http://blogsiteslist.com
गूँगा लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
गूँगा लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

सोमवार, 25 अगस्त 2014

गलतफहमी में ही सही लेकिन कभी कोई ऐसे ही कुछ समझ चुका है जैसा नजर आने लगता है थोड़ी देर के लिये ही सही

कुछ तो अच्छा
ही लगता होगा
एक गूँगे बहरे को
जब उसे कुछ देर
के लिये ही सही
महसूस होता होगा
जैसे उसके इशारों को
थोड़ा थोड़ा उसके
आस पास के
सामान्य हाथ पैर
आँख नाक कान
दिमाग वाले
समझ रहे हों के
जैसे भाव देना
शुरु करते होंगे
समझ में आता
ही होगा किसी
ना किसी को कि
एक छोटी सी
बात को बताने
के लिये उसके
पास शब्द कभी
भी नहीं होते होंगे
कहना सुनना बताना
सब कुछ करना
होता होगा उसे
हाथ की अँगुलियों
से ही या कुछ कुछ
मुँह बनाते हुऐ ही
बहुत खुशी झलकती
होगी उसके चेहरे पर
बहुत सारे लोग नहीं भी
बस केवल एक ही
समझ लेता होगा
उसकी बात को
उसके भावों को
या दर्द और खुशी
के बीच की उसकी
कुछ यात्राओं को
सोच भी कभी कभी
एक ऐसा बहुत छोटा
सा बच्चा हो जाती है
जो एक टेढ़ी मेढ़ी
लकड़ी को एक
खिलौना समझ
कर ताली बजाना
शुरु कर देता हो
कुछ भी कैसे
भी कहा जाये
सीधे सीधे ना सही
कुछ इशारों
में ही सही
जरूरी नहीं है
अपनी बात को
कहने के लिये
एक कवि या लेखक
हो जाना हमेशा ही
लेकिन बिना पूँछ
के बंदर के नाच पर
भी कभी किसी दिन
देखने वाले जरूर
ध्यान देते हैं अगर
वो रोज नाचता है
‘उलूक’ किसी दिन
तुझे इस तरह का
लगने लगता है
कुछ कुछ अगर
खुश हो लिया कर
तू भी थोड़ी देर
के लिये ही सही ।

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...