http://blogsiteslist.com
उड़ना लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
उड़ना लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

शनिवार, 27 जून 2015

मौन की भाषा को बस समझना होता है किसी की मछलियों से कुछ कहना नहीं होता है

बोलते बोलते बोलती
बंद हो जाती है जब
किसी की अपनी ही
पाली पोसी मछलियाँ
तैरना छोड़ कर
पेड़ पर चढ़ना
शुरु हो जाती हैं
वाकई बहुत
मुश्किल होता है
घर का माहौल
घर वालों को
ही पता होता है
जरूरी नहीं
हर घर में किसी
ना किसी को कुछ
ना कुछ लिखना
भी होता है
हर किसी का
लिखा हर कोई
पढ़ने की कोशिश
करे ऐसा भी
जरूरी नहीं होता है
संजीदा होते हैं
बहुत से लोग
संजीदगी ओढ़ लेने
का शौक भी होता है
और बहुत ही
संजीदगी से होता है
मौन रहने का
मतलब वही नहीं
होता है जैसा
मौन देखने वाले
को महसूस होता है
मछलियाँ एक ही
की पाली हुई हों
ऐसा भी नहीं होता है
एक की मछलियों
के साथ मगरमच्छ
भी सोता है
पानी में रहें या
हवा में उड़े
पालने वाला उनके
आने जाने पर
कुछ नहीं कहता है
जानता है मौन रखने
का अपना अलग
फायदा होता है
लंबी पारी खेले हुऐ
मौनी के मौन पर
बहुत कह लेने से
कुछ नहीं होता है
कहते कहते खुद
अपनी मछलियों को
आसमान की ओर
उछलते देख कर
बहुत बोलने वाला
बहुत संजीदगी के साथ
मौन हो लेता है
बोलने वाले के साथ
कुछ भी बोल देने वालों
के लिये भी ये एक
अच्छा मौका होता है
ग्रंथों में बताया गया है
सारा संसार ही एक
मंदिर होता है
कर्म पूजा होती है
पूजा पाठ करते समय
वैसे भी किसी को
किसी से कुछ नहीं
कहना होता है
मछलियाँ तो
मछलियाँ होती हैं
उनका करना
करना नहीं होता है ।

चित्र साभार: all-free-download.com

सोमवार, 11 फ़रवरी 2013

पञ्चतन्त्र में सुधार: कूदना छोड़ उड़ना सीख मेंढक

समुद्री जीव
आक्टोपस
बना दिया गया
एक कुऎं का राजा
मिलने जा पहुँचा
मेंढकों से
जब सबने
उससे बोला
एक बार तो
यहां आजा
कतार में खडे़
मेंढक एक एक
कर अपना
परिचय उसे देते
ही जा रहे थे
कुछ कुऎं ही में
रहे हुऎ थे हमेशा
कुछ अंदर बाहर
भी कभी कभी
आ जा रहे थे
अपनी अपनी
जीभों की लम्बाई
बता बता कर
इतरा रहे थे
किस किस तरह के
कीडे़ मकौडे़ मच्छर
वो कैसे कैसे
खा रहे थे
महाराज लेकिन
ये सब कहाँ
सुनने जा रहे थे
व्हेल एक
पाल क्यों नहीं लेते
सब मेंढक
मिल बाट कर
अच्छी तरह
समझाये जा रहे थे
साथ में बता रहे थे
जिस समुद्र को वो
यहाँ के राज पाट
के लिये छोड़
के आ रहे थे
वहाँ एक हजार
समुद्री व्हेलों को
खुद पाल के
आ रहे थे
सारे समुद्र के
समुद्री जन
व्हेल का तेल
ही तेल बना रहे थे
कीडे़ मकौडे़ नहीं
बडी़ मछली का मांस
भी साथ में खा रहे थे
वहाँ की तरक्की का
ये उपक्रम वो मेंढकों
से कुऎं में भी
करवाना चाह रहे थे
मेंढक शर्मा शर्मी
हाँ में हाँ मिला रहे थे
मन ही मन अपने
कूदने की लम्बाई
भी भूलते जा रहे थे
बेचारों को याद भी
नहीं रह पा रहा था
कि नम्बर एक और
नम्बर दो करने भी
अभी तक वो लोग
खेतों की ओर ही
तो जा रहे थे
कितने कुऎं से
बना होता होगा
वो समुंद्र जहाँ
से उनके राजा जी
यहाँ आ रहे थे
कुंद हो चुकी थी
बुद्धि अब तक
कुछ सोच भी
नहीं पा रहे थे ।

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...