http://blogsiteslist.com
चिंगारी लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
चिंगारी लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

गुरुवार, 8 अक्तूबर 2015

आग लिखना सरल है बाकी फालतू की आग है

आग है
बहुत है
इधर भी है
उधर भी है
जल भी रहा
है बहुत कुछ
राख है और
बहुत है
इधर भी है
उधर भी है
लगा हुआ है
धौंकने में
चिंगारी कोई
इधर भी है
उधर भी है
हो भी रहा है
कुछ नहीं भी
हो रहा है
इधर भी कुछ
उधर भी कुछ
अलग अलग
है आग है
इधर की है अलग
अलग है आग
उधर की है
आग सोच की है
आग मोबाईल की है
आग फैशन की है
आग मोटर
साइकिल की है
आग पढ़ने की है
आग पढ़ाने की है
आग निभाने की है
आग पचाने की है
आग जमा करने की है
 आग जलने की है
आग जलाने की है
आग लकड़ियों की है
आग जंगल और
जंगलियों की है
आग सब्सीडी की है
आग मेहनत की है
आग हराम खोरी की है
‘उलूक’ रुक जा रुक जा
मत बाँट आग को
तो कम से कम
आग आग है
आँख आँख है
परेशान मत हुआ कर
हर आस्तीन में साँप है
जरूरी भी है जो है
काटने वाला नहीं है
बस दिखाने का साँप है ।

चित्र साभार: newyork.cbslocal.com

शुक्रवार, 21 नवंबर 2014

आज तो बस चिंगारी आग और राख की बात करनी है

चिंगारियाँ
उठने की बात
आग़ लगने
की बात
बात बात में
ही करनी है
इससे भी
पूछना है
उससे भी
पूछना है
आग से भी
पूछ कर ही
कुछ सुलगने
सुलगाने की
बात करनी है
जलाना कितना भी है
जलाना कुछ भी है
बस जलाने की
बात करनी है
आग लगनी है
ना लगानी है
बस आग दिखने
और दिखाने की
बात करनी है
धुँआ दिखना नहीं है
राख बचनी नहीं है
दिल को
जलना नहीं है
तूफान आने की
बात करनी है
कत्ल होना नहीं है
खून बहना नहीं है
क्राँतिकारियों की
बात करनी है
बहुत हो चुकी
इंसानों की बातें
पामेरियन ऐप्सो
एल्शेशियन की
बात करनी है
बहुत बेच दिये
आदमी ने आदमी
अब लाशें दफना कर
उनकी मूर्तियाँ
लगवाकर
कमीशन बनाने
की बात करनी है
सालों हो गये तुझको
बातें बनाते ‘उलूक’
सबको पता है
तुझे तो बस
माचिस की
बात करनी है
आग होती भी है
आग लगती भी है
मत करो जुल्म
उसपर बड़ा
उसे भी कभी
थोड़ा सा कुछ
सोने जाने की
बात करनी है ।


चित्र साभार: www.dreamstime.com

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...