http://blogsiteslist.com
कंजूस लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
कंजूस लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

शुक्रवार, 31 जनवरी 2014

सच कहा जाये तो दिल की बात कहने में दिल घबराता है

कितना कुछ भी
लिख दिया जाये
वो लिखा ही
नहीं जाता है
जो बस अपने
से ही साझा
किया जाता है
इस पर लिखना
उस पर लिखना
लिखते लिखते
कुछ भी लिखना
बहुत कुछ ऐसे ही
लिखा जाता है
लिखते लिखते भी
महसूस होना कि
कुछ भी नहीं
लिखा जाता है
हर लिखने वाला
इसी मोड़ पर
बहुत ही कंजूस
हो जाता है
पढ़ने वाले भी
बहुत होते हैं
कोई पूरा का पूरा
शब्द दर शब्द
पढ़ ले जाता है
बेवकूफ भी
नहीं होता है
फिर भी कुछ भी
नहीं समझ पाता है
शराफत होती है
बहुत अच्छा लिखा है
की टिप्पणी एक
जरूर दे जाता है
बहुत अच्छा
लिखने वाले को
पाठक ही नहीं
मिल पाता है
एक अच्छी तस्वीर
के यहाँ बाजार
लगा नजर आता है
कुछ अच्छा लिख
लेने की सोच
जब तक पैदा
करे कोई
एक कभाड़ी 
बाजार भाव
गिरा जाता है
बहुत से पहलवान
हैं यहाँ भी
और वहाँ भी
दादागिरी करने में
लेखक और पाठक से
कमतर कोई नजर
नहीं आता है
दाऊद यहाँ भी
हैं बहुत से
पता नहीं मेरा
ख्वाब है या
किसी और को
भी नजर आता है ।

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...