी तरह के
एक आदमी
का किरदार
कल जब उसकी
आ जायेगी सरकार
तुझे क्या
लेना और देना
वो वहाँ क्या करता है
तुझे मालूम ही तेरा
यहाँ रहेगा
अपना ही कारोबार
खाली आदमी होने में
और किसी आदमी
के आदमी होने में
अंतर है बहुत बड़ा
समझाया जा चुका है
एक नहीं कई कई बार
बाकी रही तेरी और
तेरे देश की किस्मत
किसका आदमी
कहाँ जा कर
करता है
अपना वार
इस बार ।   

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...