http://blogsiteslist.com
गीता लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
गीता लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

गुरुवार, 7 मई 2015

रोज होता है होता चला आ रहा है बस मतलब रोज का रोज बदलता चला जाता है

अर्जुन और कृष्ण
के बीच का वार्तालाप
अभी भी होता है
उसी तरह जैसा
हुआ करता था
तब जब अर्जुन
और कृष्ण थे
युद्ध के मैदान
के बीच में
जो नहीं होता है
वो ये है कि
व्यास जी ने
लिखने लिखाने से
तौबा कर ली है
वैसे भी उन्हे अब
कोई ना कुछ बताता है
ना ही उन्हे कुछ
पता चल पाता है
अर्जुन और कृष्ण के
बीच बहुत कुछ था
और अभी भी है
अर्जुन के पास अब
गाँडीव नहीं होता है
ना ही कृष्ण जी को
शंखनाद करने की
जरूरत होती है
दिन भर अर्जुन अपने
कामों में व्यस्त रहता है
कृष्ण जी को भी
फुरसत नहीं मिलती है
दिन डूबने के बाद
युद्ध शुरु होता है
अर्जुन अपने घर पर
कृष्ण अपने घर पर
गीता के पन्ने गिनता है
दोनो दूरभाष पर ही
अपनी अपनी गिनतियाँ
को मिला लेते है
सुबह सवेरे दूसरे दिन
संजय को खबर
भी पहुँचा देते है
संजय भी
शुरु हो जाता है
अंधे धृतराष्ट्रों को
हाल सुनाता है
सजा होना फिर
बेल हो जाना
संवेदनशील सूचकाँक
का लुढ़ककर
नीचे घुरक जाना
शौचालयों के अच्छे
दिनों का आ जाना
जैसी एक नहीं कई
नई नई बात बताता है
अर्जुन अपने काम
पर लग जाता है
कृष्ण अपने आफिस
में चला जाता है
‘उलूक’ अर्जुन और
कृष्ण के बीच हुऐ
वार्तालाप की खुश्बू
पाने की आशा और
निराशा में गोते
लगाता रह जाता है ।

चित्र साभार: vector-images.com

सोमवार, 24 नवंबर 2014

कुछ करने वाले खुद नहीं लिखते हैं अपने किये कराये पर किसी से लिखाते हैं

कुछ मत
कह ना
लिखने
दे ना

लिख ही तो
रहें हैं
कुछ
कर तो
नहीं रहे हैं

वैसे भी
जो करते हैं
वो
ना लिखते हैं
ना लिखे हुऐ
को पढ़ते हैं

गीता पर
दिये गये
कृष्ण भगवान
के कर्म
के संदेश
को अपने
दिल में
रखते है

बीच बीच
में लिखने
वाले को
याद दिलाते हैं
अपना खुद
काम पर
लग जाते हैं

करने के
साथ साथ
लिख लेने
वाले भी
कुछ हुआ
करते हैं

लिख लेने
के बाद
कर लेने
वाले कुछ
हुआ करते हैं

अब
अपवाद
तो हर
जगह ही
हुआ
करते हैं

करने वाले
को हम
कौन सा
रोक पाते हैं

करते हुऐ
देखते हैं
और
लिखने के
लिये आ
जाते हैं

लिख
लेने से
करने वालों
पर कोई
प्रभाव नहीं
पढ़ता है

उनके करने
कराने
पर कहानी
बनाने वाले
कुछ अलग
तरह के लोग
अलग जगह
पर पाये
जाते हैं

वो ही
करने वालों
के करने
पर लिखते
चले जाते हैं

जिसे
सारे लोग
पढ़ते भी हैं
और
पढ़ाते भी हैं
जिसे
सारे लोग
समझते भी हैं
और
साथ में
समझाते भी हैं

