http://blogsiteslist.com
गीदड़ लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
गीदड़ लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

शनिवार, 28 अप्रैल 2012

"चुहिया"

गीदड़ ने अखबार में
छपवाया है वो शेर है
ताज्जुब है वो अब
तो गुर्राता भी है
शेरों को कोई फर्क
कहाँ पड़ता है
हर शेर हमेशा की
तरह आफिस आता है
बौस को लिखाता है
वो अभी भी शेर है
चुहिया हमेशा की तरह
लिपिस्टिक लगा के
आती है पूंछ उठाती है
हर शेर के चारों तरफ
हौले हौले कदमताल
रोज कर के ही जाती है
शेर कुछ कह नहीं पाते हैं
बस मूँछ मूँछ में ही
कुछ बड़बड़ाते हैं
चुहिया की मोटापे को
सुंदरता की पाजामा
अपने शब्दों में पहनाते है
चूहा शेरों की
दुकान चलाता है
भेजता जाता है
चुहिया को 
गीदड़ के घर रोज
ताकि किसी दिन गीदड़ 
भटक ना जाये
कहीं कबूल ना
कर ले जाये
वो शेर नहीं है ।

शनिवार, 17 मार्च 2012

शेर

सारे शेर भी थे
एक जंगल के भी थे
सबके सपने
अपने अपने थे
गीदड़ों ने मिल कर
उनका शिकार किया
एक नहीं ग्यारह
शेरों पर वार किया
अब शेरों के
घर वालों को
रोना आ रहा है
हर कोई
शेर था शेर था
करके बता रहा है
गीददों से मार
खाई करके बिल्कुल
नहीं शरमा रहा है
जंगल इसीलिये
बरबाद होता जा रहा है
शेर लोग तो जायें गड्ढों में
बेचारे जानवरों को क्यों
जमीन के अंदर बिना
बात ले जाया जा रहा है ?

शुक्रवार, 30 दिसंबर 2011

राज काज

़़़़़़़़़़़़़़़़़़़़़़़़़़़़़़़
नैनीताल समाचार में छपी थी मेरी कुछ लाइने
कुछ वर्ष पूर्व। वहाँ त्रिवार्षिक कार्यकाल वालों के
लिये था। यहां त्रिवार्षिक बदल कर पंचवर्षीय
कर दे रहा हूँ। शेष लाइने वही हैं ।
़़़़़़़़़़़़़़़़़़़़़़़़़़़़़़़

कुत्तों की सभा का
पंचवर्षीय चुनाव
गीदड़ ने पहना ताज

ऎल्सेशियन से
बुलडौग लडा़या
पौमेरियन एप्सो
को छोटा बतलाया
ये था इसका राज

ये था इसका राज
गीदड़ अब रेवड़ी बांटे
कुत्ता अब कुत्ते को काटे
कोई ना रहा अपवाद

कोई ना रहा अपवाद
ढटुओं को अब रोना आया [ढटुआ = Street Dog]
रोते रोते अलख जगाया
गये शेर की मांद
शेर गुर्राया

डर डर कर कुत्तों
ने फरमाया
हर शाख पे उल्लू
बैठा है अंजामें
गुलिस्ताँ क्या होगा

सुन शेर को
गुस्सा आया
पी0 ए0 को
आदेश लिखाया
क्यों शाख पर
उल्लू बैठाया
तुरंत जाओ
कुत्ता देश

तुरंत जाओ
कुत्ता देश
शाख को काट
के लाओ
उल्लू को
आकाश उड़ाओ

हुवा पालन
आदेश
उल्लू अब
गीदड़ पर बैठे

कुत्ता राज
गीदड़ राजा
ना रहे उल्लू
ना रही अब
शाखा ।

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...