http://blogsiteslist.com
खिचड़ी लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
खिचड़ी लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

शनिवार, 19 अक्तूबर 2013

किसी दिन तो कह मुझे कुछ नहीं है बताना

वही रोज रोज
का रोना
वही संकरी
सी गली
उसी गली का
अंधेरा कोना
एक दूसरे को
टक्कर मार
कर निकलते
हुऐ लोग
कुछ कुत्ते
कुछ गायें
कुछ बैल
उसी से
सुबह शाम
गुजरना
गोबर में
जूते का
फिसलना
मुंह बनाकर
थूकते हुऐ
पैंट उठा कर
संभलते हुऐ
उचक उचक
कर चलना
कुछ सीधे कुछ
आड़े तिरछे
लोगों का उसी
समय मिलना
इसी सब का
दस के सरल
से पहाड़े की
तरह याद
हो जाना
इसी खिचड़ी
को बिना
नमक तेल
मसाले के
रोज का रोज
बिना पूछे
किसी के
सामने परोसना
एक दो बार
देखने के बाद
सब समझ
में आ जाना
खिचड़ी
खाना तो दूर
उसे देखने
भी नहीं आना
पता ही नहीं
चल पाना
गली का
रोम रोम में
घुस जाना
एक चौड़ी
साफ सुथरी
सड़क की
कल्पना का
सिरा गली
में ही खो जाना
गली के एक
कोने से
दूसरी और
उजाले में
निकलने से
पहले ही
अंधेरा
हो जाना
गली का
व्यक्तित्व में
ही शामिल
हो जाना
समझ में
आने तक
बहुत देर
हो जाना
गली का
गली में
जम जाना
उस दिन
का इंतजार
कयामत का
इंतजार
हो जाना
पता चले
जिस दिन
छोड़ दिया
है तूने
उस गली
से अब
आना जाना ।

शुक्रवार, 17 फ़रवरी 2012

खिचड़ी

लोहे की
एक पतली
सी कढ़ाही
आज सीढ़ियों
में मैंंने पायी

कुछ
चावल के
कुछ
माँस की
दाल के दाने

अगरबत्ती
एक
बुझी हुवी
साथ में
एक
डब्बा माचिस

मिट्टी का दिया
तेल पिया हुवा
जलाने वाले
की
तरह बुझा हुवा

बताशे
कपड़े के
कुछ टुकड़े
एक रूपिये
का सिक्का

ये दूसरी बार
हुवा दिखा
पहली बार
कढ़ाही
जरा छोटी थी
साँथ मुर्गे की
गरधन भी
लोटी थी

कुत्ता मेरा
बहुत खुश
नजर आया था
मुँह में दबा कर
घर उठा लाया था

सामान
बाद में
कबाड़ी ने
उठाया था
थोड़ा मुंह भी
बनाया था
बोला था
अरे
तंत्र मंत्र
भी करेंगे
पर फूटी कौड़ी
के लिये मरेंगे
अब कौन
भूत
इनके लिये
इतने सस्ते
में काम करेगा
पूरा खानदान
उसका
भूखा मरेगा

इस बार
कढ़ाही
जरा बड़ी
नजर आई
लगता है
पिछली वाली
कुछ काम
नहीं कर पायी

वैसे अगर
ये टोटके
काम करने
ही लग जायें
तो क्या पता
देश की हालत
कुछ सुधर जाये

दाल चावल
तेल की मात्रा
तांत्रिक थोड़ा
बढ़ा के रखवाये
तो
किसी गरीब
की खिचड़ी
कम से कम
एक समय की
बन जाये

बिना किसी
को घूस खिलाये
परेशान आदमी
की बला किसी
दूसरे के सिर
जा कर चढ़ जाये
फिर दूसरा आदमी
खिचड़ी बनाना
शुरू कर ले जाये

इस तरह

श्रंखला
एक शुरू
हो जायेगी
अन्ना जी की
परेशानी भी
कम हो
जायेगी

पब्लिक
भ्रष्टाचार
हटाओ को
भूल जायेगी

हर तरफ
हर गली
कूचें मेंं
एक कढ़ाही
और
खिचड़ी
साथ में
नजर आयेगी ।

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...