http://blogsiteslist.com
कोशिश लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
कोशिश लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

बुधवार, 24 मई 2017

कोशिश करें लिखें भेड़िये अपने अपने अन्दर के थोड़े थोड़े लिखना आता है सब को सब आता है

कुछ
कहने का
कुछ
लिखने का
कुछ
दिखने का
मन किसका
नहीं होता है

सब चाहते हैं
अपनी बात
को कहना
सब चाहते हैं
अपनी
बात को
कह कर
प्रसिद्धि के
शिखर तक
पहुँच कर
उसे छूना

लिखना
सब को
आता है
कहना
सब को
आता है

लिखने
के लिये
हर कोई
आता है
अपनी बात
हर कोई
चाहता है
शुरु करने
से पहले ही
सब कुछ
सारा बस

मन की बात
जैसा कुछ
हो जाता है

ऐसा हो जाना
कुछ अजूबा
नहीं होता है

नंगा हो जाना
हर किसी को
आसानी से
कहाँ आ
पाता है

सालों
निकल
जाते हैं
कई सालों
के बाद
जाकर
कहीं से
कोई निकल
कर सामने
आता है

कविता
किस्सागोई
भाषा की
सीमाओं
को बांधना
भाषाविधों
को आता है

कौन रोक
सकता है
पागलों को
उनको
नियमों
में बाँधना
किसी को
कहाँ
आता है

पागल
होते हैं
ज्यादातर
कहने वाले

मौका
किसको
कितना
मिलता है
किस
पागल को
कौन पागल
लाईन में
आगे ले
जाता है

‘उलूक’
लाईन मत
गिना कर
पागल मत
गिना कर

बस हिंदी
देखा कर
विद्वान
देख कर
लाईन में
लगा
ले जाना
बातों की
बात में
हमेशा ही
देखा
जाता है ।

चित्र साभार:

सोमवार, 3 अक्तूबर 2016

कर कुछ उतारने की कोशिश तू भी कभी 'उलूक'

कोशिश
कर तो सही
उतारने की
सब कुछ
कभी
फिर दौड़ने
की भी
उसके बाद
दिन की
रोशनी में ही
बिना झिझक
जो सब
कर रहे हैं
क्यों नहीं
हो पा
रहा है
तुझसे
सोचने का
विषय है
तेरे लिये
उनके
लिये नहीं
जिन्होने
उतार
दिया है
सब कुछ
कभी का
सब कुछ
के लिये
हर
उतारा हुआ
उतारे हुए
के साथ
ही खड़ा
होता है
तू बस
देखता
ही रहता है
दोष
किसका है
उतार कर
तो देख
बस
एक बार
शीशे के
सामने
ही सही
अकेले में
समझ सकेगा
पहने हुऐ
होने के
नुकसान
जाति
उतारने
की बात
नहीं है
क्षेत्र
उतारने
की बात
नहीं है
धर्म
उतारने
की बात
नहीं है
कपड़े
उतारने
की बात
भी नहीं है
बात
उतरे हुए
को
सामने से
देख कर
ही समझ
में आती है
निरन्तरता
बनाये
रखने
के लिये
वैसे भी
बहुत
जरूरी है
कुछ ना
कुछ करते
चले जाना
समय के
साथ चलने
के लिये
समय
की तरह
समय पहने
तो
पहन लेना
समय उतारे
तो
उतार लेना
अच्छा है
सब को
सब की
सारी बातें
समझ में
आसानी से
नहीं आती हैं
वरना
आदमी
के बनाये
आदमी
के लिये
नियमों
के अन्दर
किसी को
आदमी
कह देने
के जुर्म में
कभी भी
अन्दर हो
सकता है
कोई भी
आदमी
आमने
सामने ही
पीठ करके
एक दूसरे
से
निपटने में
लगे हुऐ
सारे आदमी
अच्छी तरह
जानते हैं
उतारना
पहनना
पहनना
उतारना
तू भी
लगा रह
समेटने में
अपने
झड़ते हुए
परों को
फिर से
चिपकाने की
सोच लिये
‘उलूक’
जिसके पास
उतारने
के लिये
कुछ ना हो
उसे पहले
कुछ पहनना
ही पड़ता है
पंख ही सही
समय की
मार खा कर
गिरे हुए ।

