http://blogsiteslist.com
चमचा लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
चमचा लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

शनिवार, 13 सितंबर 2014

मित्र “अविनाश विद्रोही” आपके आदेश पर इतना ही कुछ मुझ से आज कहा जायेगा

मित्र आपने
आदेश दिया है
उस पर और
उसके चित्र के
पाँव सड़क पर
दिखा दिखा कर
धो कर पीने
वालों पर कुछ
लिखने को कहा है
आपके आदेश का
पालन करने
जा रहा हूँ
मैं आपके
उस सबसे बड़े
महान के ऊपर
आज कुछ
लिखने ही
जा रहा हूँ
नाम इसलिये
नहीं ले पा रहा हूँ
कहीं इस बदनामी
का फायदा भी वो
उठा ले जायेगा
बहुत दिन पोस्टरों
में रहा है गली गली
इस देश की
आने वाले समय के
मंदिरों की
मूर्ति हो जायेगा
आज साईं बाबा को
बाहर फेंका जा रहा है
कल हर उस
खाली जगह पर वो
खुद ही जाकर
अपना बैठ जायेगा
उसके चमचों की
बात कर के क्यों
अपना दिमाग
खराब करते हो
अभी बहुत सालों तक
हर गली हर पेड़ पर
वो ही लटका हुआ
नजर आयेगा
इस देश की किस्मत
अच्छी कही जाये या बुरी
तेरी मेरी किस्मत में
फुल स्टोप उसके
चमचे का कोई
चमचा ही लगायेगा
सोच कर आया था
‘उलूक’ पाँच साल
पूरे हो चुके ब्लाग पर
अब शायद गली की
बातों को छोड़
घर की रोशनी पर
कुछ लिखा जायेगा
किसे मालूम था
फेस बुक के
संदेश बक्से में
तेरा संदेश उस पर
और उसके चमचों पर
कुछ ना कुछ लिख
ले जाने को उकसायेगा
उसके पाँच सालों पर है
तेरी काली नजर पर
अगले पाँच साल भी
उसका कोई ना कोई
चमचा तुझे जरूर
कहीं ना कहीं रुलायेगा
क्या पता उसकी
हजार फीट की
प्रतिमा बनाने के
नाम पर कुछ
लोहा माँगने ही
तेरे घर ही आ जायेगा ।

चित्र साभार: http://www.canstockphoto.com/

शुक्रवार, 30 मार्च 2012

देखता है क्या

कोई कुछ देखता है कोई कुछ देखता है
कोई कुछ भी कभी यहाँ नहीं देखता है।
तू जहर देखता है वो शहर देखता है
बैचेनी तुम्हारी कोई बेखबर देखता है।
कोई आता इधर है और उधर देखता है
कहता कुछ भी नहीं है अगर देखता है।
चमचा धीरे से आकर एक नजर देखता है
बताने को उसको एक खबर देखता है।
भटकना हो किस्मत तो कुवां देखता है
बंदा मासूम सा एक बस दुवा देखता है।
अपने सपनो को जाता वहाँ देखता है
उसके कदमों की आहट यहां देखता है।
सबको मालूम है कि वो क्या देखता है
हर कोई यहाँ नहीं एक खुदा देखता है।

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...