http://blogsiteslist.com
काले लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
काले लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

गुरुवार, 27 नवंबर 2014

इंसानियत तो बस एक मुद्दा हो जाता सरे आम दिन दोपहर की रोशनी में उसे नंगा किया जाता है अंधा ‘उलूक’ देखने चला आता है

एक नहीं 
कई बार 
कहा है तुझसे 
दिन में मत 
निकला कर 
निकल भी 
जाता है अगर 
तो जो दिखता है 
मत देखा कर 
ऐसा देख कर आना 
फिर यहाँ आ 
कर बताना 
क्यों करता है 
रात का निशाचर है 
दिन वालों की 
खबर रखता है 
हर प्रहर के 
अपने नियम कानून 
बनाये जाते हैं 
दिन के दिन में 
रात के रात में 
चलाये जाते हैं 
उल्लुओं की दुनियाँ 
के कब्रिस्तान 
दिन की फिल्मों में 
ही दिखाये जाते हैं 
इंसान इंसान होता है 
इंसान ही उसे 
समझ पाते हैं 
बलात्कार होना 
लाश हो जाना 
कीड़े पड़ जाना 
लाश घर में रख कर 
आँदोलित हो जाना 
वाजिब है 
समझ में भी आता है
आक्रोश होना
अलग बात होती है
आक्रोश दिखाया जाता है
स्कूल बंद कराये जाते हैं
बाजार बंद कराये जाते हैं
बंद कराने वाले
अपने अपने रंग बिरंगे
झंडे जरूर साथ
ले कर आते हैं
अखबार वाले
समाचार बनाने आते हैं
टी वी वाले
वीडियो बनाने आते हैं
अगला चुनाव
दिमाग में होता है
राजनीतिज्ञ
वक्तव्य दे जाते हैं
सब कुछ साफ साफ
देख लेता है ‘उलूक’
दिन के उजाले में भी
घटना दुर्घटना
महज मुद्दे हो जाते हैं
सबके लिये काम होता है
मुद्दे भुनाने का
बस भोगने वाले
अपने आँसू खुद
ही पी जाते हैं
इंसान का हुआ होता
है बलात्कार और
बस इंसान ही खो जाते हैं
कहीं भी नजर नहीं आते हैं
सोच में आती है
कुछ देर के लिये एक बात
सभी अपने रंगीन
झंडों को भूलकर
किसी एक घड़ी के लिये
काले झंडे एक साथ
एक सुर में
क्यों नहीं उठा पाते हैं ।

चित्र साभर: gladlylistening.wordpress.com

शुक्रवार, 30 मई 2014

चेहरे का चेहरा

एक खुश
चेहरे को
देख कर
एक चेहरे
का बुझ
जाना
एक बुझे
चेहरे का
एक बुझे
चेहरे पर
खुशी
ले आना
एक चेहरे
का बदल
लेना चेहरा
चेहरे के
साथ
बता देता है
चेहरा मौन
नहीं होता है
चेहरा भी
कर लेता
है बात
चेहरे दर
चेहरे
चेहरों से
गुजरते
हुऐ चेहरे
माहिर हो
जाते हैं
समय के
साथ कोशिश
कोई चेहरा
नहीं करता है
जरूरत भी
नहीं होती है
चेहरा कोई
नहीं पढ़ता है
कोई किताब
जो क्या
होती है
चेहरे काले
भी होते हैं
चेहरे सफेद
भी होते हैं
बहुत बहुत
लम्बे समय
तक साथ
साथ भी
रहते हैं
चेहरे कब
चेहरे बदल
लेते हैं
चेहरे चेहरे
से बस
यही तो
कभी नहीं
कहते हैं
चेहरे चेहरों
के कभी
नहीं होते हैं ।

मंगलवार, 10 दिसंबर 2013

बावन पत्ते कुछ इधर कुछ उधर हंस रहा है बस एक जोकर

चिड़ी ईट पान हुकुम
बस काले और लाल
तेरह गुणा चार
इक्के से लेकर
गुलाम बेगम बादशाह
पल पल हर पल
सुबह दिन शाम
आज कल परसों
दिन महीने
साल दर साल
फिर बरसों
बस और बस
बावन तरीकों से
कुछ इधर और
कुछ उधर से
हुई उंच नीच को
बराबर करने की
जुगत में लगे लगे
बहुत कुछ बटोर कर
अंगुलियों के पोरों के
बीच छुपा लेने की
एक भरपूर कोशिश के
बावजूद सब कुछ का
छिर जाना सब कुछ
साफ साफ नजर
आते हुऐ भी
फिर से जुट जाना
भरने के लिये
अंधेरे के लिफाफे में
जैसे कुछ रोशनी
एक नहीं कई बार
ये सोच कर
कभी तो कुछ रुकेगा
कहीं जाकर रास्ते के
किसी मोड़ पर
थोड़ी देर के लिये
सुस्ताते समय ही सही
बस नहीं दिखता है
तो केवल
ताश के पत्तों के
पट्ठे के डिब्बे में से
आधा बाहर निकला
हुआ त्रेपनवां पत्ता
बहुत बेशर्मी से
मुस्कुराता हुआ ।

बुधवार, 16 मई 2012

सफेद बाल

मेरे सफेद बाल
हो गये हैं अब
खुद मेरे लिये
आज एक बवाल
हर कोई इनसे
दिखता है परेशान
जैसे उड़ रहे हों
मेरे सर के चारों ओर
कुछ अजीब से विमान
एक मित्र जो रोज
बाल काले करता है
उसकी बीबी का डायलाग
हमेशा ऎसा ही रहता है
अरे आपके कुछ बाल
अभी काले नजर आते हैं
आप अपने बाल डाई
क्यों नहीं कराते हैं
हर दूसरा भी राय
देने की कोशिश
करता है एक नेक
भाईसाहब आपके
बाल इतनी जल्दी
कैसे हो गये सफेद
एक सटीक दवाई
हम आपको बताते हैं
एक ही रात में
उसको खा के सारे
बाल काले हो जाते हैं
कल जब मैं सड़क पर
बेखबर जा रहा था
देखा एक आदमी
सड़क किनारे रेहड़ी
अपनी सजा रहा था
कुछ जड़ी बूटियां
बेचने वाला जैसा
नजर आ रहा था
मुझे देखते ही दौड़
कर मेरी ओर आया
हाथ पकड़ मेरा
मुझे अपनी रेहड़ी
की तरफ उसने बुलाया
अंकल अंकल ये वाली
बूटी आप मुझ से ले जाओ
एक हफ्ते में अपने
सारे बाल काले करवाओ
सौ रुपये में इतना
आप और कहाँ पाओ
असर ना करे तो
दो सौ मुझसे ले जाओ
उसको इतना उतावला देख
कर मैं धीरे से मुस्कुराया
उसकी तरफ जाकर
उसके कान में फुसफुसाया
पचास साल लगे हैं
इन बालों को
सफेद करवाने में
तुझे क्या मजा
आ रहा है
इनको एक हफ्ते में
काले करवाने में
मेरी की गई मेहनत
पर पानी फिरवाने में
कोई दिल काला
करने की दवा है
तो अभी दे जा
सौ की जगह
पाँच सौ तू ले जा
काले दिल वालों का
जमाना आ रहा है
उन सब को जेल से
बाहर निकाला जा रहा है
उनके खुद किये गये
घोटालों पर ब्याज भी
सरकार की तरफ से
दिया जा रहा है।

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...