चित्र साभार:
www.clipartpanda.com

गुरुवार, 11 दिसंबर 2014

कभी कर भी लेना चाहिये वो सब कुछ जो नहीं करना होता है अपने खुद के कानूनो में

कुछ देर के
लिये ही सही
अच्छा है
बहुत दूर को नहीं
अपने आस पास
को छोड़
अपने से थोड़ा
कुछ दूर को ही
देखने सुनने
की कोशिश करना
रोज देखते देखते
वही अपने या
कहीं से थोड़ा सा
भी अपने नहीं भी
कुछ गोल कुछ लम्बे
कुछ हसीन और
कुछ रोते चेहरे
यहाँ तक खुद को
भी टाल देना
हो सके तो खुद से
सुबह सवेरे देख लेना
दूर एक पहाड़ को
उस पर कहीं से
उठ रहे धुऐं को
या फिर पहाड़ की
घुमावदार सड़को
पर उतरती चढ़ती
चीटियों के आकार
की गाड़ियों
को ही सही
और दिन भर
खुश हो लेना
बंदरों के उछलने
कूदने में अपने
ही आस पास
नहीं टोकना
झुँझला कर उनको
उखाड़ने देना
खेत पर मेहनत से
अपनी लगाई हुई
फसल को
और शाम होते होते
ध्यान से सुनने
की कोशिश करना
झिंगुरों की तीखी
आवाज के साथ
जुड़े संगीत को
खोजना सियारों की
चिल्लाने में भी
कोई राग
मस्जिद से आ रही
अजान में खोजना
कोई मंत्र ध्वनी
नहीं खोलना रेडियो टी वी
समाचारों के लिये
मना कर देना फेकने को
हाँकर को कुछ दिन
शहर की खबरों से
पटे अखबारों को
अपने आस पास
बहुत अच्छा होता हुआ
या बहुत अच्छा करने वाले
बहुत दिनों तक
अच्छा अच्छा महसूस
कराते रहें और
वही सब अच्छा
अपने दिमाग में
भर भरा कर
धो धुला कर
सोच के नीरमा से
रोज लाकर रख देना
यहाँ सूखने के लिये
धूप में जैसे
भीगे हुऐ कपड़े
किसी दिन वो सब
भी करना या
कर लेने की
कोशिश कर लेना
जो नहीं करना चाहिये
जो नहीं होना चाहिये
और जो नहीं आता हो
कहीं से भी सोच में
किसी भी तरह से
अपने कानूनों को
तोड़ कर देखना
और भुगतना
सजा भी खुद से
खुद को दी गई
देख तो सही कर के
अच्छा होता है
बहुत कभी कभी ।

चित्र साभार: socialtimes.com

सोमवार, 17 फ़रवरी 2014

पानी नहीं है से क्या है अपनी नाव को तो अब चलने की आदत हो गई है

कोई नई बात 
नहीं कहीं गई है 
कोई गीत गजल 
कविता भी 
नहीं बनी है 
बहुत जगह एक 
ही चीज बने 
वो भी ठीक 
जैसा तो नहीं है 
इसलिये हमेशा 
कोशिश की गई है 
सारी अच्छी और 
सुन्दर बातें 
खुश्बू वाले 
फूलों के लिये 
कहने सुनने 
के लिये रख 
दी गई हैं 
अपने बातों के 
कट्टे में सीमेंट 
रेते रोढ़ी की 
जैसी कहानियाँ 
कुछ सँभाल कर 
रख दी गई हैं 
बहुत सारी 
इतनी सारी 
जैसे आसमान 
के तारों की 
एक आकाशगंगा 
ही हो गई है 
खत्म नहीं 
होने वाली हैं 
एक के निकलते
पता चल जाता है 
कहीं ना कहीं 
तीन चार और 
तैय्यार होने के 
लिये चली गई हैं 
रोज रोज दिखती है 
एक सी शक्लें 
अपने आस पास 
वाकई में बहुत 
बोरियत सी 
अब हो गई है 
बहुत खूबसूरत है 
ये आभासी दुनियाँ 
इससे तो अब 
मोहब्बत सी 
कुछ हो गई है 
बहुत से आदमियों 
के जमघट के बीच 
में अपनी ही 
पहचान जैसे कुछ 
कहीं खो गई है 
हर कोई बेचना 
चाहता है कुछ नया 
अपने कबाड़ की 
भी कहीं तो 
अब खपत 
लगता है हो 
ही गई है ।

