http://blogsiteslist.com
छब्बीस जनवरी लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
छब्बीस जनवरी लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

बुधवार, 25 जनवरी 2017

बधाई है बधाई है बधाई है बधाई है

गण हैं
तंत्र है
सिपाही हैं

झंडा है
एक है
तिरंगा है

आजाद हैं
आजादी है
शहनाई हैं
देश है
जज्बा है
सेवा है

मिठाई है
मलाई है
मेवा है

चुनाव हैं
जरूरी हैं
लड़ना है
मजबूरी है

दल है
बल है
कोयला है
कोठरी हैं

काजल है
धुलाई है
निरमा है
सफेद है
जल है
सफाई है

दावेदारी है
दावेदार हैं
कई हैं
प्रबल हैं

इधर हैं
उधर हैं
इधर से
उधर हैं
उधर से
इधर हैं

खुश हैं
खुशी है
शोर है
आवाजाही है

चश्मा है
लाठी है
धोती है
काली है
सूची है
नाम लेने
की भी
मनाही है

सिल्क है
अंगूठी है
कलफ है
कोठी है
वाह है
वाहवाही है

छब्बीस है
जनवरी है
सालों से
आई है

आती है
जाती है
आज
फिर से
चली आई है

शरम की
बात नहीं
बेशर्मी नहीं
बेहयाई नहीं
‘उलूक’ की
चमड़ी
खुजली
वाली है
खुजलाई है

कबूतरों की
बारात है
देखी कहीं
एसी कभी
कौओं की
अगुआई है
कौओं ने
सजाई है

गण हैं
तंत्र है
सिपाही हैं
झंडा है
बधाई है
बधाई है
बधाई है
बधाई है ।

चित्र साभार: www.fotosearch.com

रविवार, 26 जनवरी 2014

कोई गुलाम नहीं रह गया था तो हल्ला किस आजादी के लिये हो रहा था

गुलामी थी सुना था
लिखा है किताबों में
बहुत बार पढ़ा भी था
आजादी मिली थी
देश आजाद हो गया था
कोई भी किसी का भी
गुलाम नहीं रह गया था
ये भी बहुत बार
बता दिया गया था
समझ में कुछ
आया या नहीं
बस ये ही पता
नहीं चला था
पर रट गया था
पंद्रह अगस्त दो अक्टूबर
और छब्बीस जनवरी
की तारीखों को
हर साल के नये
कलैण्डर में हमेशा
के लिये लाल कर
दिया गया था
बचपन में दादा दादी ने
लड़कपन में माँ पिताजी ने
स्कूल में मास्टर जी ने
समझा और पढ़ा दिया था
कभी कपड़े में बंधा हुआ
एक स्कूल या दफ्तर के
डंडे के ऊपर खुलते खुलते
फूल झड़ाता हुआ देखा था
समय के साथ शहर शहर
गली गली हाथों हाथ में
होने का फैशन बन चला था
झंडा ऊंचा रहे हमारा
गीत की लहरों पर
झूम झूम कर बचपन
पता नहीं कब से कब तक
कूदते फाँदते पतंग
उड़ाते बीता था
जोश इतना था
किस चीज का था
आज तक भी पता ही
नहीं किया गया था
पहले समझ थी या
अब जाकर समझना
शुरु हो गया था
ना दादा दादी
ना माँ पिताजी
ना उस जमाने के
मास्टर मास्टरनी
में से ही कोई
एक जिंदा बचा था
अपने साथ था
अपना दिमाग शायद
समय के साथ
उस में ही कुछ
गोबर गोबर सा
हो गया था
आजादी पाने वाला
हर एक गुलाम
समय के साथ
कहीं खो गया था
जिसने नहीं देखी
सुनी थी गुलामी कहीं भी
वो तो पैदा होने से
ही आजाद हो गया था
बस झंडा लहराना
उसके लिये साल के
एक दिन जरूरी या
शायद मजबूरी एक
हो गया था
कुछ भी कर ले
कोई कहीं भी कैसे भी
कहना सुनना कुछ
किसी से भी
नहीं रह गया था
देश भी आजाद
देशवासी भी आजाद
आजाद होने का
ऐसे में क्या
मतलब रह गया था
किसी को तो पता
होता ही होगा जब
एक “उलूक” तक
अपने कोटर में
तिरंगा लपेटे
“जय हिंद” बड़बड़ाते हुऐ
गणतंत्र दिवस के
स्वागत में सोता सोता
सा रह गया था !

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...