http://blogsiteslist.com
कददू लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
कददू लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

बुधवार, 8 अप्रैल 2015

सारे जोर लगायेंगे तो मरे हाथी को खड़ा कर ले जायेंग़े

चट्टान पर
बुद्धिमान ने
बनाया
अपना घर
और जोर की
वर्षा आई
बचपन में
सुबह की
स्कूल में की
जाने वाली
प्रार्थना का
एक गीत
याद आ पड़ा
उस समय
जब सामने
से ही अपने
कुछ दूरी पर
जोर के
धमाकों के साथ
फटते पठाकों
की लड़ियों
को घेर कर
उछलता हुआ
एक झुण्ड
दिखा खड़ा
इससे पहले
किसी से कुछ
पूछने की
जरूरत पड़ती
दिमाग के
अंदर का
फितूरी गधा
दौड़ पड़ा
याद आ पड़ी
सुबह सुबह
अखबार के
मुख्य पृष्ठ पर
छपी हुई
ताजी एक खबर
जनता जनार्दन
एक कददू
और कुछ तीर
साथ में अपने
गधे का जनाजा
और उसकी
खुद की ही
अपने लिये
खोदी गई
साफ सुथरी
कबर
सारी खुदाई
एक तरफ
अपना भाई
एक तरफ
जब जब
अपनी सोच
के सोच होने
का वहम
कभी हुआ है
अपना
यही गधा
सीना तान
कर अपनी
सोच के साथ
खड़ा हुआ है
‘उलूक’
इतना कम
नहीं है क्या ?
बनाने दे
दुनियाँ को
रेत के
ताजमहल
पकड़ अपनी
सोच के गधे
की लगाम
और निकल
ले कहीं
तमाशा देखने
के चक्कर में
गधा भी लग
लिया लाईन में
तो कहीं का
नहीं रह जायेगा
अकेला हो
गया तो
चना भी नहीं
फोड़ पायेगा ।
चित्र साभार: imgarcade.com

बुधवार, 13 अगस्त 2014

आज ही छपा है अखबार में कहने को कल परसों भी कह दिया है

पूरे पके और
सूखे हुऐ कददू
को हाथ में
लेकर संकल्प
ले लिया है
ना खुद खाउँगा
ना खाने दूँगा
बहुत जोर से
बहुत बड़ा एक
लाउडस्पीकर
हाथ में लेकर
कह दिया है
सावधान बड़ा
खाने वालो
खाना पीना
दिखना कहीं
किसी को भी
नजर भूल से
भी नहीं
आना चाहिये
बहुत पुराना
खा चुके मोटे
लोगों को भी
अपना भार अब
घटाना चाहिये
सब कुछ
बदल डालूँगा
एक नहीं कई कई
बार कह दिया है
खाने पीने को
छोड़ कर बाकी
सब कुछ कर लेने
का लाइसेंस बस
अपने ही ईमानदारों
को ही दिया है
अभी तो बस
बड़े बड़े खाने वालों
के लिये सी सी कैमरे
लगाये जा रहे हैं
कद्दू के अंदर
पनप रहे कीड़े
कौन सा किसी को
बाहर से कहीं
नजर आ रहे हैं
छोटे मोटे बिल पर्चे
टी ऐ डी ऐ कमीशन
सब हजार दस हजार
तक के अभी पाँच साल
तक नोटिस में
नहीं लिये जायेंगे
अगले पाँच साल में
छोटे खाने वाले भी
ट्रेनिंग रिफ्रेशर कोर्सेस
के लिये बुला लिये जायेंगे
अभी चोगे धो धुला के
स्त्री कर करा कर
शरीर पे डालना ही
सिखाया जा रहा है
मैले मन को धोने
धुलाने का पाउडर भी
जल्दी ही चीन या
अमेरिका का ही
आने जा रहा है
देश भक्तो
बेकार की
फालतू बातों में
ध्यान क्यों
लगा रहे हो
पंद्रह अगस्त
दो ही दिन के
बाद आ रहा है
इतनी बड़ी बात
भूल क्यों
जा रहे हो
खाना पीना
पीना खाना
होता रहता है
कम बाकी कल
परसों भी हो
ही जायेगा
अभी झंडे बेचने हैं
उनको बेचने और
खरीदने को कौन
कहाँ से आयेगा
कहाँ को जायेगा
चीन से बन कर
भी आता है तो
क्या होता है
झंडा ऊँचा रहे हमारा
अपने देश में ही
गाया जायेगा ।

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...