http://blogsiteslist.com

समर्थक

नियम लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
नियम लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

शुक्रवार, 30 दिसंबर 2016

आओ खेलें झूठ सच खेलना भी कोई खेलना है

प्रतियोगिता
झूठ
बोलने
की ही
हो रही है

हर
तरफ
आज
के दिन
पूरे
देश में

किसी
एक झूठे
के
बड़े झूठ
ने ही
जीतना है

झूठों में
सबसे
बड़े झूठे
को
मिलना
है ईनाम
किसी
नामी
बेनामी
झूठे
ने ही
खुश
हो कर
अन्त में
उछलना है
कूदना है

झूठे ने
ही
देना
है 
झूठे
को 
 
सम्मान

सारे झूठे
नियम बन
चुके हैं
झूठे
सब कुछ
झूठ पर
पारित कर
चुके हैं
झूठों की
सभा में

उस पर
जो भी
बोलना है
जहाँ
बोलना है
किसी झूठे
को ही
बोलना है

सामने से
होता हुआ
नजर आ
रहा है जो
कुछ भी
कहीं पर भी
वो सब
बिल्कुल भी
नहीं देखना है
उस पर
कुछ भी नहीं
कुछ बोलना है

झूठ देखने
से नहीं
दिखता है
इसलिये
किसलिये
आँख को
अपनी
किसी
ने क्यों
खोलना है

झूठ के
खेल को
पूरा होने
तक
खेलना है

झूठ ने ही
बस स्वतंत्र
रहना है

झूठ पकड़ने
वालों पर
रखनी हैं
निगाहें

हरकत
करने से
पहले उनको
पकड़ पकड़
उसी समय
झूठों ने
साथ
मिलकर
पेलना है

जिसे
खेलना है
झूठ
उसे ही
झूठ के
खेल पर
करनी है
टीका टिप्पणी
झूठों के
झूठ को
झूठ ने ही
झेलना है

‘उलूक’
तेरे पेट में
होती ही
रहती है
मरोड़
कभी भरे
होने से
कभी
खाली
होने से

लगा क्यों
नहीं लेता
है दाँव
ईनाम
लेने के लिये
झूठ मूठ
में ही
कह कर
बस कि
पूरा कर
दिया तूने
भी कोटा
झूठ
बोलने का

हमेशा सच
बोलना भी
कोई बोलना है ।

चित्र साभार: www.clipartkid.com

रविवार, 17 जनवरी 2016

लोगों की लोगों द्वारा लोगों के लिये

अब्राहम लिंकन
लोगों के लिये
बोल गये थे
लोगों की
समझ में
आज तक बात
नहीं घुस पाई है
धूर्तों की जय हो
नियम कानून
बना संवार कर
अपने साम्राज्य
की ईंटे क्या
चमकाई हैं
धूर्तों की महासभा
में फिर एक बार
धूर्तों ने अपनी
ताकत दिखलाई है
धूर्तों की, धूर्तों द्वारा,
धूर्तों के लिए
लाग़ू होता है
लोग की जगह
होना भी चाहिये
कोई बुराई नहीं है
खबर भी आई है
नियमावली नई
बनवाई है
बात धूर्तों के खुद
के अधिकारों की है
खुजली हो जाने
वालों को खुजली
होती ही है
होती आई है
कोई नई बात नहीं है
कई बार खुजलाई है
खुजलाने की आदत
पड़ ही चुकी है
अच्छा महसूस होता है
दवाई भी इसीलिये
नहीं कोई कभी खाई है
बैचेनी सी महसूस
होने लगती है हमेशा
पता चलता है जब
कई दिनों से उनकी
कोई खबर शहर के
पन्ने में अखबार
के नहीं आई है
‘उलूक’ तू लोगों में
वैसे भी नहीं
गिना जाता है
और धूर्तों से तेरा
हमेशा का छत्तीस
का नाता है

