http://blogsiteslist.com
जतन लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
जतन लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

रविवार, 20 अक्तूबर 2013

एक की हो रही पहचान है एक पी रहा कड़वा जाम है !

अगला आदमी भी
कितना परेशान है
अपनी एक पहचान
बनाने की कोशिश में
हो रहा हलकान है
बगल वाला है तो
उसका ही जैसा
कुछ भी नहीं है
थोड़ा सा भी कहीं
कुछ अलग अलग सा
दिखता भी नहीं है
करता हुआ कुछ
अजब गजब सा
समझ में नहीं आता
हर गली हर मौहल्ले में
हो रहा फिर भी
उसका ही नाम है
अखबार रेडियो टी वी
वालों से बनाई अगले
ने बहुत पहचान है
हजार जतन कर
कराने के बाद भी
कोई क्यों नही देता
ऐसे शख्स की तरफ
थोड़ा सा भी ध्यान है
सभी तो सब कुछ
करने में लगे हुऐ हैं
बस अपने लिये
ही तो यहां या वहां
होना है किसी और
के लिये नहीं जब
कुछ इंतजाम है
इसे मिलता है
उसे मिलता है
अगले को ही बस
क्यों नहीं मिलता
कुछ सम्मान है
किसी का नाम होने से
किसी को हो रहा
बहुत नुकसान है
कोई करे कुछ तो
उसके लिये कभी
इसकी और उसकी
हो रही पहचान से
किसी की सांसत में
देखो फंस रही जान है ।

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...