http://blogsiteslist.com
600 लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
600 लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

मंगलवार, 11 मार्च 2014

झेल सके तो झेल “उलूक” ने छ: सौवीं बक बक दी है आज पेल

काम की बात
करने में ही
होती हैं बस
कठिनाईयाँ
कुछ लोग
बहुत अच्छा
लिखते हैं
पढ़ते ही
बज उठती
है चारों तरफ
शहनाईयाँ
कुछ भी
कह लेने में
किसी का कुछ
नहीं जाता है
एक दो तीन
होते होते
पता कहाँ
चलता है
एक दो नहीं
छ: का सैकड़ा
हो जाता है
ना पेड़ खिसकता
है कहीं कोई
ना ही पहाड़
एक किसी से
सरक पाता है
सब लोग लगे
होते हैं कुछ
ना कुछ ही
करने धरने में
कहीं ना कहीं
कुछ लोगों से
कुछ भी नहीं
कहीं हो पाता है
लिखना सबसे
अच्छा एक काम
ऐसे लोगों को
ही नजर आता है
एक जमाने में
भरे जाते थे
जिनसे कागज
किसी कापी
या डायरी के
साल होते होते
सामने सामने का
नजारा एक कबाड़ी
का कापियों को
खरीद ले जाना
हो जाता है
वो जमाना भी
गया जमाना
हो चुका कभी का
आज के दिन
कापी की जगह
ब्लाग हो जाता है
पहले के लिखे का
भी कोई मतलब
नहीं निकाला
किसी ने कहीं
आज निकलता
भी है तो कोई
कहाँ बताता है
टिप्पणी करने का
चलन भी शुरु हुऐ
कुछ ही दिन तो
हुऐ हैं कुछ
ही समय से
कुछ करते हैं
कुछ ही जगहों पर
कुछ नहीं करते
हैं कहीं भी
कुछ को लिखा
क्या है ये ही
समझ में नहीं
आ पाता है
खुश है “उलूक”
पलट कर
देखता है जब
छ: सौ बेकार
की खराब कारों के
काफिले से
उसका गैरेज
भर जाता है ।

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...