http://blogsiteslist.com
ऊपर वाला लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
ऊपर वाला लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

गुरुवार, 28 मई 2015

लिख लेना कुछ भी पता है बिना लिखे तुझ से भी नहीं रहा जायेगा

कल भी लिखा था
आज भी लिखना है
कल भी शायद कुछ
लिखा ही जायेगा
लिखना इसलिये
नहीं कि लिखना
जरूरी होता है
लिखना इसलिये
नहीं कि किसी को
पढ़ना भी होता है
लिखना
इसलिये नहीं
कि किसी को
पढ़ाना होता है
किसी को
समझाना होता है
किसी को
दिखाना होता है
किसी को
बताना होता है
ऐसा भी नहीं कि
आज नहीं
लिखा जायेगा
तो कोई
मातम मनायेगा
या कल फिर
लिखने नहीं
दिया जायेगा
वैसे भी कौन
लिखने वाला
बताता है कि
किसलिये
लिख रहा है
कौन समझाता
है कि क्या
लिख रहा है
ऊपर वाला
जानता है
क्या लिखा जायेगा
लिखा जायेगा या
नहीं लिखा जायेगा
उसका करना कराना
नियत होता है
उसे ये भी
पता होता है कि
लिखना लिखाना
नीचे वाले के
करने कराने
से होता है
करने कराने
पर होता है
नीचे वाले की
नीयत में
क्या होता है
बस उस का ही
ऊपर वाले को
जरा भी पता
नहीं होता है
इसलिये आज
का लिखा
लिख दिया
कल का लिखा
कल लिखा जायेगा
जब करने कराने
वाला कुछ
अपना करेगा
या कुछ ‘उलूक’ पर
चढ़ कर उससे
कुछ करायेगा ।

चित्र साभार: www.illustrationsof.com

शुक्रवार, 25 अप्रैल 2014

उसका आदमी कहता है तुझे कोई तो क्यों शरमाता है यार

एक पत्नी होना
और उसका ही
बस आदमी होना
एक बहुत बड़ी
बात है सरकार
उसके बाद भी
किसी और का
आदमी होना
ही होता है
नहीं हो पाया है
अगर कोई तो
उसका जीना ही
होता है बेकार
अपने नाम से
अपने काम से
अगर जाना जा
रहा है कोई
समझ लेना
अच्छी तरह
किसी काम में
कहीं नहीं लगाया
जा रहा है
भटक रहा है
जैसे होता है
एक बेरोजगार
कुछ भी नहीं
हाथ में आयेगा
इस जीवन में
व्यर्थ में
चला जायेगा
इस पार से
कभी किसी
दिन उस पार
एक आदमी
कहीं ना कहीं
होता ही है
किसी ना किसी
का आदमी
ऊपर से नीचे
तक अगर
देखता चला जायेगा
नीचे वाला
किसका है
साफ पता
चल जायेगा
सबसे ऊपर
वाला किसका
है आदमी
बस यही बात
बताने के लिये
कोई भी नहीं
मिल पायेगा
समय रहते पानी
का देखता
हुआ बहाव
तैरना सीख
ही लेता है
आज का
एक समझदार
निभाता क्यों नहीं

उलूक तू भी किसी
एक इसी तरह के
एक आदमी
का किरदार
कल जब उसकी
आ जायेगी सरकार
तुझे क्या
लेना और देना
वो वहाँ क्या करता है
तुझे मालूम ही तेरा
यहाँ रहेगा
अपना ही कारोबार
खाली आदमी होने में
और किसी आदमी
के आदमी होने में
अंतर है बहुत बड़ा
समझाया जा चुका है
एक नहीं कई कई बार
बाकी रही तेरी और
तेरे देश की किस्मत
किसका आदमी
कहाँ जा कर
करता है
अपना वार
इस बार ।   

