http://blogsiteslist.com
कसाई लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
कसाई लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

रविवार, 13 मई 2012

हैप्पी मदर्स डे

गाय भी माता
कहलाती है
सूखी हरी
जैसी भी
मिले घास
खा ही जाती है
दूध कीनदियाँ
बहाती है
दूध देना
बंद करती है
तुरंत कसाई
को बेची जाती है
कुछ नहीं कहती है
चुपचाप चली जाती है
इसी तरह
कई प्रकार की
माँऎं संसार में
पायी जाती हैं
जिस में भी
ममता हो कुछ
माँ का प्रतिरूप
हो जाती हैं
माँ की ही तरह
जानी जाती हैं
कौन सी माँ
किसी के द्वारा
ज्यादा भाव
पाती हैं वो तो
उसकी क्वालिटी
बताती है
धरती माँ है
देश भी माँ है
प्रकृति माँ है
ईश्वर भी माँ है
जननी देने
से कभी भी
घबराती नहीं है
लेने वाले को भी
दोहन करने में
शरम आती नहीं है
संपन्न होती है तो
आती जाती रहती है
नहीं होती है तो सबसे
नालायक पुत्र को
सौंप दी जाती है
कहीं नहीं भेजी
जाती है तो वृ्द्धाश्रम
पहुंचायी जाती है
माँ के भी
सपने होते हैं
वो ही तो सिर्फ
उसके अपने होते हैं
हमें पता होता है
माँ क्या चाहती है
हमारी बड़ी
मजबूरियां
उसके सपनो के
आढे़ आती हैं
माँ वाकई तेरे
सहने की क्षमता
दुनियाँ का आठवां
आश्चर्य हो जाती है
दुनिया तेरह मई को
मदर्स डे मनाती है
तरह तरह के संदेश
इधर से उधर
करवाती है
एक दिन के लिये माँ
किसी किसी को याद
आ ही जाती है
माँ के लिये
तो हर दिन
एक खास
दिन हो जाता है
जननी को कुछ
तो जनना है
ये बस उसे
याद रह पाता है
हर क्षण में
एक नयी रचना
वो रचती ही
चली जाती है
माँ आज तू नहीं है
हमें तेरी बहुत ही
याद आती है ।

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...