http://blogsiteslist.com
जाँबाज लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
जाँबाज लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

बुधवार, 7 मई 2014

सच्चाई लिखने का ही बस कोई कायदा कानून नहीं होता है

दिल ने कहा गिन
अरे कुछ तो गिन
गिनती भूल गये
पता नहीं क्यों
इसी बार बस
दिन गिने
ही नहीं गये
बहुत देर में
पहुँचे आँखिरकार
आया बटन
दबाने का दिन
उसकी सोचो
उसे भी तो
चादर से ढके
गधों को
हाँकते हाँकते
हो गये हैं
कितने दिन
मान कर
चलना पड़ेगा
किसी ने किसी
गधे को नहीं
देखा होगा
आगे क्या
होने वाला है
पता नहीं किसी
को शायद
पता भी होगा
उसको देख कर
ही तसल्ली
कर रहा होगा
काफिला सही
जगह पर जाकर
पहुँच रहा होगा
गधे आश्वस्त होंगे
बहुत खुश होंगे
व्यस्त होंगे
मन ही मन
बेचैन होंगे
दावत के सपने
काले सफेद नहीं
सभी रंगीन होंगे
होता है होता है
ऐसा ही होता है
किसी को कहाँ
मतलब होता है
जब गधे के
आगे गधा और
गधे के पीछे भी
गधा होता है
गधे चल या
दौड़ रहे होते हैं
देखने सुनने वाले
भी गधे होते हैं
क्या करे बेचारा
उस ही के बारे में
हर कोई कुछ ना कुछ
सोच रहा होता है
मानना पड़ता है
जाँबाज होता है
गधे हैं पता
होने पर भी
खुशी खुशी
हाँक रहा होता है
अनगिनत गधों में
एक भी गधा
ऐसा नहीं होता है
जिसके गले में
कोई पट्टा या
रस्सी का फंदा
दिख रहा होता है
उसकी सोचो जरा
जो इतनो को
इतने समय से
एक साथ खींच
घसीट रहा होता है
गधों में से एक गधा
तब से अब तक
गधों की बात ही
सोच रहा होता है
गुब्बारों में हवा
भरने का भी
कोई सहूर होता है
ज्यादा भर गई
हवा को भी तो
कहीं ना कहीं से
निकलना ही होता है
आदमी का इस सब में
कोई कसूर नहीं होता है
जहाँ कुछ भी होना
मंजूरे खुदा के होने
से ही होना होता है
कुछ नहीं कर
सकता है कोई
उसके लिये
जिसकी किस्मत
में बस यही सब
लिखना लिखा
होता है
पढ़ने वाले के
लिये दुआऐं
ढेर सारी लिखने
के साथ साथ
'उलूक' हमेशा
बहुत सारी जरूर
माँग रहा होता है ।

शुक्रवार, 28 फ़रवरी 2014

एक बहादुर को एक कायर भी कभी सलामी देता है

बेशरमों के
कर्मों को
अपने सिर पर
ले लेता है
एक जाँबाज के
दिल में ही
ऐसा कोई
जज्बा होता है
सोच में ऐसा
करने की सोच
का कीड़ा वैसे
तो बहुत बहुतों
के होता है
पर कर ही
लेने वाला
लाखों करोड़ों में
एक होता है
जगह छूटती
नहीं है कोई खाली
कभी भी ऐसा
नहीं होता है
लपकने के लिये
लाईन में लगा हुआ
तुरत फुरत लपक
ही लेता है
काम कभी
रुकते नहीं किसी के
होने या नहीं होने से
किसी के छोड़ के
जाने का गम भी
किसी को नहीं होता है
कुछ दिन बहाते हैं
कुछ घड़ियाल आँसू
लगा कर कुछ रसायन
आँखो के नीचे से
किसी ईमानदार अफसर
के चले जाने से
हर कोई खुश
ही होता है
कुछ के समझ में
आता है दर्दे दिल
एक बीमार का
जिसके आस पास
उसी तरह का
एक बाजार होता है
लुट रहा हो देश
बहुत धीरे धीरे
हल्ला मचा मचा कर
झंडे लहराने वालों का
मजमा खड़ा होता है
हिम्मत नहीं है
किसी की जो
शाबाशी दे सके तुझे
"एडमिरल जोशी"
तेरा जैसा जाँबाज
सदियों में ही
एक होता है
कोई कुछ कहे
या ना कहे से
क्या होता है
तेरी जैसी सोच
रखने वाले को ही
बहुत अफसोस होता है
कुछ नहीं कहना है
“उलूक” को भी
इससे ज्यादा यहाँ
इस देश में
अब जो होता है
वो किसी और के
देश में नहीं होता है ।

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...