http://blogsiteslist.com
कबाब लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
कबाब लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

बुधवार, 13 अप्रैल 2016

दूर कहीं जा अपने घर से जिसके भी घर जितना चाहे खेल कबड्डी

कौन देख रहा
किस ब्रांड की
किसकी चड्डी
रहने दे खुश रह
दूर कहीं अपने
घर से जाकर
जितना मन चाहे
खेल कबड कबड्डी
अपने घर की
रेलमपेल
खेलने वाले
तेरे ही अपने
उनके खेल
तेरे ही खेल
मत बन
अपने ही
घर के
अपनों के
कबाब की
खुद ही तू हड्डी
दूर कहीं अपने
घर से जाकर
जितना मन चाहे
खेल कबड कबड्डी
खबर छाप
फोटो खींच
दिखा दूर
कहीं जंगल में
जहरीला सांप
घर में बैठा
एक नहीं
हर कोई
लागे जब
अपना ही
मुहँबोला बाप
बातें सुन
घर की घर में
बड्डी बड्डी
मत कर
ताँक झाँक
रहने दे
झपट्टा झपट्टी
मालूम होता
है खुद का
खुद को
सब कुछ
कहाँ से
कितनी
अंदर की
कहाँ से
कहाँ तक
फटी हुई है
अपनी खुद
की ही चड्डी
दूर कहीं अपने घर से
जाकर जितना मन चाहे
खेल कबड कबड्डी
लेकर हड्डी
दूर निकल
कर बहुत
दूर से
नहीं नजर
पड़े जहाँ से
अपने घर की
शराब की भड्डी
इसके उसके
सबके घर में
जा जा कर
झंडे लहराकर
सबको समझा
इसके उसके
घर की
फड्डा फड्डी
दूर कहीं अपने घर से
जाकर जितना मन चाहे
खेल कबड कबड्डी ।

चित्र साभार: www.vidhyalya.in

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...