गुरुवार, 6 फ़रवरी 2014

कुछ नया लिख कोशिश तो कर उल्टा ही लिख

किसी एक दिन
लिख क्यों नहीं
लेता अपनी तन्हाई
पूरी ना सही
आधी अधूरी ही सही
अपने लिये ना सही
किसी और को
समझाने के
लिये ही सही
पता तो चले
तन्हाई तन्हाई
का अंतर
तुझे भी और
किसी और को भी
सभी लिखते हैं
बताने के लिये
वो सब जो
पता होता है
कोई कहाँ
लिखता है
वो सब कुछ
जो सच में
छुपा होता है
दिखाने की
हो चुकी है
दुनियाँ तो
दिखाने के
लिये ही सही
कुछ लिख
तो सही
अजीब सा
ही सही
जो है
लिखा हुआ
कुछ भी
नया नहीं
कुछ है नया
लिखा हुआ
बताने के
लिये ही सही
तन्हाई कोई
नहीं लिखता है
कभी हिम्मत
तो कर कुछ लिख
कोशिश तो कर
ना पढ़े ना
समझे कोई
आज तक
कौन सा समझ
ले रहा है तेरा लिखा
समझा कर
कौन सा
मर जायेगा
लिख कर
अपनी तन्हाई
समझा कर
मर भी गया
तो कुछ नहीं होगा
तन्हा तन्हा
मरने वालों के
गम को
कुछ तो
कम कर
चल तन्हाई पर
लिख ही ले आज
कुछ अपना और
कुछ किसी का
बोझ तो
कम कर
जो होना है वो
हो रहा है
होता रहेगा
तू लिखेगा
लिखता रहेगा
कभी अपनी
अंगड़ाई पर लिख
कभी अपनी
तन्हाई पर लिख
कोशिश तो कर
कुछ नया
लिखने की
ऊपर वाले की
बेहयाई पर लिख ।

गुरुवार, 23 जनवरी 2014

पता होता है फूटता है फिर भी जानबूझ कर हवा भरता है

पानी में बनते
रहते हैं बुलबुले
कब बनते हैं
कब उठते हैं
और कब
फूट जाते हैं
कोशिश करना
भी चाहता है
कोई छाँटना
एक बुलबुला
अपने लिये
मुश्किल में जैसे
फँस जाता है
जब तक नजर
में आता है एक
बहुत सारों को 

अगल बगल से
बन कर फूटता
हुआ देखता
रह जाता है
कुछ ही देर में
ही बुलबुलों से
ही जैसे सम्मोहित
हो जाता है
कब बुलबुलों के
बीच का ही एक
बुलबुला खुद
हो जाता है
समझ ही
नहीं पाता है
बुलबुलों को
कोमल अस्थाई
और अस्तित्वहीन
समझने की
कोशिश में ये
भूल जाता है 

बुलबुला एक 
क्षण में ही
फूटते फूटते
अपनी पहचान
बना जाता है
एक फूटा नहीं
जैसे हजार पैदा
कर जाता है
ये और वो भी
इसी तरह
रोज ही फूटते हैं
रोज भरी
जाती है हवा
रोज उड़ने की
कोशिश करते हैं
अपने उड़ने की छोड़
दूसरे की उड़ान से
उलझ जाते हैं
इस जद्दोजहद में
कितने बुलबुले
फोड़ते जाते हैं
बुलबुले पूरी जिंदगी
में लाखों बनते हैं
लाखों फूटते हैं
फिर भी बुलबुले
ही कहलाते हैं
ये और वो भी
एक बार नहीं
कई बार फूटते हैं
या फोड़ दिये जाते हैं
इच्छा आकाँक्षाओं की
हवा को जमा भी
नहीं कर पाते हैं
ना वो हो पाते हैं
ना ये हो पाते हैं
हवा भी यहीं
रह जाती है
बुलबुले बनते हैं
उड़ते भी हैं
फिर फूट जाते हैं
सब कुछ बहुत कुछ
साफ कह रहा होता है
सब सब कुछ
समझते हुऐ भी
नासमझ हो जाते हैं
फूटते ही हवा
भरने भराने के
जुगाड़ में लीन और
तल्लीन हो जाते हैं ।

