http://blogsiteslist.com
जजर लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
जजर लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

मंगलवार, 27 मार्च 2012

खुदा और नजर।

नजर से नजर
मिलाता है
नजर की नजर
से मार खाता है
महफिल वो
इसीलिये सजाता है
बुला के तुझको
वहाँ ले जाता है
नजरों के खेल का
वो इतना माहिर है
तुझे पता है वो
कितना शातिर है
तुझ को पता नहीं
क्या हो जाता है
चुंबक सा उसके पीछे
तू चला जाता है
सबको पहले से
ही वो बतायेगा
तू उसके इक इशारे
पे चला आयेगा
इस बार फिर से वो
महफिल सजायेगा
तुझको हमेशा की
तरह वो बुलायेगा
सब मिलकर नजर
से नजर मिलायेंगे
तुझे कुछ भी नहीं
कभी बतायेंगे
तुझको तेरी नजर
से गिरायेंगे
पर तू तो खुदा
हो जाता है
खुदा कहां नजर
बचाता है
मिला कर नजर
मिलाता है।

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...