‘उलूक’ के
लिखे को
ना ये
पढ़ते हैं
ना वो
पढ़ते है

करने वालों
के करने
का लिखना
तू जा कर
पढ़ ना

कुछ नहीं
करने वाले से
तुझे क्या
लेना देना
उसे लिखने
ही दे ना ।

चित्र साभार: becuo.com

शुक्रवार, 21 मार्च 2014

गंंदगी ही गंंदगी को गंंदगी में मिलाती है

होनी तो होनी
ही होती है
होती रहती है
अनहोनी होने
की खबर
कभी कभी
आ जाती है
कुछ देर के
लिये ही सही
कुछ लोगों की
बांंछे खिल कर
कमल जैसी
हो जाती हैं
गंंदगी से भरे
नाले की
कुछ गंंदगी
अपने आप
निकल कर
जब बाहर को
चली आती है
फैलती है खबर
आग की तरह
चारों तरफ
पहाड़ों और
मैदानो तक
नालों से
होते होते
नाले नदियों
तक फैल जाती है
गंंदगी को
गंंदगी खीँचती है
अपनी तरफ
हमेशा से ही
इस नाले से
निकलते निकलते
दूसरे नालों के
द्वारा लपक
ली जाती है
गंंदगी करती है
प्रवचन गीता के
लिपटी रहती है
झक्क सफेद
कपड़ों में हमेशा
फूल मालाओं से
ढक कर बदबू
सारी छुपाती है
आदत हो चुकी
होती है कीड़ों को
इस नाले के हो
या किसी और
नाले के भी
एक गँदगी के
निकलते ही
कमी पूरी करने
के लिये दूसरी
कहीं से बुला
ली जाती है
खेल गंंदगी का
देखने सुनने
वाले समझते हैं
बहुत अच्छी तरह से
हमेशा से ही
नाक में रुमाल
लगाने की भी
किसी को जरूरत
नहीं रह जाती है
बस देखना भर
रह गया है
थोड़ा सा इतना
और कितनी गंंदगी
अपने साथ उधर से
चिपका कर लाती है
और कौन सी
दूसरी नाली है
जो उसको अब
लपकने के लिये
सामने आती है ।

मंगलवार, 4 मार्च 2014

तेरी कहानी का होगा ये फैसला नही था कुछ पता इधर भी और उधर भी

वो जमाना
नहीं रहा
जब उलझ
जाते थे
एक छोटी सी
कहानी में ही
अब तो
कितनी गीताऐं
कितनी सीताऐं
कितने राम
सरे आम
देखते हैं
रोज का रोज
इधर भी
और उधर भी
पर्दा गिरेगा
इतनी जल्दी
सोचा भी नहीं था
अच्छा किया
अपने आप
बोल दिया उसने
अपना ही था
अपना ही है
सिर पर हाथ रख
कर बहुत आसानी से
उधर भी और इधर भी
हर कहाँनी
सिखाती है
कुछ ना कुछ
कहा जाता रहा है
देखने वाले का
नजरिया देखना
ज्यादा जरूरी होता है
सुना जाता है
उधर भी और इधर भी
कितना अच्छा हुआ
मेले में बिछुड़ा हुआ
कोई जैसे बहुत दूर से
आकर बस यूँ ही मिला
दूरबीन लगा कर
देखने वालों को
मगर कुछ भी
ना मिला देखने
को सिलसिला कुछ
इस तरह का
जब चल पड़ा
इधर भी और उधर भी
उसको भी पता था
इसको भी पता था
हमको भी पता था
होने वाला है
यही सब जा कर अंतत:
इधर भी और उधर भी
रह गया तो बस
केवल इतना गिला
देखा तुझे ही क्योंकर
इस तरह सबने
इतनी देर में जाकर
तीरंदाज मेरे घर में
भी थे तेरे जैसे कई
इधर भी और उधर भी
खुल गया सब कुछ
बहुत आसानी से
चलो इस बार
अगली बार रहे
ध्यान इतना
देखना है सब कुछ
सजग होकर तुझे
इधर भी और उधर भी । 

गुरुवार, 20 फ़रवरी 2014

नहीं सोचना है सोच कर भी सोचा जाता है बंदर, जब उस्तरा उसके ही हाथ में देखा जाता है

योग्यता के मानक
एक योग्य व्यक्ति
ही समझ पाता है
समझ में बस ये
नहीं आता है
“उल्लूक” ही
क्यों कर ऐसी ही
समस्याओं पर
अपना खाली
दिमाग लगाता है
किसी को खतरा
महसूस हो ऐसा
भी हो सकता है
पर हमेशा एक
योग्य व्यक्ति
अपने एक प्रिय
बंदर के हाथ में
ही उस्तरा
धार लगा कर
थमाता है
जब उसका
कुछ नहीं जाता है
तो किसी को
हमेशा बंदर
को देख कर
बंदर फोबिया
जैसा क्यों
हो जाता है
अब भरोसे में
बहुत दम होता है
इसीलिये बंदर को
जनता की दाढ़ी
बनाने के लिये
भेज दिया जाता है
नीचे से ऊपर तक
अगर देखा जाता है
तो बंदर दर बंदर
उस्तरा दर उस्तरा
करामात पर
करामात करता
हुआ नजर आता है
सबसे योग्य
व्यक्ति कहाँ पर
जा कर मिलेगा
पता ही नहीं
लग पाता है
बंदरों और उस्तरों
का मजमा पूरा
ही नहीं हो पाता है
यही सब हो रहा
होता है जब
अपने आसपास
दिल बहुत खुश
हो जाता है बस
यही सोच कर
अच्छा करता है
वो जो दाढ़ी कभी
नहीं बनवाता है
योग्यता बंदर
और उस्तरे के
बारे में सोच
सोच कर खुश
होना चाहिये
या दुखी का
निर्णय ऊपर
वाले के लिये
छोड़ना सबसे
आसान काम
हो जाता है
क्योंकि गीता में
कहा गया है
जो हो रहा है
वो तो ऊपर वाला
ही करवाता है
“उलूक” तुझे
कुछ ध्यान व्यान
करना चाहिये
पागल होने वाले
को सुना है
बंदर बहुत
नजर आता है ।

