http://blogsiteslist.com
खुदी लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
खुदी लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

गुरुवार, 16 अक्तूबर 2014

खुद को खुद बहुत साफ नजर आ रहा होता है लिखा फिर भी कुछ नहीं जा रहा होता है

सब को पता होता है
आसान नहीं होता है
खुद ही लिख लेना
खुद को और दे देना
पढ़ने के लिये किसी
दूसरे या तीसरे को
सब लिखना जानते हैं
लिखते भी हैं
कुछ कम लिखते हैं
कुछ ज्यादा लिखते है
कुछ इसको लिखते हैं
कुछ उसको लिखते हैं
खुद को लिखने की
कितने सोचते हैं
पता नहीं पर
कहीं पर खुद को
लिखते हुऐ
नहीं दिखते हैं
लिखा हुआ
बहुत कुछ होता है
दिखता है
कहा हुआ भी
कम नहीं होता है
सुनाई पड़ता है
खुद पर खुद का
उसमें कितना
कितना होता है
उसे निकाल कर
मापने का कोई
मीटर नहीं होता है
कोई सोचता है
या नहीं पता नहीं
पर कई बार
मन करता है
लिख दिया जाये
सब कुछ
फिर सोच में आता है
कौन पढ़ेगा वो सब
जो किसी के भी
पढ़ने के मतलब
का नहीं होता है
अच्छा होता है
सबका अपना
खाना अपना
पीना होता है
क्या कम नहीं
होता है इस सब
के बावजूद
इसका और
उसका पढ़
लेने का समय
कोई निकाल लेता है
खुद का खुद ही
पढ़ा लिखा जाये
वही सबसे अच्छा
रास्ता होता है
खुदी को कर
बुलंद इतना
खुदा ने यूँ ही
बेकार में नहीं
कहा होता है
खुद पर लिखे पर
खुद से वाह वाह
भी कोशिशों के
बावजूद जब नहीं
कहा जा रहा होता है
उस समय ये
समझ में बहुत
अच्छी तरह आ
रहा होता है 
खुद को पढ़वाने
का शौक रखने वाला
हमेशा खुद को
किसी और से ही
क्यों लिखवा
रहा होता है ।

चित्र साभार: http://www.clker.com/

बुधवार, 5 मार्च 2014

जरूरी नहीं होती है हर बात की कब्र कहीं खुदी होना

बेरोजगार के दर्द की
दवा नहीं होती है
और रोजगारी में
बेरोजगार होने की
बात किसी से
कभी भी कहनी
नहीं होती है
बहुत तरह के होते हैं
क्या होते हैं
?
रहने दीजिये बेकार है
कुछ भी कहना
कुछ समझेंगे
कुछ नहीं समझेंगे
कुछ से तो कहनी
ही नहीं होती है
इस तरह की बातें कभी
उनके लिये कहने से
अच्छा होता है
कुछ भी नहीं कहना
इसलिये खाली पीली
क्यों बेकार का पंगा
किसी से इस तरह
का ले लेना
अच्छा है रोज की तरह
दस पाँच मिंनट
फाल्तू निकाल कर
बैठे ठाले की किताब का
एक नमूना ही
हल कर लेना
कुछ ऐसा लिख लेना
पड़े नहीं किसी के पल्ले
एक दिन आये देखने
दूसरे दिन से साफ
नजर आये रास्ता
ही बदल लेना
किसी का इस गली से
दुबारा नहीं आने की
तौबा ही कर लेना
वैसे भी अखबार
रेडियो टी वी से
ज्यादा खतरनाक
हो चुका है आज का
सोशियल मीडिया
कुछ लिखने दिखाने
का मतलब कब
निकल आये कुछ और
और मढ़ दिया जाये
कारण सिर पर
दंगों का हो लेना
अच्छा किया
नहीं बताया
पढ़े लिखों को
बन गया था नक्शा
बेलते समय रोटी आज
शाम के खाना
बनाने के समय
पाकिस्तान का
मैंने छुपाया ही छुपाया
हो सके तो तुम भी
किसी से इस बावत
कुछ भी कहीं भी
ना कह सको तो
नहीं कह देना ।

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...