बुधवार, 28 अगस्त 2013

मैने तो नहीं पढ़ी है क्या आप के पास भी गीता पड़ी है

कृष्ण
जन्माष्टमी
हर वर्ष
की तरह
इस बार
भी आई है

आप
सबको
इस पर्व
पर बहुत
बहुत
बधाई है

बचपन से
बहुत बार
गीता के
बारे में
सुनता
आया था

आज फिर
से वही
याद लौट
के आई है

कोशिश की
कई बार
पढ़ना शुरू
करने की
इस ग्रन्थ को
पर कभी
पढ़ ही
नहीं पाया

संस्कृत में
हाथ तंग था
हिन्दी भावार्थ
भी भेजे में
नहीं घुस पाया

आज
फिर सोचा
एक बार
यही कोशिश
फिर से
क्यों नहीं
की जाये

 दिन
अच्छा है
अच्छी
शुरुआत
कुछ आज
ही कर
ली जाये

जो
समझ
में आये
आत्मसात
भी कर
लिया जाये

कुछ
अपना और
कुछ अपने
लोगों का
भला कर
लिया जाये

गीता थी
घर में एक

देखी कहीं
पुत्र से पूछा

पुस्तकालय
के कोने से
वो एक
पुरानी पुस्तक
उठा के
ले आया

कपडे़ से
झाड़ कर
उसमें
जमी हुई
धूल को
उड़ाया

पन्नो के
भीतर
दिख रहे थे

कागज
खाने वाले
कुछ कीडे़
उनको
झाड़ कर
भगाया

फिर
सुखाने को
किताब को
धूप में
जाकर के
रख आया

किस्मत
ठीक नहीं थी
बादलों ने सूरज
पर घेरा लगाया

कल को
सुखा लूंगा
बाकी
ये सोच
कर वापस
घर के अंदर
उठा कर
ले आया

इतनी
शुरुआत
भी क्या
कम है

महसूस
हो रहा है
अभी भी
इच्छा शक्ति
में कुछ दम है

पर आज
तो मजबूरी है
धूप किताब
को दिखाना
भी बहुत
जरूरी है

आप के
मन में
उठ रही
शंका का
समाधान
होना भी
उतना ही
जरूरी है

जिस
गीता को
आधी जिंदगी
नहीं कोई
पढ़ पाया हो

उसके लिये
गीता को
पढ़ना इतना
कौन सा
जरूरी हो
आया हो

असल में
ये सब
आजकल
के सफल
लोगों को
देख कर
महसूस
होने लगा है

जरूर इन
लोगों ने
गीता को
समझा है
और बहुत
बार पढ़ा है

सुना है
कर्म और
कर्मफल
की बात
गीता में ही
समझायी
गयी है
और
यही सब
सफलता
की कुंजी
बनाकर
लोगों के
द्वारा
काम में
लायी गयी है

मैं जहाँ
किसी
दिये गये
काम को
करना चाहिये
या नहीं
सोचने में
समय
लगाता हूँ

तब तक
बहुत से लोगों
के द्वारा
उसी काम को
कर लिया
गया है की
खबर अखबार
में पाता हूँ

वो सब
कर्म करते हैं
सोचा नहीं
करते हैं

इसीलिये
फल भी
काम करने
से पहले ही
संरक्षित
रखते हैं

मेरे जैसे
गीता ज्ञान
से मरहूम
काम गलत
है या सही
सोचने में ही
रह जाते हैं

काम होता
नहीं है
तो फल
हाथ में
आना
तो दूर

दूर से
भी नहीं
दिख पाते हैं

गीता को
इसीलिये
आज बाहर
निकलवा
कर ला
रहा हूँ

कल से
करूँगा
पढ़ना शुरू
आज तो
धूप में
बस सुखा
रहा हूँ ।

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...