http://blogsiteslist.com
जरूरी नहीं लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
जरूरी नहीं लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

गुरुवार, 3 अक्तूबर 2013

जरूरी नहीं सब सबकुछ समझ ले जायें

विचारधाराऐं
नदी के दो
किनारों
की धाराऐं
किसी एक
को अपनायें
सोचें कुछ
नहीं बस
आत्मसात करें
और फैलायें
लोगों को
अनुयायी बनायें
सबको बतायें
किनारे कभी
मिलते नहीं
किनारे
किनारे तैरें
तो कभी
डूबते नहीं
संभव नहीं
इस किनारे वाले
उस किनारे
पर चले जायें
अवसर होती हैं
नदी के बीच
बह रही धाराऐं
जब भी कभी
नजर आयें
किसी को
ना बतायें
खुद डुबकी
लगायें
बस ध्यान
रहे इतना
किसी भी
अनुयायी को
इसकी भनक
ना हो पाये
संगम होता
दिखे
किनारे किनारे
चलते चलते
कभी दो
नदियों का
रुक जायें
मनन करें
खोज करने से
पहले परहेज
करना होता
है बेहतर के
फलसफे
को अपनायें
इससे पहले
अनुयायिओं
को दिखे
दो किनारों
का जुड़ना
और
विचारधाराओं
का मिलना
सबका
ध्यान बटायें
एक महाकुंभ
करवाने का
जुगाड़ लगवायें
अवसरों के संगम
को जाने ना दें
भुनायें
खुद किनारे
को छोड़ कर
संगम करती
नदियों के
बीच में
डुबकियां लगायें
विचारधारायें
नदी के
दो किनारों
की धारायें
संभव नहीं
होता है मिलन
जिनका कभी
अनुयायियों
को समझाते
यही बस
चले जायें
आ ही गया
किसी के
समझ में
थोड़ा बहुत
कभी ना
घबरायें
किनारे पर
ना रहने दें
अपने साथ
डुबकी लगाने
नदी के बीच
उसे भी लेते
चले जायें ।

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...