http://blogsiteslist.com
चमचा लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
चमचा लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

बुधवार, 23 अगस्त 2017

पढ़ने वाला हर कोई लिखे पर ही टिप्पणी करे जरूरी नहीं होता है

जो लिखता है
उसे पता होता है

वो क्या लिखता है
किस लिये लिखता है
किस पर लिखता है
क्यों लिखता है

जो पढ़ता है
उसे पता होता है
वो क्या पढ़ता है
किसका पढ़ता है
क्यों पढ़ता है

लिखे को पढ़ कर
उस पर कुछ
कहने वाले को
पता होता है
उसे क्या
कहना होता है

दुनियाँ में
बहुत कुछ
होता है
जिसका
सबको
सब पता
नहीं होता है

चमचा होना
बुरा नहीं होता है

कटोरा अपना
अपना अलग
अलग होता है

पूजा करना
बहुत अच्छा
होता है

मन्दिर दूसरे
का भी
कहीं होता है

भगवान तैंतीस
करोड़ बताये गये हैं

कोई
हनुमान
होता है
कोई राम
होता है

बन्दर
होना भी
बुरा नहीं
होता है

सामने से
आकर
धो देना
होली का
एक मौका
होता है

पीठ पीछे
बहुत करते हैं
तलवार बाजी

‘उलूक’
कहीं भी
नजर नहीं
आने वाले
रायशुमारी
करने वालों का
सारे देश में
एक जैसा एक ही
ठेका होता है ।

चित्र साभार: Cupped hands clip art

शनिवार, 13 सितंबर 2014

मित्र “अविनाश विद्रोही” आपके आदेश पर इतना ही कुछ मुझ से आज कहा जायेगा

मित्र आपने
आदेश दिया है
उस पर और
उसके चित्र के
पाँव सड़क पर
दिखा दिखा कर
धो कर पीने
वालों पर कुछ
लिखने को कहा है
आपके आदेश का
पालन करने
जा रहा हूँ
मैं आपके
उस सबसे बड़े
महान के ऊपर
आज कुछ
लिखने ही
जा रहा हूँ
नाम इसलिये
नहीं ले पा रहा हूँ
कहीं इस बदनामी
का फायदा भी वो
उठा ले जायेगा
बहुत दिन पोस्टरों
में रहा है गली गली
इस देश की
आने वाले समय के
मंदिरों की
मूर्ति हो जायेगा
आज साईं बाबा को
बाहर फेंका जा रहा है
कल हर उस
खाली जगह पर वो
खुद ही जाकर
अपना बैठ जायेगा
उसके चमचों की
बात कर के क्यों
अपना दिमाग
खराब करते हो
अभी बहुत सालों तक
हर गली हर पेड़ पर
वो ही लटका हुआ
नजर आयेगा
इस देश की किस्मत
अच्छी कही जाये या बुरी
तेरी मेरी किस्मत में
फुल स्टोप उसके
चमचे का कोई
चमचा ही लगायेगा
सोच कर आया था
‘उलूक’ पाँच साल
पूरे हो चुके ब्लाग पर
अब शायद गली की
बातों को छोड़
घर की रोशनी पर
कुछ लिखा जायेगा
किसे मालूम था
फेस बुक के
संदेश बक्से में
तेरा संदेश उस पर
और उसके चमचों पर
कुछ ना कुछ लिख
ले जाने को उकसायेगा
उसके पाँच सालों पर है
तेरी काली नजर पर
अगले पाँच साल भी
उसका कोई ना कोई
चमचा तुझे जरूर
कहीं ना कहीं रुलायेगा
क्या पता उसकी
हजार फीट की
प्रतिमा बनाने के
नाम पर कुछ
लोहा माँगने ही
तेरे घर ही आ जायेगा ।

चित्र साभार: http://www.canstockphoto.com/

शुक्रवार, 30 मार्च 2012

देखता है क्या

कोई कुछ देखता है कोई कुछ देखता है
कोई कुछ भी कभी यहाँ नहीं देखता है।
तू जहर देखता है वो शहर देखता है
बैचेनी तुम्हारी कोई बेखबर देखता है।
कोई आता इधर है और उधर देखता है
कहता कुछ भी नहीं है अगर देखता है।
चमचा धीरे से आकर एक नजर देखता है
बताने को उसको एक खबर देखता है।
भटकना हो किस्मत तो कुवां देखता है
बंदा मासूम सा एक बस दुवा देखता है।
अपने सपनो को जाता वहाँ देखता है
उसके कदमों की आहट यहां देखता है।
सबको मालूम है कि वो क्या देखता है
हर कोई यहाँ नहीं एक खुदा देखता है।

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...