http://blogsiteslist.com
कौओं का त्योहार लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
कौओं का त्योहार लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

मंगलवार, 14 जनवरी 2014

साल भर नहीं नहाने वाला भी आज के दिन कम से कम नहाता है

अंग्रेजी
में स्नेल
हिंदी का
होता है
घोंघा
या शँबुक

हमारे
यहाँ कह
दिया
जाता है
उसे एक
गनेल

मकर
संक्राति
के दिन
सुबह सुबह
मुनादि
घर वाली
की ओर
से कर
दी जाती है

जो बस यह
बताती है
आज के
दिन को
कहीं कहीं
नरहर भी
कह दिया
जाता है
आज के दिन
नहाना बहुत
ही जरूरी
माना जाता है

जो आज नहीं
नहा पाता है
अगले जन्म में
मनुष्य ही नहीं
बन पाता है
एक गनेल
हो जाता है

जो बहुत
ही धीरे धीरे
चलता है
कहीं भी नहीं
पहुँच पाता है

बुढ़ापा
आना
शुरु हो
चुका है
जब ये
महसूस
होने लग
जाता है
दो घंटे पहले
श्रीमती जी का
दिया आदेश
जब याद
ही नहीं
रह पाता है

किस्मत
का मारा
एक शौहर
खाने की
मेज में
बैठे हुऐ
परिवार को
खाना खाते
हुऐ देखकर
बिना नहाये ही
आज के दिन
खाना खाने
के लिये
बैठ जाता है

एक तो
काले कौओं
का त्योहार
उसपर एक
भी कौआ
कहीं भी
दूर दूर तक
नजर नहीं
आता है

होता भी
होगा कहीं
पर घर पर
बने हुऐ
पकवानों
को अब
खाने को
नहीं
आता है

जंगल
रहे नहीं
कव्वों
को सीमेंट
का जंगल
शायद
जगह जगह
उगा हुआ
पसंद भी
नहीं आता है

मेहनत से
पकाने
पड़ते हैं
बहुत सारे
पकवान
जिनको
माला में
एक पिरोया
जाता है

दूसरे दिन
मुँह अँधेरे
कौओ को
पुकारा
जाता है

कहना
होता है
“काले काले
घुघुती
माला खाले”
जो बचपन
की याद
बहुत
दिलाता है

आ जाते थे
उस समय
ढेरों कौए
कहाँ कहाँ से
इस जमाने
का कौआ
पता नहीं
कहाँ रह
जाता है

श्रीमती जी
करती हैं
बहुत सारी
मेहनत
त्योहार
मनाना बहुत
जरूरी हो
जाता है

ऐसे में
किसे नहीं
आयेगा क्रोध
अगर कोई
सौ बार
कह देने के
बाद भी
एक
शुद्ध दिन
नहा कर
ही नहीं
आ पाता है !

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...