http://blogsiteslist.com
काण्ड लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
काण्ड लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

गुरुवार, 1 अक्तूबर 2015

बेचिये जो भी बिक सकता है और जो तैयार है

पिछले महीने से
निकल रहे हैं
जलूस मेरे
शहर में
क्यों निकल
रहे हैं
कोई पूछने
वाला नहीं है
ना ही कोई
अखबार में
कोई खबर है
जिलाधीश भी
सो रहा है
थानेदार भी
बहुत होशियार है
निमंत्रण मिला है
मुजफ्फर नगर
काण्ड के खलनायकों
पर बहस करने का
बहुत पुरानी बात
हो गई है सुनने को
अभी की बात
को कौन तैयार है
नहीं देखा मंजर
इस तरह का
अभी तक की
जिंदगी में कभी
लोग कह रहे हैं
अच्छे दिन हैं
अच्छी बयार है
बुलाया गया है
निमंत्रण भी है
मुजफ्फर नगर
काण्ड के खलनायक
व उत्तराखण्ड पर
बहस के लिये
बतायें जरा अपने
घर के काण्डों पर
बात करने को
कौन तैयार है
माना कि ‘उलूक’
को अंधों मे
गिना जाता है
फिर भी दिखता है
कोने से कहीं
उसको भी कुछ
कहना ही है
मानकर कि
कहना है और
कहना भी
बेकार है।

चित्र साभार: www.anninvitation.com

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...