गुरुवार, 2 जनवरी 2014

थोड़े समय में देख भी ले बेवकूफ कौन क्या से क्या हो जा रहा है

ऊपर वाला
सुना है
आजकल
बात बात में
परेशान
हो जा रहा है


नीचे वाला
पता नहीं
इतना भी
क्यों नहीं
समझ
पा रहा है

परेशानियाँ
माना कि
उसकी
अपनी
खुद की
बनाई हुई
सब नजर
आती हैं

किसी ने
कभी उसे
क्यों नहीं
टोका कि
इतने सारे
अवतार क्यों
अपने वो
बनाये
जा रहा है

हर दूसरे
को छोड़
तीसरा
अपने
आप को
उसका ही
आदमी एक
बता रहा है

उल जलूल
सारे फजूल
कामों को
नियमों को
ताक में
रख कर
करवा रहा है

बेवकूफ
होगा
वो भी
आम
आदमी
की तरह

”उलूक”
का भेजा
बस
इतनी सी
बात को
नहीं पचा
पा रहा है

उधर
एक आदमी
लगा हुआ है
पूरे देश को
ही बदलने
के फिराक में

इधर
तुझसे
चवन्नी
भर का
ईमान
अपना
नहीं बिक
पा रहा है

सुधर जा
अभी भी
समय है
तेरे ही
खुद के
हाथ में

खुली
हथेली
ले कर
कफन
ओढ़ कर
जब चलेगा
एक लम्बे
सफर पर

सब कहेंगे
देखो जरा
एक
बेवकूफ
अपनी
बेवकूफी
के कारण
आज खाली
जेब और
खाली हाथ
जा रहा है !

बुधवार, 27 नवंबर 2013

उलूक का शोध ऊपर वाले को एक वैज्ञानिक बताता है

ऊपर वाला जरूर
किसी अंजान ग्रह
का प्राणी वैज्ञानिक
और मनुष्य उसके
किसी प्रयोग की
दुर्घटना से उत्पन्न
श्रंखलाबद्ध रासायनिक
क्रिया का एक ऐसा
उत्पाद रहा होगा
जो परखनली से
निकलने के बाद
कभी भी खुद
सर्व शक्तिमान के
काबू में नहीं रहा होगा
और अपने और अपने
ग्रह को बचाने के लिये
वो उस पूरी की पूरी
प्रयोगशाला को उठा के
दूर यहाँ पृथ्वी बना
कर ले आया होगा
वापस लौट के ना
आ जाये फिर से
कहीं उसके पास
इसीलिये अपने होने
या ना होने के भ्रम में
उसने आदमी को
उलझाया होगा
कुछ ऐसा ही आज
शायद उल्लूक की
सोच में हो सकता है
ये देख कर आया होगा
कि मनुष्य कोशिश
कर रहा है आज
खुद से परेशान
होने के बाद
किसी दूसरे ग्रह
में जाकर बसने
का विचार ताकि
बचा सके अपने
कुछ अवशेष
अपनी सभ्यता के
मिटने के देख
देख कर आसार
क्योंकि मनुष्य
आज कुछ भी
ऐसा करता हुआ
नहीं नजर आता है
जिससे महसूस हो सके
कि कहीं ऐसा कोई
ऊपर वाला भी
पाया जाता है
जैसे ऊपर वाले की
बातें और कल्पनाऐं
वो खुद ही यहाँ पर
ला ला कर फैलाता है
अपना जो भी
मन में आये
कैसा भी चाहे
कर ले जाता है
सामने वाले को
ऊपर वाले की
फोटो और बातों
से डराता है
कहीं भी ऐसा
थोड़ा सा 

भी महसूस
नहीं होता है
शक्तिशाली
ऊपर वाला
कहीं कुछ
भी अपनी
चला पाता है
उसी तरह
जिस तरह आज
मनुष्य खुद
अपने विनाशकारी
आविष्कारों को
नियंत्रित करने में
अपने को
असफल पाता है
इस सब से
ऊपर वाले का
एक अनाड़ी
वैज्ञानिक होना
आसानी से क्या
सिद्ध नहीं
हो जाता है ।

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...