तुझे भी हर बात पर
खुजलाने के अलावा
और क्या आता है 

खुजला ले तमन्ना
से जी भर कर
यहाँ खुजली करने
की किसी को भी
दूर दूर तक कहीं 

नहीं 
कोई मनाही  है ।

चित्र साभार: www.clipartsheep.com

शुक्रवार, 7 फ़रवरी 2014

एक समझदार बेकार की चीजों के कारण कभी भी अंदर नहीं होता है

एक बियर की
खाली बोतल
एक औरत
एक मंदिर
और एक पुजारी
बहुत होती हैं
इतनी चीजें
और एक खबर
बन ही जाती है
जितना बड़ा भगवान
उतना बड़ा पुजारी
बड़े भगवान की
सेवा करने का
मेवा भी बहुत
बड़ा होता है
बड़े होटल में
जाने के लिये
लेकिन पता नहीं
उसे कौन
बोल देता है
जब कि धर्म के
हिसाब से वहाँ
जाना छोड़िये
सोचने से भी
धर्म भ्रष्ट होता है
अब कौन समझाये
बेवकूफों को
कोई वेद ग्रँथ
पढ़ लिख लेने
भर से ही
दिमाग थोड़े ना
तेज होता है
इतना तो कोई भी
सोच सकता है
कि भारतीय पुलिस
के मन आ गई
तो स्काट लैंड यार्ड
भी उनके सामने
पानी भर रहा होता है
बियर और बियर
बनाने वाली कँपनी
की गलती भी
कोई नहीं देखता है
पंडित पुजारी के
लिये वर्जित है
की चेतावनी बोतल
के तले में क्यों
नहीं छपा होता है
पुजारी होना भी
गुनाह नहीं है
बियर पीना भी
गुनाह नहीं है
एक औरत को
छू लेना
पीने के बाद
या पीने के पहले
एक गुनाह कम
या ज्यादा
जरूर होता है
इतना कम नहीं
कि माँस मछली
खाने की खबर
किसी भी अखबार
का रिपोर्टर
नहीं देता है
एक हड्डी नहीं
मिली होगी कहीं
या बात हो
गई होगी
खाने से पहले और
पीने के बाद कहीं
समझदार लोगों को
जो भी काम
करना होता है
नियम कानून के
अंदर ही जरूर
करना होता है
इन सभी मामलों से
इतना तो पता होता है
समझदार कभी भी
तिहाड़ देखने के लिये
नहीं गया होता है
पुजारी पढ़ा लिखा
एक बहुत बड़ा
बेवकूफ होता है
इतना तो पक्का ही
इन सब बातों से
सिद्ध ही होता है ।

शनिवार, 1 जून 2013

स्वायत्तता

हमेशा की तरह
आज भी आया हूँ
फिर से एक
बेवकूफी भरा
सवाल लाया हूँ
स्वायत्तता और
स्वायत्तशाशी
संस्थान में मौज
मारता रहा हूँ
पर होती क्या है
अभी तक खुद भी
नहीं समझ पाया हूँ
सरकार
सी बी आई को
स्वायत्तता
देने जा रही है
सुनकर अपनी
आँख थोड़ा सा
खोल पाया हूँ
विकीपीडिया
स्वायत्तता
का मतलब
समझाती है
अपने नियम
खुद बनाना
और उससे
किसी सिस्टम
को चलाना
होता है
ऎसा कुछ
समझाती है
इसलिये
स्वायत्तशाशी
संस्थानों में
कोई बाहर
का नियम नहीं
चल पाता है
क्योंकि हर कोई
अपनी सुविधा से
अपना एक नियम
अपने लिये बनाता है
आजादी अगर
देखनी हो
तो किसी भी
स्वायत्तशाशी
संस्थान में
चले जाईये
वहाँ हाजिरी
लगना लगाना
बेवकूफी
समझा जाता है
जब मन
आये आइये
जब मन ना हो
कहीं भी घूमने
चले जाइये
छुट्टी की अर्जी
भेजने की
जहमत भी
मत उठाइये
नौकरी पा
जाने के बाद
काम करने
को किसी से
भूल में भी ना
कह ले जाइये
स्वायत्तता
में रहकर जो
काम कर
रहा होता है
वो एक
गधा होता है
उस गधे
को छोड़ कर
बाकी हर कोई
स्वायत्त होता है
देश की सरकार
और सरकारी
दफ्तरों में सरकार
स्वायत्तता क्यों
नहीं बाट
ले जा रही है
सब जगह
अपने नियम
खुद बनाने
वाले पेड़
क्यों नहीं
उगा रही है
सारे झगडे़
स्वायत्तता
मिलते ही
निपटते
चले जायेंगे
सब लोग जब
अपने अपने
नियम खुद
बनाते चले जायेंगे
कोई किसी
से कुछ भी
नहीं कहीं
कह पायेगा
जो कहेगा
वो अपनी मौत
खुद ही अपने
लिये बुलायेगा
स्वायत्तता वैसे
तो समझ में
नहीं भी कभी
आ पाती है
देश को तो
एक सरकार
ही मगर
चलाये जाती है
उसे स्वायत्त
नहीं सरकारी
ही हमेशा से
कहा जाता है
ज्यादातर
सरकार सबको
सरकारी ही रहने
देना चाहती है
बस जिसे बर्बाद
करना होता है
उसे ही स्वायत्तता
देना चाहती है ।

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...