बुधवार, 28 अगस्त 2013

मैने तो नहीं पढ़ी है क्या आप के पास भी गीता पड़ी है

कृष्ण जन्माष्टमी
हर वर्ष की तरह
इस बार भी आई है
आप सबको इस
पर्व पर बहुत
बहुत बधाई है
बचपन से बहुत बार
गीता के बारे में
सुनता आया था
आज फिर से वही
याद लौट के आई है
कोशिश की कई बार
पढ़ना शुरु करने की
इस ग्रन्थ को पर
कभी पढ़ ही नहीं पाया
संस्कृत में हाथ तंग था
हिन्दी भावार्थ भी
भेजे में नहीं घुस पाया
आज फिर सोचा
एक बार यही कोशिश
फिर से क्यों नहीं की जाये
दिन अच्छा है अच्छी
शुरुआत कुछ आज
ही कर ली जाये
जो समझ में आये
आत्मसात भी
कर लिया जाये
कुछ अपना और
कुछ अपने लोगों का
भला कर लिया जाये
गीता थी घर में एक
देखी कहीं पुत्र से पूछा
पुस्तकालय के कोने से
वो एक पुरानी पुस्तक
उठा के ले आया
कपडे़ से झाड़ कर
उसमें जमी हुई
धूल को उड़ाया
पन्नो के भीतर
दिख रहे थे
कागज खाने वाले
कुछ कीडे़ उनको
झाड़ कर भगाया
फिर सुखाने को
किताब को धूप में
जाकर के रख आया
किस्मत ठीक नहीं थी
बादलों ने सूरज
पर घेरा लगाया
कल को सुखा लूंगा बाकी
ये सोच कर वापस
घर के अंदर
उठा कर ले आया
इतनी शुरुआत
भी क्या कम है
महसूस हो रहा है
अभी भी इच्छा शक्ति
में कुछ दम है
पर आज तो मजबूरी है
धूप किताब को दिखाना
भी बहुत जरूरी है
आप के मन में
उठ रही शंका का
समाधान होना भी
उतना ही जरूरी है
जिस गीता को
आधी जिंदगी नहीं
कोई पढ़ पाया हो
उसके लिये गीता को
पढ़ना इतना कौन सा
जरूरी हो आया हो
असल में ये सब
आजकल के सफल
लोगों को देख कर
महसूस होने लगा है
जरूर इन लोगों ने
गीता को समझा है
और बहुत बार पढा़ है
सुना है कर्म और कर्मफल
की बात गीता में ही
समझायी गयी है
और यही सब सफलता
की कुंजी बनाकर
लोगों के द्वारा
काम में लायी गयी है
मैं जहाँ किसी
दिये गये काम को
करना चाहिये या नहीं
सोचने में समय लगाता हूँ
तब तक बहुत से लोगों
के द्वारा उसी काम को
कर लिया गया है की
खबर अखबार में पाता हूँ
वो सब कर्म करते हैं
सोचा नहीं करते हैं
इसीलिये फल भी
काम करने से पहले ही
संरक्षित रखते हैं
मेरे जैसे गीता
ज्ञान से मरहूम
काम गलत है या सही
सोचने में ही रह जाते हैं
काम होता नहीं है
तो फल हाथ में
आना तो दूर
दूर से भी नहीं
दिख पाते हैं
गीता को इसीलिये
आज बाहर निकलवा
कर ला रहा हूँ
कल से करूँगा
पढ़ना शुरू
आज तो धूप में
बस सुखा रहा हूँ ।

गुरुवार, 16 अगस्त 2012

भ्रम एक शीशे का घर

हम जब शरीर
नहीं होते हैं
बस मन और
शब्द होते हैं
तब लगता था
शायद ज्यादा
सुंदर और
शरीफ होते हैं
आमने सामने
होते हैं तो जल्दी
समझ में आते हैं
सायबर की
दुनियाँ में
पता नहीं कितने
कितने भ्रम
हम फैलाते हैं
पर अपनी
आदत से हम
क्योंकी बाज
नहीं आते हैं
इसलिये अपने
पैतरों में
अपने आप ही
फंस जाते हैं
इशारों इशारो
में रामायण
गीता कुरान
बाइबिल
लोगों को
ला ला कर
दिखाते हैं
मुँह खोलने
की गलती
जिस दिन
कर जाते हैं
अपने
डी एन ऎ का
फिंगरप्रिंट
पब्लिक में
ला कर
बिखरा जाते हैं
भ्रम के टूटते
ही हम वो सब
समझ जाते हैं
जिसको समझने
के लिये रोज रोज
हम यहाँ आते हैं
ऎसा भी ही नहीं
है सब कुछ
भले लोग कुछ
बबूल के पेड़ भी
अपने लिये लगाते हैं
दूसरों को आम
के ढेरियों पर
लाकर लेकिन
सुलाते हैं
सौ बातों की
एक बात अंत में
समझ जाते हैं
आखिर हम
हैं तो वो ही
जो हम वहाँ थे
वहाँ होंगे
कोई कैसे
कब तक बनेगा
बेवकूफ हमसे
यहाँ पर अगर
हम अपनी बातों
पर टाई
एक लगाते हैं
पर संस्कारों
की पैंट
पहनना ही
भूल जाते हैं ।

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...