http://blogsiteslist.com
एम एस कालबुर्गी लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
एम एस कालबुर्गी लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

सोमवार, 31 अगस्त 2015

शाख में बैठे ‘उलूक’ की श्रद्धांजलि माननीय एम एस कालबुर्गी जी वैसे भी कौन सा आपको स्वर्ग जाना है

पढ़ने लिखने वाले
विदव्तजनो के लिखे
कहे को पढ़ने के बाद
कुछ कहा करो विद्वानो
बेवकूफों की बेवकूफी
के आसपास टहल कर
अपनी खुद की छीछालेदारी
तो मत किया करो
 टिप्पणी दे कर
मत बता जाया करो
बिना पढ़े कुछ भी
लिख दिये गये पर
कह गये हो निशान
छोड़ कर मत
बता जाया करो
आया भी करो
और जाया भी करो
ये कल 'रवीश कुमार'
पर लिखे गये उसके
खुद के लिखे गये पर
उलूक के लिखे गये पर
लिखने वालों के
लिये लिख दिया
अब आगे सुनिये
अगस्त के महीने के
अंतिम दिन का पन्ना
कान बंद कर के सुनना
अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता
की घोटे गये गले में
एक और गला गिनना
शोर मचाना ताली बजाना
गाना बना कर गाना
किसी एक बेवकूफ के लिये
एक बेवकूफ झंडा बन जाना
खुद कुछ भी नहीं होना
किसी के खाने के ऊपर के
खाने को जमा करने करवाने
का रास्ता हो जाना
लगे रहिये लेकिन
कर्नाटक के एक और
दाभोलकर
एम एस काल्बुर्गी
का सरे आम मारा जाना
दिखा गया आईना
एक बार फिर
से ढोल पीटने
वालों को इस देश के
ढोलचियों के लिये
उसमें हम सब हैं
तुम मैं और वो और
शाख पर बैठा उलूक
हमेशा की तरह
जिम्मेदार देश की
बरबादी के लिये
देखता हुआ सारे
ढपोरशंखी पहरेदारों
को अपनी रात
की बंद आँखों से ।

चित्र साभार: www.abplive.in

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...