http://blogsiteslist.com
खरपतवार लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
खरपतवार लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

सोमवार, 31 मार्च 2014

अपने खेत की खरपतवार को, देखिये जरा, देश से बड़ा बता रहा है

ट्रिंग ट्रिंग ट्रिंग ट्रिंग
हैल्लो हैल्लो ये लो 

घर पर ही हो क्या?
क्या कर रहे हो?

कुछ नहीं
बस खेत में
कुछ सब्जी
लगाई है
बहुत सारी
खरपतवार
अगल बगल
पौंधौं के
बिना बोये
उग आई है
उसी को
उखाड़ रहा हूँ
अपनी और
अपने खेत
की किस्मत
सुधार रहा हूँ 


आज तो
वित्तीय वर्ष
पूरा होने
जा रहा है
हिसाब
किताब
उधर का
कौन बना
रहा है?


तुम भी
किस जमाने
में जी रहे
हो भाई
गैर सरकारी
संस्था यानी
एन जी ओ
से आजकल
जो चाहो
करवा लिया
जा रहा है
कमीशन
नियत होता है
उसी का
कोई आदमी
बिना तारीख
पड़ी पर्चियों
पर मार्च की
मुहर लगा
रहा है
अखबार
नहीं पहुँचा
लगता है
स्कूल के
पुस्तकालय
का अभी
तक घर
में आपके
पढ़ लेना
चुनाव की
खबरों में
लिखा भी
आ रहा है
किसका कौन
सा सरकारी
और कौन सा
गैर सरकारी
कहाँ किस
जगह पर
किस के लिये
सेंध लगा रहा है
कहाँ कच्ची हो
रही हैं वोट और
कहाँ धोखा होने
का अंदेशा
नजर आ रहा है 


भाई जी
आप ने भी तो आज
चुनाव कार्यालय की
तरफ दौड़ अभी तक
नहीं लगाई है
लगता है तुम्हारा ही
हिसाब किताब कहीं
कुछ गड़बड़ा रहा है
आजकल जहाँ मास्टर
स्कूल नहीं जा रहा है
डाक्टर अस्पताल से
गोल हो जा रहा है
वकील मुकदमें की
तारीखें बदलवा रहा है
हर किसी के पास
एक ना एक टोपी या
बिल्ला नजर आ रहा है
अवकाश प्राप्त लोगों
के लिये सोने में
सुहागा हो जा रहा है
बीबी की चिक चिक
को घर पर छोड़ कर
लाऊड स्पीकर लिये
बैठा हुआ नजर
यहाँ और वहाँ भी
आ रहा है
जोश सब में है
हर कोई देश के
लिये ही जैसे
आज और अभी
सीमा पर जा रहा है
तन मन धन
कुर्बान करने की
मंसा जता रहा है
वाकई में महसूस
हो रहा है इस बार
बस इस बार
भारतीय राष्ट्रीय चरित्र
का मानकीकरण
होने ही जा रहा है
लेकिन अफसोस
कुछ लोग तेरे
जैसे भी हैं ‘उलूक’
जिंन्हें देश से बड़ा
अपना खेत
नजर आ रहा है
जैसा दिमाग में है
वैसी ही घास को
अपने खेत से
उखाड़ने में एक
स्वर्णिम समय
को गवाँ रहा है ।

सोमवार, 24 सितंबर 2012

खरपतवार से प्यार

जंगल की सब्जियों
फल फूल को छोड़
घास फूस खरपतवार
के लिये थी जो होड़
उसपर शेर ने जैसे
ही विराम लगवाया
फालतू पैदावार के
सब ठेकों को दूसरे
जंगल के घोडों को
दिलवाने का पक्का
भरोसा दिलवाया
लोमड़ी के
आह्वाहन पर
भेड़ बकरियों ने
सियारों के साथ
मिलकर आज
प्रदर्शन करवाया
परेशानी क्या है
पूछने पर ऎसा कुछ
समझ में है आया
बकरियों ने अब तक
घास के साथ
खरपतवार को
जबसे है उगाया
हर साल की बोली में
हजारों लाखों का
हेर फेर है करवाया
जिसका हिसाब किताब
आज तक कभी भी
आडिट में नहीं आया
लम्बी चौड़ी खरपतवार
के बीच में सियारों ने भी
बहुत से खरगोशों
को भी शिकार बनाया
जिसका पता किसी को
कभी नहीं चल पाया
एक दो खरगोश
का हिस्सा लोमड़ी के
हाथ भी हमेशा
ही है आया
माना कि अब
खाली सब्जी ही
उगायी जायेगी
सबकी सेहत भी
वो बनायेगी
पर घास
खरपतवार की
ऊपर की कमाई
किसी के हाथ
नहीं आयेगी
सीधे सीधे
हवा में घुस जायेगी
इसपर नाराजगी को
है दर्ज कराया
बीस की भीड़ ने
एक आवाज से
सरकार को है चेताया
सौ के नाम एक
पर्ची में लिखकर
कल के अखबार में
छपने के लिये
भी है भिजवाया ।

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...