http://blogsiteslist.com
ग्राफ लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
ग्राफ लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

मंगलवार, 28 अक्तूबर 2014

आये आये देर से भी आये तो भी दुरुस्त ही आये आये तो सही चाहे कुछ भी ना कह जाये


अभी भी देर
नहीं हुई
देर कभी भी
नहीं होती
जब भी समझ
में आ जाये
तभी सुबह
हो जाये
पर रुका कहाँ
कहाँ जाये
किसके लिये
रुका जाये
कहाँ जरूरी है
चलते चलना
कहाँ जरूरी है
कुछ कुछ रुकना
कुछ देर के
लिये ही सही
बस बिना बात
यूँ ही ठहर
लिया जाये
पूछा भी
किससे जाये
कौन सही बताये
कई पीढ़ियाँ
सामने ही  अपने
गुजरती चली जायें
रुकी हुई कहीं भी
कोई भी नहीं दिखाये
सब कुछ चलता
ही चला जाये
चलना ही सही
रुकना है नहीं
किताब में भी
लिखा नजर आये
गिरता भी है
कहीं कोई
किसी रास्ते
पर कहीं
कोई नहीं बताये
फलसफा जिंदगी का
एक खोटा सिक्का
कभी सीधा गिरे
कभी उल्टा हो जाये
गलतफहमियाँ
बनी रहें
जिसका जैसा
मन कर वैसा
समझ ले जाये
कोई उधर जा कर
उसका पढ़े
कोई इधर आ कर
इधर का पढ़ ले जाये
क्या फर्क पढ़ना है
किसी की समझ में
अगर कुछ भी
ना आ पाये
आना जाना बना रहे
रोज ना भी सही
दो चार दिन बाद
ही आ जाये
रुकना मना है
आ जाये अगर
तो याद करके
बिना भूले भटके
चला भी जाये ।

चित्र साभार: www.instantfundas.com

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...