http://blogsiteslist.com
कंकरीट लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
कंकरीट लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

सोमवार, 16 सितंबर 2013

बाघ तू तो खाली बाघ हो रहा है

सुबह से शोर
मच रहा है
शहर के किसी
मौहल्ले में आज
झाड़ियों के बीच
एक बाघ
दिख रहा है
ऐसा आज
पहली बार
नहीं हो रहा है
कि बाघ आबादी
के बीच में
आकर के
घुस रहा है
या तो बाघ
जंगल में बहुत
हो रहे हैं
या जंगल में
बाघ बहुत
बोर हो रहे हैं
इसीलिये शायद
जंगल छोड़
शहर की ओर
हो रहे हैं
बाघ को कौन
समझाये जाकर
कि शहर के लोग
भी अब बहुत
बाघ हो रहे हैं
बाघ कुछ भी
नहीं है
उनके सामने
बताया नहीं
जा सकता कि
वो कितने
घाघ हो रहे हैं
कंकरीट के जंगल
शहर में हर ओर
बो रहे हैं
बाहर से मुलायम
दिखा कर अंदर से
कठोर हो रहे हैं
बाघ माना कि
तेरे पास खाने को
नहीं हो रहा है
तभी तो तू शहर
की ओर हो रहा है
शहर में लेकिन
बस वो ही बाघ
हो रहा है
जिसका पेट पूरे
गले गले तक
भरा हो रहा है
तू तो बाघ है
और रहेगा भी
बाघ हमेशा ही
पर वो जब जब
लाल देख रहा है
तब तब वो एक
बाघ हो रहा है ।

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...