http://blogsiteslist.com
चूहो लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
चूहो लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

बुधवार, 25 जुलाई 2012

अब अलग हो जाओ चूहो

बहुत खुश नजर आ रहे थे
आज लोग बाग यहाँ वहाँ
और ना जाने कहाँ कहाँ
चूहों को अलग अलग
दिशाओं में जाता हुआ
देखकर ताली बजा रहे थे
पर ये भूल जा रहे थे
सब कुछ कुतरने के बाद
का दृश्य भूत में भी
हमेशा से ऎसा ही हुआ
करता आया है
चूहे बिल बनाते हैं
कहाँ कहॉं कुतर रहे हैं
क्या क्या कुतर रहे हैं
कैसे कुतर रहे हैं
कहाँ किसी को ये
सब कभी बताते है
जिसे दिखता है बस
कुतरा हुआ दिखता है
चूहा कोई भी उसके
आसपास कहीं एक भी
दूर दूर तक नही किसी
को दिखता है
और ये भी अगले आक्रमण
की एक सोची समझी तैयारी है
ये बात किसी के भी समझ में
कहीं भी तो नहीं आ रही है
चुहिया इस समय
सबको समझा रही है
अलग  हो जाने का
आदेश देती जा रही है
जाओ वीरो जाओ
अपने दांंत और पंजे
फिर से घिसने के लिये
तैयार हो जाओ
समय आ गया है
देश को फिर से
पाँच साल के लिये
नये सिरे से
कुतर के खाना है
जाओ अलग
अलग हो जाओ
सब को सोने का मौका
दे कर सुलाना है
फिर से लौट कर
यहीं आ जाना है
नयी ताकत बटोर कर
फिर एक हो जाना है
देखने वाले गदगद
हुऎ जा रहे हैं
सोच रहे हैं
बेवकूफ चूहे
आपस में
लड़ते जा रहे हैं
सारी मलाई
उनके खाने के लिये
ऎसे ही छोड़
के जा रहे हैं
उनको कहाँ मालूम है
चूहे पुराने
बिलों को छोड़ कर
नये बिलों को खोदने
के लिये जा रहे हैं ।

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...