http://blogsiteslist.com
गायदा लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
गायदा लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

सोमवार, 21 अप्रैल 2014

कूड़ा हर जगह होता है उस पर हर कोई नहीं कहता है

एक दल में
एक होता है
एक दल में
एक होता है
क्यों दुखी होता है
कुछ नहीं होता है
किसी जमाने में
ये या वो होता था
अब सब कुछ
बस एक होता है
दलगत से बहुत
ही दूर होता है
दलदल जरूर होता है
कुछ इधर उसका
भी होता है
कुछ उधर इसका
भी होता है
डूबना खुद नहीं
होता है
डुबौने को
तैयार होता है
मिलता है सभी
को कुछ कुछ
आधा इसके
लिये होता है 
आधा उसके
लिये होता है
इसकी गोष्ठी होती है
कमरा खुला होता है
उसकी सभा होती है
बड़ा मैदान होता है
इसकी शिकायत
उससे होती है
उसकी शिकायत
इससे होती है
इसकी सभायें होती हैं
उसकी कथायें होती है
इसकी नाराजगी होती है
इसे मिठाई देता है
गुस्सा उसको आता है
उसे नमकीन देता है
बिल्लियों की
रोटियाँ होती है
बंदर का आयोग होता है
कोई कुछ नहीं करता है
अखबार को 
लिखना
ही होता है

उलूक तेरे बरगद
के पेड़ में ही लेकिन
ये सब नहीं होता है
हर जगह होता है
हर कोई नहीं कहता है
क्यों परेशान होता है
फैसला दल दल में
अब नहीं होता है
समर्थन निर्दलीय
का जरूर होता है
शातिर होने का ही ये
सबूत होता है
इसका भी होता है
और उसका भी होता है
ये भी उसके होते है
और वो भी उसके होते हैं
तू कहीं नहीं होने की
सोच सोच कर रोता है
दल में होने से
कहीं अच्छा अब
तो निर्दलीय होता है
लिखने का बस यही
एक फायदा होता है
कहना ना कहना
कह देना होता है
किसी का रोकना
टोकना ही तो बस
यहाँ पर नहीं होता है ।

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...