http://blogsiteslist.com
कबाड़ी लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
कबाड़ी लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

सोमवार, 7 मई 2012

श्रंगार रस सौंदर्य बोध और कबाड़ी

सौंदर्य
बोध होना
और
श्रंगार
रस लेना

जिसको
आता है
वो उसी
रास्ते पर
चलता चला
जाता है

कबाड़ी का
सौंदर्य बोध
तो कबाड़
होता है
कहीं भी
पड़ा रहे
कबाड़ी
के लिये
बस वो
ही तो
श्रंगार
होता है

कबाड़ी
जब कहीं
से कबाड़
उठाता है
घर आंगन
रास्ते शहर
को साफ
कर ले
जाता है

शाबाशी
ना किसी से
वो कभी
चाहता है
ना ही
शाबाशी की
टिप्प्णी
ईनाम में
कहीं पा
पाता है

कबाड़
उठाने
और
ठिकाने
लगाने तक
भी सब
ठीक है

मजा तो
तब आता है
जब कबाड़ी
कविता लिखना
शुरू हो जाता है

सौंदर्य बोधी
श्रंगार रसियों
को हैरान
परेशान पाता है

पर उसे तो
बस कबाड़
में ही मजा
आता है

उठाता है
दिखाता है
कबाड़
पर रोज
कुछ
ना कुछ
लिख ले
जाता है

पर भंवरे
को तो बस 

फूल ही
नजर
आता है
वो फूल पर
मडराता है

कबाड़ी
सड़क के
किनारे
खड़ा 
खड़ा
थोड़ा थोड़ा
मुस्कुराता
चला जाता है।

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...