http://blogsiteslist.com
ऊपर लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
ऊपर लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

गुरुवार, 6 अगस्त 2015

ऊपर वाले ऊपर ही रहना नीचे नहीं आना

हे ऊपर वाले
तू ऊपर ही रहना
गलती से भी
भूल कर कभी
सशरीर नीचे
मत चले आना
सर घूम जाता है
समझ में नहीं
आ पाता है
जब तेरे झंडों
और नारों के
साथ ही इतना
बबाल कर
दिया जाता है
क्या होगा अगर
कोई देख लेगा
सामने से साक्षात
चलता हुआ
ऊपर वाला खुद
अपने ही पैरों पर
धरती पर आकर
चलना शुरु
हो जाता है
कहाँ जायेगा
ऊपर वाला जब
यहाँ आ ही जायेगा
प्रधानमंत्री के
साथ जायेगा या
आम आदमी
के साथ जायेगा
मंदिर में रहेगा
मस्जिद में रहेगा
या किसी गुरुद्वारे
में जा कर
बैठ जायेगा
संसद में पहुँच
गया अगर
कौन से दल के
नेता से जाकर
हाथ मिलायेगा
किस तरह
का दिखेगा
क्या कोई
पहचान भी
पायेगा
हे ऊपर वाले
तेरे नहीं होने से
यहाँ थोड़े बहुत
मर कट रहे हैं
तेर नाम पर ही
तू आ ही गया
सच में बड़ा एक
बबाल हो जायेगा
रहने दे ऊपर ही
कहीं बैठ कर
कर जो कुछ भी
तेरे बस का है
गलती से
उतर आयेगा
अगर नीचे
उतना कुछ भी
नहीं कर पायेगा
नोचने दे अपने
नाम पर नोचने
वालों को नीचे
हो सकता है
तुझे ही शायद
पहचान नहीं
होने से नोच
दिया जायेगा
अगर किसी को
नीचे कहीं
नजर आ जायेगा ।

चित्र साभार: pupublogja.nolblog.hu

शुक्रवार, 26 सितंबर 2014

करेगा कोई करे कुछ भी बता देगा वो उसी को एक साँस में और एक ही बार में

है कुछ भी
अगर पास तेरे
बताने को
क्यों रखता है
छिपा कर अपने
भेजे में संभाल के
देख ले क्या पता
कुछ हो ही जाये
कोशिश तो कर
छोटी सी ही सही
हिम्मत कर के
तबीयत से हवा में
ही ज्यादा नहीं तो
थोड़ा सा ही
ऊपर को उछाल के
तैरता भी रहेगा
माना कुछ कुछ
कुछ समय तक
समय की धार में
नहीं भी पकड़ेगा
कोई समझ कर
कबूतर का पंख
जैसा कुछ भी
अगर मान के
आकार में मिट्टी
या धूल का
एक गोला जैसा
ही कुछ देखेगा
कुछ देर के लिये
सामने अपनी
किसी दीवार के
खुश ही हो ले
दीवाना कोई
फुटबॉल ही समझ
लात मार कर
कहीं किसी गोल
में ले जा कर
ही डाल के
दो चार छ: आठ
बार में कुछ
करते करते
कई दिनों तक
कुछ हो ही जाये
यूँ ही कुछ कहीं
भी कभी एक दिन
किसी मंगलवार के
एक कहने वाला
कर जाये दो मिनट
में आकर बात फोड़
उस कमाल पर
करके धमाल
अपने जीभ की
तलवार की
तीखी धार के
तेरे कहने को
ना कहने से भी
होने जा रहा
कुछ नहीं है
निकलना है जब
तस्वीर का
उसके ही बोल
देने का
सब कुछ
पन्ने में
उसके ही किसी
अखबारों के
अखबार के
सोच ले ‘उलूक’
जमा करने पर
नहीं होना है
कुछ भी को
जमा कर लेने पर
कौड़ियों की सोच
का कोई खरीददार
नहीं मिलता है
इस जमाने की
दुकानों में
किसी भी
बाजार के ।

चित्र साभार: http://www.canstockphoto.com

सोमवार, 22 सितंबर 2014

सब कुछ नीचे का ही क्यों कहा जाये जब कभी ऊपर का भी होना होता है

ऊपर पहुँचने पर
अब ऊपर कहने पर
पूछ मत बैठना
कौन सा ऊपर
वही ऊपर
जहाँ से ऊपर
सुना है कुछ
भी नहीं होता है
बचा कुचा बाकी
जो भी होता है
सब उस ऊपर के
नीचे ही होता है
हाँ तो उस ऊपर
अब मुझे ही कुछ
संशय यहाँ होना
यहीं से शुरु होता है
ऊपर अगर पहुँच
भी गया तो
कहाँ भेजा जायेगा
दो जगह यहाँ
नीचे वालों को
समझाई गई होती है
जिंदा रहते रहते
एक ऊँची जगह
पर स्वर्ग और
एक नीची जगह
पर नरक होता है
अब ऐसी बात
पूछी भी किससे जाये
पता नहीं किस किस को
उस ऊपर के बारे में
क्या क्या पता होता है
यहाँ के हिसाब से
इस जमाने में
सही ही सही होता है
और सही का ही
बहुमत होता है
अल्पमत वाला
हमेशा ही गलत होता है
सही को देख देख कर
खुंदक में कुछ ना कुछ
कहता रहता है
उसी को कहना होता है
उसी कहने को
उसी को सुनना भी होता है
याद ना रह जाये कहीं
बहुत दिनों तक
इसलिये लिख लिखा के
कहीं पर रख देना होता है
इस सब लिखे लिखाये के
हिसाब किताब पर ही
ऊपर जाकर के
कर देना होता है
‘ऊलूक’ नीचे के सारे
स्वर्गवासियों के साथ
जिसे नहीं रहना होता है
उसे ऊपर जाकर भी
ऊपर के नीचे वाले में
ही रहना होता है ।

चित्र साभार: http://theologyclipart.com/

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...