http://blogsiteslist.com
9 नवम्बर लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
9 नवम्बर लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

बुधवार, 9 नवंबर 2016

जन्म दिन राज्य का मना भी या नहीं भी सोलह का फिर भी होते होते हो ही गया है

पन्द्रह पच्चीसी
का राजकुवँर
आज सौलहवीं
पादान पर आ
कर खड़ा
हो गया है

पैदा होने से
लेकर जवानी
की दहलीज पर
पहुँचते पहुँचते
क्या हुआ है
क्या नहीं हुआ है

बड़े घर से
अलग होकर
छोटे घर के
चूल्हे में क्या
क्या पका है
क्या कच्चा
रह गया है

जंगल हरे
भस्म हुऐ हैं
ऊपर कहीं
ऊँचाइयों के
धुआँ आकाश
में ही तो फैला
है दूर तक
खुद को खुद
ही आइने में
इस धुंध के
ढूँढना मुश्किल
भी हो गया है
तो क्या हो गया है

बारिश हुई भी है
एक मुद्दत के बाद
तकते तकते
बादलों को लेकिन
राख से लिपट कर
पानी नदी नालौं
का खारा हो गया है
तो कौन सा
रोना हो गया है

विपदा आपदा में
बचपन से जवानी
तक खेलता कूदता
दबता निकलता
पहाड़ों की मिट्टी
नदी नालों में
लाशों को
नीलाम
करता करता
बहुत ही
मजबूत
हो गया है

ये बहुत है
खाली मुट्ठी में
किसी को
सब कुछ होने
का अहसास
इतनी जल्दी
हो गया है

कपड़े जन्मदिन
के उपहार में
मिले उससे
उतारे भी उसने
किससे
क्या कुछ
कहने को
अब रह गया है

उसकी छोड़
कर गुलामी
बदनसीबी की
अब इसके
गुलाम हो लेने
का मौसम
भी हो गया है

जन्मदिन होते
ही हैं हर साल
सालों साल
हर किसी के
‘उलूक’
इस बार भी
होना था हुआ है

क्या गया
क्या मिला
पुराना इक
हिसाब अगले
साल तक के
लिये पुराने
इस साल के
साथ ही आज
फिर से दफन
हो गया है ।

चित्र साभार: Revolutionary GIS - WordPress.com

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...